पार्टी के बाद डिटॉक्स आहार से करें नयी शुरुआत

By  , ओन्‍ली माई हैल्‍थ सम्पादकीय विभाग
Jan 17, 2014
Comment

हेल्‍थ संबंधी जानकारी के लिए सब्‍सक्राइब करें

Like onlymyhealth on Facebook!

Quick Bites

  • खाने में हरी सब्जियां और मौसमी फल लें।
  • नारियल पानी और अन्य तरल पदार्थ लें।
  • जरूरत से ज्यादा शरीर को डिटॉक्स ना करें।
  • विटामिन बी, सी और फोलिक एसिड के स्रोतो को शामिल करें।

पार्टी यानी मस्‍ती। लेकिन, पार्टी में अक्‍सर हम अपने खानपान के प्रति कोताही बरतते हैं, नतीजा... शरीर में बड़ी मात्रा में टॉक्सिन का जमावड़ा। अस्‍वस्थ भोजन, धूम्रपान व शराब का सेवन, शरीर में इन टॉक्सिन की मात्रा बढ़ा देता है। टॉक्सिन के कारण तनाव और पाचन संबंधी समस्याएं हो सकती हैं। अगर आप इन समस्याओं से बचे रहना चाहते हैं, तो जरूरी है कि अपने शरीर में जमा इस विषैले पदार्थों यानी टॉक्सिन को बाहर निकालें।


detox foodडिटॉक्सिफिकेशन यानी शरीर में जमा विषैले पदार्थों को बाहर निकालना। इस क्रिया में शरीर को अंदर और बाहर दोनों तरह से साफ किया जाता है। डिटॉक्सिफिेकशन के लिए पहली शर्त यह है कि आप शरीर में टॉक्सिन पैदा करने वाले खाद्य पदार्थों से दूर रहें।

डिटॉक्सिफाइंग आहार और जूस भी आपके शरीर में जमा विषैले पदार्थों को बाहर करने में मदद करते हैं। जब आप मानसिक और शारीरिक रूप से बहुत ज्यादा थके हुए हों, तो डिटॉक्सिफाइंग बहुत जरूरी हो जाता है। ऐसे में आपके आहार की मुख्य भूमिका होती है।

पार्टी के बाद अक्‍सर हाजमा खराब होने की शिकायत की जाती है। इस दौरान शरीर को टॉक्सिन मुक्त करने के लिए अपने जीने का अंदाज जरा बदलना पड़ता है। अक्सर देखा गया है कि लोग पिछली पार्टियों में हुए गलत खानपान के अपराधबोध के कारण तुरंत डाइटिंग में जुट जाते हैं, लेकिन, इसका कोई फायदा नहीं होता। जरूरत इस बात की है कि आप संतुलित आहार अपनायें और उचित कसरत करें। आइए जानें पार्टी के बाद कैसे हो आपका आहार।

तरल पदार्थ लें

पानी शरीर से विषैले पदार्थों को बाहर निकालने में मदद करता है। ऐसे में जरूरी है कि आप खूब पानी पियें। आप चाहें तो ताजा हरे नारियल के जूस भी ले सकते हैं। इसमें कई इलेक्ट्रोलाइट्स और एंटीआक्सीडेंट होते हैं, जो शरीर से टॉक्सिन को निकाल कर बॉडी सिस्टम को साफ करते हैं। नारियल पानी में बड़ी मात्रा में शरीर से विषैले पदार्थों को बाहर निकालने की गजब की क्षमता  होती है। यही वजह है कि किसी भी तरह की बीमारी से ग्रस्त रोगी को हमेशा नारियल पानी पीने की सलाह दी जाती है।

नमक वाले आहार ना लें

ज्यादा नमक वाले आहार लेने से परहेज करें। इनमें प्रोसेस्ड फूड तथा रेडीमेड सूप्स भी शामिल हैं। चाइनीज फूड भी आपके लिए अच्‍छे नहीं होते, इनमें मोनोसोडियम ग्लूटामेट होता है, जिससे आपके शरीर को नुकसान हो सकता है। अगर आप जब तक डिटॉक्‍सिफिकेशन की प्रक्रिया से गुजर रहे हैं, तब तक इनका सेवन बंद कर दें।

पालक का सेवन करें

पालक में डिटॉक्सिफाइंग का गुण बड़ी मात्रा में पाया जाता है। आप चाहें तो पालक को सब्जी अथवा सूप के रूप में ले सकते हैं। पालक के पत्तों को पीसकर पेस्ट तैयार कर लें, इसे पतला करने के लिए इसमें पानी मिलाएं। अच्छे स्वाद के लिए इसमें नींबू के कुछ बूंद और काली मिर्च मिला सकते हैं। फिर इसे पी लें, इससे आपको काफी लाभ होगा।

ग्रीन एप्पल

हमारे शरीर और ब्लड को साफ और डिटॉक्सिफाइंग करने के ग्रीन एप्प्ल भी काफी असरदार होता है। हालांकि इसका स्वाद थोड़ा तीखा होता है, पर डिटॉक्सिफाइंग के लिए इस्तेमाल किए जाने वाले अन्य जूस की तुलना में इसका फ्लेवर काफी अच्छा होता है। एप्पल जूस को हर रोज खासकर सुबह के समय लेना चाहिए। यह शरीर को अंदर से साफ करता है।

फाइबर युक्त आहार

भोजन में अधिक से अधिक रेशे शामिल करें ताकि कब्ज न रहे। रात को सोने से पहले इसबगोल की भूसी पानी के साथ ले सकते हैं। दिन की शुरुआत ओट्स के नाश्ते से कर सकते हैं।एक ही बार में पेट भरने की कोशिश न करें। भोजन हल्का और टुकड़ों में करें। शाम को 7 बजे के बाद भोजन न करें।

विटामिन-मिरल हैं जरूरी

फोलिक एसिड, विटामिन-बी, कैल्शियम, विटामिन सी, और डी तथा बी-12 की मात्रा शरीर में बनाए रखें। रोजाना जरूरत के मुताबिक विटामिन और मिनरल का सेवन करें। ऐसा करना सेहतमंद रहने के लिए जरूरी है।

जरूरत से ज्यादा डिटॉक्स ना करें

लगातार पार्टियों के बाद पेट खराब रहने लगा हो तो ग्लूटामिन, अलोविरा का जूस , लिकोराइस तथा जिंक की खुराक लें। अत्यधिक डिटॉक्स भी न करें क्योंकि इसके विपरीत परिणाम भी हो सकते हैं। इससे आंतों में मौजूद गुड बैक्टेरिया भी मर सकता हैं। दही, छांछ के अलावा लैक्टोबैसिलियस को भी डिटॉक्स करने की प्रक्रिया का हिस्सा बनाएं।

मौसमी फलों का सेवन

इस समय सभी तरह के रसीले फल बाजार में आ जाते हैं। मसलन नियमित रूप से तरबूज, खीरा, ककड़ी, संतरा, अंगूर तथा सेवफल का रस ले सकते हैं। छांछ भी एक बेहतर विकल्प है। सब्जियों का ताजा रस भी स्वास्थवर्धक होता है। नींबू, अदरक, शलगम तथा बीटरूट का रस भी डिटॉक्स करने में मदद करता है।

 

अच्‍छा तो यही है कि आप नियमित रूप से अपने आहार का खयाल रखें। ऐसा कुछ खाने से बचें, जिससे आपकी सेहत पर विपरीत असर पड़ने का खतरा हो। संतुलित आहार को आपनी आदत बना लें। और हां इन तरीकों के बाद भी आपकी परेशानी खत्‍म न हो, तो बेहतर यही रहेगा कि आप किसी डॉक्‍टर से संपर्क करें।

Read More Articles On Healthy Eating In Hindi

Write a Review
Is it Helpful Article?YES4 Votes 1628 Views 0 Comment
प्रतिक्रिया दें
disclaimer

इस जानकारी की सटिकता, समयबद्धता और वास्‍तविकता सुनिश्‍चित करने का हर सम्‍भव प्रयास किया गया है । इसकी नैतिक जि़म्‍मेदारी ओन्‍लीमाईहैल्‍थ की नहीं है । डिस्‍क्‍लेमर:ओन्‍लीमाईहैल्‍थ पर उपलब्‍ध सभी साम्रगी केवल पाठकों की जानकारी और ज्ञानवर्धन के लिए दी गई है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्‍सक से अवश्‍य संपर्क करें। हमारा उद्देश्‍य आपको रोचक और ज्ञानवर्धक जानकारी मुहैया कराना मात्र है। आपका चिकित्‍सक आपकी सेहत के बारे में बेहतर जानता है और उसकी सलाह का कोई विकल्‍प नहीं है।

संबंधित जानकारी
  • सभी
  • लेख
  • स्लाइडशो
  • वीडियो
  • प्रश्नोत्तर