फिजियोथेरेपी है इन 5 लाइलाज बीमारियों का इलाज

By  , ओन्‍ली माई हैल्‍थ सम्पादकीय विभाग
Mar 23, 2017
Comment

Subscribe for daily wellness inspiration

Like onlymyhealth on Facebook!

Quick Bites

  • फिज़ियोथेरेपी एक स्वास्थ्य प्रणाली मानी जाती है।
  • कई लाइलाज रोगों का उपचार है फिजियोथेरेपी।
  • फिजियोथेरेपी में बिना दवाई और सुई के होता है इलाज।

व्यायाम के जरिए मांसपेशियों को सक्रिय बनाकर किए जाने वाले इलाज की विधा भौतिक चिकित्सा या फिजियोथेरेपी या 'फिजिकल थेरेपी' (Physical therapy) कहलाती है। फिज़ियोथेरेपी एक स्वास्थ्य प्रणाली मानी जाती है, जिसमे लोगों का परीक्षण किया जाता है एवं उपचार प्रदान किये जाते हैं ताकि वे आजीवन अधिकाधिक गतिशीलता और क्रियात्मकता विकसित करें और उसे बनाये रख सकें। इसके अन्तर्गत वे उपचार आते हैं जिनमे व्यक्ति की गतिशीलता आयु, चोट, बीमारी और वातावरण सम्बन्धी कारणों से खतरे में पड़ जाती है। शारदा हॉस्पिटल, ग्रेटर नोएडा के फिजियोथेरेपिस्‍ट डॉक्‍टर कपिल चौधरी बता रहें हैं फिजियोथेरेपी से इन 5 गंभीर बीमारियों के उपचार के बारे में...

इसे भी पढ़ें: योग करने से पहले जरूर जान लीजिये ये बात

physiotherapy

घुटनों का दर्द

एक उम्र के बाद घुटनों का दर्द एक आम समस्‍या बन गई है। घुटनों में मौजूद साइनोविल फ्लूड कम होने पर घुटने की ह‍ड्डियां आपस में रगड़ने लगती हैं और सर्फेस रफ हो जाता है, जिससे घुटनों में असहनीय पीड़ा होती है। घुटनों का दर्द अगर प्रारंभिक स्‍टेज में है तो फिजियोथेरेपी बहुत ही अच्‍छा विकल्‍प है। इसमें एक्‍सपर्ट अलग-अलग एक्‍सरसाइज के माध्‍यम से मरीज के मसल्‍स को मजबूत करते हैं, जिससे घुटने की उम्र 20 साल तक बढ़ जाती है और आपको पेन किलर नही खानी पड़ती है।

इसे भी पढ़ें: 60 सेकेण्‍ड में कमर दर्द को करें छूमंतर

कमर का दर्द

अक्‍सर गलत पोश्‍चर या किसी तरह की दुर्घटना के कारण लोगों में कमर दर्द की समस्‍या रहती है। Low Back Pain की प्रॉब्‍लम सबसे ज्‍यादा देखने को मिलती है। दरअसल, हमारी बॉडी का सर्वाइक और लंबर प्‍वाइंट सबसे ज्‍यादा मूव होता है। जिससे Back Pain की समस्‍या होती है। ऐसी स्थिति में अगर फिजियोथेरेपी कराई जाए तो इस दर्द से आप छुटकारा पा सकते हैं। Back Pain या कमर दर्द में भी फिजियोथेरेपिस्‍ट अलग-अलग एक्‍सरसाइज के माध्‍यम से दर्द को को ठीक करते हैं।

 

फ्रैक्‍चर

फ्रैक्‍चर में सर्जरी के बाद होने वाले दर्द को भी फिजियोथेरेपी के माध्‍यम से बिना दवा के ठीक किया जा सकता है। इसमें एक्‍सपर्ट एक्‍सरसाइज की मदद से फ्रैक्‍चर के आसपास की मांसपेशियों को मजबूत बना देते हैं। इसमें ज्‍वाइंट का मोबलाइजेशन किया जाता है, जिससे दर्द दूर हो जाता है।

 

अस्‍थमा

बदलती जीवनशैली में अस्‍थमा केवल बुजुर्गों को ही नही बल्कि कम उम्र के लोगों में देखने को मिल रही है। अस्‍थमा एक जानलेवा बीमारी है, जिससे ज्‍यादातर लोग ग्रसित होते हैं। इस समस्‍या से निजात पाने के लिए फिजियोथेरेपी अच्‍छा विकल्‍प हो सकता है। एक्‍सपर्ट के मु‍ताबिक, अस्‍थमा में मरीज को अलग-अलग ब्रीदिंग एक्‍सरसाइज कराई जाती है, जिससे फेफड़े मजबूत हो जाएं और अस्‍थमा से निजात मिल सके।

 

गर्भावस्‍था में

फिजियोथेरेपी का प्रयोग स्‍त्री रोगों में भी किया जाता है। गर्भवती महिलाओं को अलग-अलग एक्‍सरसाइज कराई जाती है जिससे डिलीवरी में कोई प्रॉब्‍लम न हो। आमतौर डिलीवरी से पहले और बाद भी महिलाओं को फिजियोथेरेपी दी जाती है। अक्‍सर डिलीवरी के बाद महिलाओं का वजन बढ़ जाता है, मसल्‍स लूज हो जाते हैं। मसल्‍स को सही देने के लिए फिजिकल थेरेपी जरूरी होता है।

 

ऐसे अन्य स्टोरीज के लिए डाउनलोड करें: ओनलीमायहेल्थ ऐप

Image Source : Getty

Read More Articles On Alternative Therapy In Hindi

Write Comment Read ReviewDisclaimer Feedback
Is it Helpful Article?YES2715 Views 0 Comment
संबंधित जानकारी
  • सभी
  • लेख
  • स्लाइडशो
  • वीडियो
  • प्रश्नोत्तर