गर्भावधि मधुमेह में सावधानी ही है बचाव

By  , ओन्‍ली माई हैल्‍थ सम्पादकीय विभाग
Jun 08, 2011
Comment

Subscribe for daily wellness inspiration

Like onlymyhealth on Facebook!

Quick Bites

  • गर्भावधि मधुमेह में अपना व गर्भस्‍थ शिशु का ध्‍यान रखें।
  • इस दौरान टहलना महिला के लिए रहता है फायदेमंद।
  • विशेषज्ञ से सलाह किए बिना कोई भी व्‍यायाम न करें।
  • घर पर जांच कर च चार्ट बनाकर डॉक्‍टर से परामर्श कर लें।

मधुमेह के कई प्रकार में से गर्भावधि मधुमेह भी एक है। गर्भावस्था के दौरान होने वाली यह समस्‍या घातक भी हो सकती है। इस तरह की समस्‍या में आप अपना ध्‍यान रख किसी भी प्रकार के जोखिम से खुद को और गर्भ में पल रहे शिशु दोनों का ख्‍याल रख सकती हैं।

precautions in gestational diabetes
आपका आहार और शिशु का स्वास्थ्य

गर्भावस्था के दौरान आपके द्वारा किए जाने वाले आहार पर गर्भ में पल रहे शिशु का स्‍वास्‍थ्‍य पूरी तरह निर्भर करता है। ऐसे में आपको अपनी आहार योजना के लिए किसी विशेषज्ञ संपर्क करना चाहिए। हो सके तो आप अपनी आहार सूची बना लें और वजन को नियंत्रित करने का हर संभव प्रयास करें। हालांकि गर्भावस्‍था के दौरान महिला का वजन बढ़ना आम है। पूरी गर्भावस्‍था के दौरान महिला का वजन 23 पाउंड से 30 पाउंड तक बढ़ जाता है।


शारीरिक श्रम के फायदे

गर्भावस्‍था के दौरान प्रतिदिन 30 मिनट तक हल्‍का व्‍यायाम करने या सुबह के समय टहलना बहुत लाभकारी होता है। व्यायाम की थोड़ी मात्रा भी आपके शरीर में इन्‍सुलिन की सही मात्रा और प्रयोग को मेनटेन करे रखता है। गर्भवती महिलाओं को व्‍यायाम करने से पहले किसी विशेषज्ञ से संपर्क करना चाहिए। विशेषज्ञ से मशविरा किए बिना आप गलत तरीके से भी व्‍यायाम कर सकती हैं।


स्वास्‍थ्‍य जांच

  • समय–समय पर चिकित्सक से संपर्क करना चाहिए। यह आपके और होने वाले शिशु दोनों के स्‍वास्‍थ्‍य के लिए ही बहुत जरूरी है। रक्‍त में शुगर की मात्रा को देखते हुए आप अपने आहार और वजन नियंत्रण के विषय में भी चिकित्सक से परामर्श ले सकती हैं।
  • शिशु के विकास के परीक्षण के लिए अल्‍ट्रासाउंड कराना भी अच्छा विकल्प है। अगर आपका बच्चा सामान्य से बड़ा है तो आपको इन्सुलिन शाट्स लेने की आवश्यकता है।
  • गर्भावधि मधुमेह की चिकित्सा का महत्वपूर्ण भाग है रक्‍त में शुगर की जांच। इसके लिए ग्लूकोजमीटर का प्रयोग आसान और सुरक्षित विकल्प है।
  • दिन में एक से दो बार घर पर ही शुगर की जांच करें और इस विषय में चिकित्सक से परामर्श लें।


थोड़ी सी सावधानी बरतकर आप किसी भी तरह की स्‍वास्‍थ्‍य संबंधी समस्‍या के खतरे से बची रह सकती हैं। साथ ही आप स्वस्थ शिशु को जन्मे दे सकती हैं।

 

 

 

Read More Articles on Gestational Diabetes in Hindi

Write Comment Read ReviewDisclaimer Feedback
Is it Helpful Article?YES8 Votes 12546 Views 0 Comment
संबंधित जानकारी
  • सभी
  • लेख
  • स्लाइडशो
  • वीडियो
  • प्रश्नोत्तर