गर्भावस्‍था के पहले हफ्ते हो सकती है मितली की समस्‍या

By  , ओन्‍ली माई हैल्‍थ सम्पादकीय विभाग
Jul 25, 2016
Comment

हेल्‍थ संबंधी जानकारी के लिए सब्‍सक्राइब करें

Like onlymyhealth on Facebook!

Quick Bites

  • माहवारी आना बंद हो जाए तो यह है गर्भावस्‍था का लक्षण।
  • गर्भधारण होने पर सिर दर्द और पैरों में सूजन भी आती है।
  • गर्भवती महिला को जल्‍द खानपान में बदलाव करना चाहिए।
  • आहार में विटामिन, प्रोटीन और कैलोरी की मात्रा बढ़ा दें।

प्रेगनेंसी के पहले हफ्ते के दौरान महिला को अपनी प्रेगनेंसी का पता भी नहीं चल पाता। इस हफ्ते में महज भ्रूण के बनने की ही शुरुआत होती है, उसका विकास होना शुरू नहीं होता। हालाँकि इस दौरान आप प्रेग्नेंट नहीं होती हैं, लेकिन प्रेगनेंसी के 40 हफ़्तों में इसे भी गिना जाता है।गर्भधारण के बाद महिला गर्भावस्था के विभिन्न चरणों से गुजरती है। प्रारंभिक चरणों में गर्भावस्था की स्थिति का पता नहीं चलता, लेकिन डॉक्टर से बीच-बीच में जांच कराने या गर्भधारण करने की संभावना होने के बाद इस स्थिति और गर्भावस्था के शुरूआती लक्षणों को पहचाना जा सकता है। इस लेख के जरिए हम बात करते हैं प्रेग्‍नेंसी के लक्षणों और गर्भावस्था के पहले सप्‍ताह के बारे में।

Pregnancy in Hindi

पहले सप्‍ताह के लक्षण

  • पहले हफ्ते में महिला के शरीर में अंदरूनी तौर पर बहुत से बदलाव चल रहें होंते हैं, लेकिन इस दौरान शरीर के बाहर कोई बदलाव नहीं दिखता।स्वस्थ महिला को प्रतिमाह माहवारी निश्चित समय या उसके आसपास होती है, लेकिन गर्भधारण के पहले लक्षण में माहवारी आनी बंद हो जाती है। गर्भधारण के प्रारंभिक लक्षणों में जी मिचलाना, उल्टी होना, बार-बार पेशाब जाना, आदि भी शामिल है।
  • माहवारी के 14 दिन बाद ओवुलेशन का समय शुरू होता है। यह समय गर्भधारण के लिए बेहतर होता है। गर्भधारण के बाद हार्मोंन परिवर्तन होने लगते हैं, जिससे गर्भवती महिला के व्यवहार में उतार-चढ़ाव आना शुरू हो जाता है।गर्भावस्था में महिला के शरीर में हार्मोन के बढ़ने से उनका मूड हमेशा उखड़ा-उखड़ा सा रहता है। महिला को कभी अच्छा लगता है और कभी बहुत बुरा लगता है। गर्भावस्था में उल्टियां आना एक विशेष लक्षण है। बार-बार उल्टियां आने और गर्भधारण की शंका होने पर एंटीबायोटिक लेने से अच्‍छा है कि डॉक्टर की सलाह लें।
  • गर्भधारण के बाद अक्स‍र थकान रहने की शिकायत होने लगती है। सिर दर्द रहने लगता है, शुरूआती दिनों में पैरों पर सूजन दिखाई पड़ने लगती है।गर्भावस्था का प्रारंभिक दौर एक माहवारी के पूरा होने से दूसरी महावारी के शुरू होने के बीच का होता है। यानी पहली महावारी के अंतिम दिन से दूसरी महावारी तक गर्भधारण हुए 28 दिन मान लिए जाते हैं। हालांकि यह तय नहीं है, लेकिन आमतौर पर गर्भधारण की प्रक्रिया में यही फॉर्मूला अपनाया जाता है।
  • पहले हफ्ते में गर्भवती महिला के मुँह का स्‍वाद बहुत कड़वा और कसैला सा हो जाता है। उसे किसी भी भोजन सामग्री में जायका नहीं लगता, सिर्फ खट्टी चीजों का स्‍वाद ही समझ में आता है।

 

गर्भधारण के बाद आहार

  • गर्भधारण के बाद गर्भवती महिला के खान-पान में तुरंत बदलाव कर देना चाहिए। अब उसे अपने लिए नहीं बल्कि अपने गर्भ में पल रहे भ्रूण के लिए भी खाना है।गर्भधारण के तुरंत बाद यानी प्रारंभिक चरण से ही मदिरापान, नशीले पदार्थों का सेवन आदि बंद कर देना चाहिए।
  • ज्यादा दिनों से फ्रिज में सुरक्षित रखा भोज्य पदार्थ का ग्रहण ना करें। इसके अतिरिक्त अधिक ठंडा बासी या गर्म चीजों का सीधा सेवन ना करें।मौसमी फलों और सब्जियों के जूस की अधिक मात्रा भोजन में शामिल करें।
  • डॉक्टर से संपर्क कर अपनी खाने-पीने की आदतों और अन्य दिनचर्या जैसे रहन-सहन आदि के बारे में बात करनी चाहिए, ताकि डॉक्टर आपको सही सलाह दे पाएं।अपने आहार में विटामिन, प्रोटीन और कैलोरी की मात्रा बढ़ा देनी चाहिए। लेकिन ध्यान रहे विटामिन ई और सी की मात्रा कितनी ली जाए इस बारे में डॉक्टर से परामर्श कर लें।


गर्भधारण के बाद शुरूआत में विटामिन बी यानी फोलिक एसिड का सेवन करें। इस विटामिन को लेने से होने वाले बच्चे में जन्मजात दिमाग और रीढ़ की हड्डी में खराबी होने से बचा सकता है। हालांकि डॉक्टर से भी सलाह लेनी चाहिए कि क्या आप उचित मात्रा में इस विटामिन का उपयोग कर रही हैं।

 

 

Image Source-Getty

Read More Articles On Pregnancy Week In Hindi

 

Write a Review
Is it Helpful Article?YES867 Votes 102521 Views 10 Comments
प्रतिक्रिया दें
disclaimer

इस जानकारी की सटिकता, समयबद्धता और वास्‍तविकता सुनिश्‍चित करने का हर सम्‍भव प्रयास किया गया है । इसकी नैतिक जि़म्‍मेदारी ओन्‍लीमाईहैल्‍थ की नहीं है । डिस्‍क्‍लेमर:ओन्‍लीमाईहैल्‍थ पर उपलब्‍ध सभी साम्रगी केवल पाठकों की जानकारी और ज्ञानवर्धन के लिए दी गई है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्‍सक से अवश्‍य संपर्क करें। हमारा उद्देश्‍य आपको रोचक और ज्ञानवर्धक जानकारी मुहैया कराना मात्र है। आपका चिकित्‍सक आपकी सेहत के बारे में बेहतर जानता है और उसकी सलाह का कोई विकल्‍प नहीं है।

टिप्पणियाँ
  • Kewal06 Feb 2013

    Mera wife ko 14 dec'2012 ko MC hooa tha uske baad abhi tak nahi hua hai. Beech me 2-3 deen ulti v hua tha uske baad kamar dard karne laga lekin MC v abhi tak nahi hua hai keyo? Maine test v kiya lekin negative nikla, keya karan ho sakta hai please help me.

  • Vineeta 28 Sep 2012

    kya yeh jaruri hai har mahila me pregnancy ke ek hi symptoms ho?

  • minakshi14 Sep 2012

    mera period miss ho gya hai or period se 10 ya 12 din phele mujhe little bit blood aya us din mene din bhar walk karte hyue shopping ki thi . kya isse se mere pragnacy me koi effect to nhi hoga plz help .

  • vikas23 Jul 2012

    kay pregabcy ke first week me pet me dard ho skta hai to koi problem nahi ho saktiment

  • sandeep22 Jul 2012

    mere bibi ko 23 may ko mc aayi thi vo paregnet h ab 23 july ko kon sa hapta h pls reply

  • geeta11 Jun 2012

    period 37 din late hone par kaya pregnancy confom ho sakti hai

  • geeta11 Jun 2012

    period 37 din late hone par kaya pregnancy confom ho sakti hai

  • geet09 May 2012

    kay pregabcy ke first week me pet me dard ho skta hai to koi problem nahi ho sakti

  • geet09 May 2012

    kay pregabcy ke first week me pet me dard ho skta hai to koi problem nahi ho sakti

  • Puja Rauniar30 Nov 2011

    Please send the total helth tips guide on preginent women

संबंधित जानकारी
  • सभी
  • लेख
  • स्लाइडशो
  • वीडियो
  • प्रश्नोत्तर