इकतालीसवां हफ्ते में होती है भरपूर आराम की जरूरत

By  , ओन्‍ली माई हैल्‍थ सम्पादकीय विभाग
Mar 02, 2016
Comment

हेल्‍थ संबंधी जानकारी के लिए सब्‍सक्राइब करें

Like onlymyhealth on Facebook!

Quick Bites

  • जल्‍द ही आपके घर में नन्‍हें मेहमान की किलकारियां गूंज सकती हैं।
  • इस हफ्ते में आपका वजन पहले के मुकाबले ज्‍यादा तेजी से बढ़ेगा।
  • डॉक्‍टर की तिथ‍ि से अलग भी हो सकती है प्रसव पीड़ा की दिनांक।
  • इस हफ्ते आपको पार्टनर के साथ शारीरिक संबंध नहीं बनाने चाहिए।

इकतालीसवां हफ्ता आपकी गर्भावस्‍था का अंतिम सप्‍ताह हो सकता है। जल्‍द ही आपके घर में नन्‍हें मेहमान की किलकारियां गूंजने वाली हैं। इस समय आपको भरपूर आराम की जरूरत होती है।प्रेग्‍नेंसी के नौ महीनों के दौरान वजन घटना-बढ़ना सामान्‍य प्रक्रिया है, इसमें चिंतित होने की जरूरत नहीं है। कुछ महिलाएं वजन के घटने पर परेशानी हो जाती हैं, उतार-चढ़ाव आना गर्भावस्‍था का सामान्य लक्षण है। यदि आपकी गर्भावस्था की अंतिम तिथ‍ि निकल चुकी है, तो भी तनाव लेने की जरूरत नहीं है। तनाव लेना आपके साथ ही शिशु के लिए भी खतरनाक हो सकता है। गर्भावस्‍था का 41वां हफ्ता वह समय है जब महिला गर्भावस्था के अंतिम समय में पहुंच जाती है।

pregnancy in Hindi

गर्भावस्था के नौ महीनों के दौरान स्‍वास्‍थ्‍य के प्रति सावधानी बरतनी बहुत जरूरी होती है। यदि आप 41वें हफ्ते में हैं तो पहले के मुकाबले ज्‍यादा देखभाल की जरूरत होती है। इस हफ्ते शिशु कभी भी गर्भ से बाहर आ सकता है। यदि ऐसा न हो तब भी आपको घबराने की जरूरत नहीं है। डॉक्‍टर भी कई बार नौ महीने के बाद कुछ दिन बढ़ा देते हैं, ताकि ऑपरेशन की स्थिति न आएं। इस लेख के जरिए हम आपको बताते हैं गर्भावस्‍था के 41वें हफ्ते के बारे में।


  • गर्भावस्‍था के प्रत्‍येक हफ्ते में आपको सावधानी रखने की बहुत जरूरत होती है। गर्भावस्था के अंतिम हफ्तों में मां का वजन अधिक बढ़ जाता है।
  • यदि आप गर्भावस्‍था के 40वें हफ्ते तक काम में व्यस्त हैं, तो 41वें सप्‍ताह में आपको पूरी तरह से आराम करना चाहिए।
  • कई बार कुछ गर्भवती महिलाओं को डॉक्टर द्वारा दी गई अंतिम तिथि तक भी लेबर पेन शुरू नहीं होता, तो ऐसे में
  • घबराने की जरूरत नहीं है बल्कि डॉक्टर से संपर्क करना चाहिए।
  • कई बार गर्भावस्था के शुरूआत में गर्भाधारण का देर से पता चलने पर अंतिम तिथि आगे-पीछे हो सकती है।
  • यदि आप चाहे तो अंतिम हफ्ता या अंतिम तिथ‍ि के निकलने पर भी आप गर्भस्‍थ शिशु की स्‍वास्‍थ जांच करा सकती हैं।
  • बच्चा अंतिम तिथ‍ि के दौरान भी गर्भ में स्वस्थ है और आराम से मूवमेंट कर रहा है, तो आपको को निश्‍चिंत रहना चाहिए, क्योंकि आपका चिकित्सक लगातार आपका ख्‍याल रख रहा है।
  • गर्भावस्था का 41वां हफ्ता, तीसरा ट्राइमेस्टर से बाद की स्थिति होती है। आमतौर पर पहले ट्राइमेस्टर में एक से तीन महीने यानी एक से 12 हफ्तों को शामिल किया जाता है। दूसरे ट्राइमेस्टर में तीन से छह महीने यानी 13 से 24 हफ्तों को और तीसरे ट्राइमेस्टर में 25 से 36 हफ्तों को शामिल किया जाता है।
  • 41वें हफ्ते में ज्‍यादा सावधानी की जरूरत होती है, इसलिए आपको लंबी यात्रा या पार्टनर के साथ शारीरिक संबंध आदि बनाने से बचना चाहिए।
  • इस हफ्ते में किसी भी तरह की समस्या या शं‍का होने पर आपको तुरंत अपने डॉक्टर से परामर्श करना चाहिए।
  • 41वां हफ्ता गर्भावस्था की सबसे चुनौतीपूर्ण अवधि होती है, इस अवस्था में बहुत सावधानी से कदम बढ़ाने चाहिए।
  • इस हफ्ते में गर्भाश्‍य के आकार की स्पष्‍ट रूप से वृद्धि होती है। इस दौरान तेजी से बढ़ते बच्चे को ऊर्जा की जरूरत होती है और संकुचन शुरू हो जाते हैं। जिनका अंत शिशु को जन्म के लिए तैयार करना होता है।
  • इस समय महिलाएं अन्‍य दिनों के मुकाबले बिना कुछ किए ही ज्‍यादा थकान महसूस करने लगती हैं।
  • गर्भावस्था के दौरान रहन-सहन, खान-पान का ध्यान रखते हुए स्वस्थ जीवन शैली का अपनाना बहुत जरूरी है।
  • इस हफ्ते आपको सेक्स करने से बचना चाहिए।
  • गर्भावस्था के 41वें हफ्ते में आपको अपने आहार में विटामिन की मात्रा बढ़ा देनी चाहिए। जच्चा-बच्चा की हिफाजत के लिए हल्का और पौष्‍िटक खाना अच्‍छा रहता है।
  • अब आपको गैस, मितली, खांसी-जुकाम से बचने के लिए ठंडी चीजों का सेवन नहीं करना चाहिए और हरी सब्जियों की मात्रा खाने में बढ़ा देनी चाहिए।
  • एक बार में अधिक खाने की थोड़ी-थोड़ी देर में हल्‍का भोजन करना चाहिए।
  • आहार में फल और जूस की मात्रा दोगुनी कर देनी चाहिए। बांसी फल खाने और बांसी जूस पीने से बचना चाहिए। तुरंत निकाला हुआ जूस और ताजे फलों का सेवन करना चाहिए। साथ ही आपको तैलीय खाद्य पदार्थों का सेवन भी नहीं करना चाहिए।


इस तरह गर्भवती महिलाएं अपने खानपान का ध्यान रखकर स्‍वंय को और अपने होने वाले शिशु दोनों को स्‍वस्‍थ रख सकती हैं।

 

 

Image Source-Getty

Read More Articles On Pregnancy Week in Hindi


Write a Review
Is it Helpful Article?YES32 Votes 51105 Views 0 Comment
प्रतिक्रिया दें
disclaimer

इस जानकारी की सटिकता, समयबद्धता और वास्‍तविकता सुनिश्‍चित करने का हर सम्‍भव प्रयास किया गया है । इसकी नैतिक जि़म्‍मेदारी ओन्‍लीमाईहैल्‍थ की नहीं है । डिस्‍क्‍लेमर:ओन्‍लीमाईहैल्‍थ पर उपलब्‍ध सभी साम्रगी केवल पाठकों की जानकारी और ज्ञानवर्धन के लिए दी गई है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्‍सक से अवश्‍य संपर्क करें। हमारा उद्देश्‍य आपको रोचक और ज्ञानवर्धक जानकारी मुहैया कराना मात्र है। आपका चिकित्‍सक आपकी सेहत के बारे में बेहतर जानता है और उसकी सलाह का कोई विकल्‍प नहीं है।

संबंधित जानकारी
  • सभी
  • लेख
  • स्लाइडशो
  • वीडियो
  • प्रश्नोत्तर