पसीने की ग्रंथि से भरेंगे जख्‍म

By  , ओन्‍ली माई हैल्‍थ सम्पादकीय विभाग
Nov 22, 2012
Comment

Subscribe for daily wellness inspiration

Like onlymyhealth on Facebook!

pasine ki granthi se bharenge zakhm

शरीर के जख्‍मों को ठीक करने के लिए आम तौर पर हम दवाओं और मरहम का इस्‍तेमाल करते हैं। लेकिन, इतना सब करने के बाद भी कई बार जख्‍म को ठीक होने में बड़ा लंबा वक्‍त लग जाता है। लेकिन, वैज्ञानिक इस समस्‍या से निजात दिलाने के बेहद करीब पहुंच गए हैं। वैज्ञानिकों ने जख्‍मों को प्राकृतिक रूप से भरने के कारकों को तलाशने का दावा किया है। 

[इसे भी पढ़े- गर्मी में जरुरी है पसीना आना]

यूनिवर्सिटी ऑफ म‍िशिगन हेल्‍थ सिस्‍टम रिसर्च के शोधकर्ताओं ने लगातार अध्‍ययन के बाद यह निष्‍कर्ष निकाला है। पसीने की ग्रंथियों और जख्‍म के जल्‍दी भरने के बीच के संबंध का पता लगाया है।

नए अध्‍ययन में पता चला है कि शरीर के तापमान को नियंत्रित करने वाली पसीने की ग्रंथि या स्‍वेद ब्‍लैंड जख्‍मों को भरने में भी मददगार होती है। त्‍वचा के छिलने, जलने या अल्‍सर से पैदा हुए जख्‍मों को ठीक करने में स्‍वेद ग्रंथि प्राकृतिक रूप से काम करती है। शरीर में कई स्‍वेद ग्रंथियां मौजूद होती हैं। कड़ी मेहनत करने या कसरत करने के बाद हमारे शरीर का तापमान बढ़ जाता है। और यह गर्म हो जाता है। ये ग्रंथियां उस गर्मी को शांत करती हैं और शरीर को ठंडा कर उसका तापमान सामान्‍य लाने का काम करती हैं। इन्‍हीं ग्रंथियों से पसीना निकलता है।

अब वैज्ञानिक यह पता लगाने में कामयाब हुए हैं कि यही ये ग्रंथियां घावों को भरने वाली कोशिकाओं की सक्रियता बढ़ाने में भी मदद करती हैं। नतीजतन जख्‍म जल्‍दी ठीक हो जाते हैं। 

शोधकर्ताओं का मानना है कि अल्‍सर समेत त्‍वचा को हुए अन्‍य किस्‍म के संक्रमण जो जल्‍दी ठीक नहीं होते, सेहत पर बहुत बुसर असर डालते हैं जिनसे लंबे सम तक मरीज जूझते रहते हैं।

शोधकर्ताओं को इस बात की भी उम्‍मीद है कि इस खोज के बाद वे उन दवाओं को अच्‍दी तरह से जांच सकेंगे और उन्‍हें बेहतर बनाने के प्रयास कर सकेंगे जो घावों को ठीक करने के लिए बनाई जाती है। उन्‍होंने यह भी बताया कि स्‍वेद ग्रंथियों पर अब तक काफी कम अध्‍ययन हुए हैं। 

इस लिहाज से भी नई खोज काफी महत्त्‍वपूर्ण है। घावों को भरने की प्रक्रिया के बारे में अब तक यह माना जाता है कि रोम छिद्रों से नई त्‍वचा कोशिकाएं निकलती हैं जो घावों को जल्‍द ठीक करने में मददगार हैं।

 

Read More Article On- Health news in hindi

Write Comment Read ReviewDisclaimer Feedback
Is it Helpful Article?YES11477 Views 0 Comment
संबंधित जानकारी
  • सभी
  • लेख
  • स्लाइडशो
  • वीडियो
  • प्रश्नोत्तर