प्रेग्नेंसी में हॉर्मोन्स के बदलाव के कारण बदलता है मूड

By  , ओन्‍ली माई हैल्‍थ सम्पादकीय विभाग
Oct 19, 2013
Comment

हेल्‍थ संबंधी जानकारी के लिए सब्‍सक्राइब करें

Like onlymyhealth on Facebook!

Quick Bites

  • गर्भावस्था भावनात्मक रूप से एक अस्थिर समय होता है।
  • प्रेग्नेंसी में हार्मोन एस्ट्रोजन के कारण आता है मिजाज में बदलाव। 
  • 6 से 10 सप्ताह के दौरान होते हैं ज्यादा भावनात्मक बदलाव।
  • साथी का व्यवहार भी मूड और तनाव के स्तर का बन सकता है कारण।

 

महिलाओं में गर्भावस्था के दौरान मूड परिवर्तन होना एक सामान्य‍ सी बात है। इस दौरान महिला का शरीर कई बदलावों से होकर गुजरता है। इनमें शारीरिक और मानसिक बदलावों के साथ ही हार्मोनल बदलाव भी होते हैं। आइये जानें कैसे बदलता है प्रेग्नेंसी में हॉर्मोन के साथ मूड। 

Harmon changes in Pregnancy गर्भावस्था के दौरान मिजाज में बदलाव मां बनने की भावनात्मक अनुभूति के कारण भी होता है। गर्भावस्था एक बेहद तनावपूर्ण और भारी समय हो सकता है। एक ओर जहां होने वाले बच्चे की ,खुशी होती है, वहीं उसकी और अपनी सेहत को लेकर फिक्र।


इस दौरान गर्भवती महिला की मनोदशा में परिवर्तन, शारीरिक तनाव, थकान, चयापचय में परिवर्तन, या हार्मोन एस्ट्रोजन के कारण हो सकता है। गर्भवती महिलाओं में हार्मोन के स्तर में महत्वपूर्ण बदलाव न्यूरोट्रांसमीटर के कारण होता है, जो एक मस्तिष्क रसायन है, और मूड को प्रभावित और विनियमित करता हैं। मिजाज में बदलाव ज्यादातर 6 से 10 सप्ताह के बीच और पहली तिमाही के दौरान होता है।

गर्भावस्था भावनात्मक रूप से एक अस्थिर समय होता है, मिजाज गर्भावस्था के एक सामान्य हिस्सा हैं। इसलिए यह कोई आश्चर्य की बात नहीं है और यह स्थायी नहीं होता है।

प्रेग्नेंसी में बदलते मूड का कारण-


•    कुछ महिलाओं को अपनी बदल रहे शरीर को स्वीकार करने में परेशानी होती है, इससे भी उनका मूड बदलता है।

•    गर्भावस्था के अपने साथी की प्रतिक्रिया भी गर्भवती के मूड और तनाव के स्तर का कारण बन सकती है।

•    गर्भावस्था के दौरान थकान और अक्सर पेशाब आने जैसी शारीरिक समस्याओं के कारण भी आप बोझ महसूस कर सकते है। वैसे तो यह असामान्य नहीं है, पर आप इस समय अपने शरीर पर नियंत्रण खो देते है। इन सभी चिंताओं के कारण भी आपका मूड चेंज होता है।

 

गर्भवस्था के दौरान बदलते मूड के लक्षण-

 
•    बार-बार चिंता और चिड़चिड़ापन होना।
 
•    नींद ना आना या नींद में कमी।

•    खाने की आदतों में परिवर्तन।

•    बहुत लंबे समय के लिए कुछ भी पर ध्यान केंद्रित करने में असमर्थता या लघु स्मृति।

 

गर्भवस्था के दौरान मूड को सही रखने के तरीके-


•    अच्छी नींद लें और पर्याप्त आराम करें।

•    नियमित शारीरिक कार्य करते रहें।

•     अच्छी तरह से खायें।

•    कोशिश करें कि अपने साथी के साथ ज्यादा से ज्यादा और अच्छा समय व्यतीत करें। एक साथ फिल्म देखें।
    
•    समय निकाल कर टहलने के लिए जरूर जाए।

•    गर्भावस्था योग कक्षा जरूर ज्वाएंन करें।
 
•    शरीर को आराम देने के लिए मालिश जरूर करवाएं।

चिकित्सक से अपने बदलते मूड से निपटन की सलाह ली जा सकती है।

 

Read More Articles On Pregnancy in Hindi

Write a Review Feedback
Is it Helpful Article?YES80 Votes 54587 Views 2 Comments
प्रतिक्रिया दें
disclaimer

इस जानकारी की सटिकता, समयबद्धता और वास्‍तविकता सुनिश्‍चित करने का हर सम्‍भव प्रयास किया गया है । इसकी नैतिक जि़म्‍मेदारी ओन्‍लीमाईहैल्‍थ की नहीं है । डिस्‍क्‍लेमर:ओन्‍लीमाईहैल्‍थ पर उपलब्‍ध सभी साम्रगी केवल पाठकों की जानकारी और ज्ञानवर्धन के लिए दी गई है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्‍सक से अवश्‍य संपर्क करें। हमारा उद्देश्‍य आपको रोचक और ज्ञानवर्धक जानकारी मुहैया कराना मात्र है। आपका चिकित्‍सक आपकी सेहत के बारे में बेहतर जानता है और उसकी सलाह का कोई विकल्‍प नहीं है।

टिप्पणियाँ
  • kavita05 Sep 2012

    thanks.......for such a nice info

  • leena 05 Sep 2012

    nice article....is article me achi jaankari de hai

संबंधित जानकारी
  • सभी
  • लेख
  • स्लाइडशो
  • वीडियो
  • प्रश्नोत्तर