मॉर्निंग सिकनेस होने पर इससे निपटने के लिए अपनाइए आसान उपाय

By  , ओन्‍ली माई हैल्‍थ सम्पादकीय विभाग
Sep 06, 2013
Comment

हेल्‍थ संबंधी जानकारी के लिए सब्‍सक्राइब करें

Like onlymyhealth on Facebook!

Quick Bites

  • पहली तिमाही में ज्‍यादा होती है मॉर्निंग सिकनेस की समस्‍या।
  • थोड़ी-थोड़ी देर पर खाने से भी मॉर्निग का इलाज हो सकता है।
  • सुबह अदरक की चाय पीने से उल्‍टी और थकावट से मिलती है राहत।
  • कै‍ल्सियम, विटामिन और प्रोटीन लेने से नही होती शिकायत।

गर्भावस्‍था के दौरान महिला का शरीर कई बदलावों से गुजरता है और कई परेशानियों का सामना भी करता है। गर्भधारण के बाद पहली तिमाही में सबसे ज्‍यादा मॉर्निंग सिकनेस की समस्‍या होती है। मॉर्निंग सिकनेस सिर चकराने और उल्‍टी की शिकायत होती है।

Pregnancy Morning Sicknessहालांकि मॉर्निंग सिकनेस कोई गंभीर बीमारी नही है लेकिन यदि इसपर ध्‍यान न दिया जाये तो मुसीबत हो सकती है। कभी-कभी मॉर्निंग सिकनेस के लक्षण इतने तीव्र हो जाते हैं कि बार-बार उल्‍टी होने लगती है और शरीर से अधिक मात्रा में पानी निकल जाता है। इससे निर्जलीकरण की नौबत हो जाती है और इसका प्रभाव जच्‍चा और बच्‍चा पर पड़ता है।


मॉर्निंग सिकनेस में होने वाली परेशानियां

गर्भधारण करने के बाद नियमित रूप से होने वाली मॉर्निंग सिकनेस कोई बीमारी नही है। यह गर्भावस्था के दौरान शरीर में हानेवाले बदलाव का एक हिस्सा है। लेकिन जब मॉर्निंग सिकनेस के दौरान यदि बार–बार और ज्‍यादा मात्रा में उल्टियां होने लगे और इसके कारण उसके पेट में कोई भी अन्य तरल पदार्थ का रुकना मुश्‍किल हो जाए तो इसपर ध्यान दीजिए।

इस वजह से महिला को बहुत ज्यादा थकावट और बेचैनी हो सकती है। इस तरह के गंभीर मॉनिंग सिकनेस को हाइपरमेसिस ग्रेविडेरम कहते हैं, और इससे गर्भवती महिलाओं के स्वास्थ्य पर बुरा असर पड़ता है।

मॉर्निंग सिकनेस अगर लम्बे समय तक बनी रहती है तो इससे गर्भवती महिला का वजन लगातार कम होता जाएगा, इसका असर मां और बच्‍चे पर पड़ सकता है। ऐसे में भ्रूण को उचित पोषण नहीं मिलेगा और समय से पहले शिशु के जन्म होने का खतरा भी बढ़ जाता है।

मॉर्निंग सिकनेस से बचने के उपाय

 

  • सुबह बिस्तर से उठते ही तुरंत चलने फिरने की कोशिश कीजिए।
  • खाली पेट न रहें, उठने के बाद हल्‍का स्‍नैक्‍स अवश्‍य लीजिए।
  • प्रतिदिन सुबह अदरक की चाय लेने से मॉर्निंग सिकनेस ठीक होती है।
  • एपल सिडर विनेगर को शहद के साथ लेने पर मॉर्निंग सिकनेस का उपचार आसानी से हो सकता है।
  • पानी, नीबू के रस और पुदीने का मिश्रण लेने से मार्निंग सिकनेस का इलाज होता है।
  • थोड़ी-थोड़ी देर पर खाने से भी मॉर्निग का इलाज हो सकता है।
  • मॉर्निंग सिकनेस से ग्रस्‍त होने पर तला हुआ खाने से बचना चाहिए।
  • सही मात्रा में कैल्सियम और विटामिन बी लेने से मॉर्निंग सिकनेस का उपचार होता है।
  • अधिक प्रोटीन युक्त खाद्य-पदार्थ का सेवन करके मॉर्निंग सिकनेस से बचा जा सकता है।




मॉर्निंग सिकनेस में दवाओं के प्रयोग से बचना चाहिए, क्‍योंकि यदि इस दौरान दवाओं का अधिक सेवन किया गया तो इसका असर बच्‍चे पर पड़ता है और बच्‍चे के अंगो का समुचित विकास नही हो पाता। यदि आप मॉर्निंग सिकनेस से परेशान हैं तो चिकित्‍सक से अवश्‍य संपर्क करें।

 

 

Read More Articles on Pregnancy Symptoms In Hindi

Write a Review
Is it Helpful Article?YES21 Votes 6423 Views 0 Comment
प्रतिक्रिया दें
disclaimer

इस जानकारी की सटिकता, समयबद्धता और वास्‍तविकता सुनिश्‍चित करने का हर सम्‍भव प्रयास किया गया है । इसकी नैतिक जि़म्‍मेदारी ओन्‍लीमाईहैल्‍थ की नहीं है । डिस्‍क्‍लेमर:ओन्‍लीमाईहैल्‍थ पर उपलब्‍ध सभी साम्रगी केवल पाठकों की जानकारी और ज्ञानवर्धन के लिए दी गई है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्‍सक से अवश्‍य संपर्क करें। हमारा उद्देश्‍य आपको रोचक और ज्ञानवर्धक जानकारी मुहैया कराना मात्र है। आपका चिकित्‍सक आपकी सेहत के बारे में बेहतर जानता है और उसकी सलाह का कोई विकल्‍प नहीं है।

संबंधित जानकारी
  • सभी
  • लेख
  • स्लाइडशो
  • वीडियो
  • प्रश्नोत्तर