पहले तीन महीनों में मिसकैरेज के कारण

By  , ओन्‍ली माई हैल्‍थ सम्पादकीय विभाग
Apr 24, 2012
Comment

Subscribe for daily wellness inspiration

Like onlymyhealth on Facebook!

Quick Bites

  • बच्चेदानी में किसी समस्या होने के कारण गर्भपात हो सकता है।
  • शराब या धूम्रपान करने से भी गर्भपात हो सकता है।
  • कोई लंबी बीमारी भी गर्भपात का कारण बन सकती है।
  • शारिरीक कमी के कारण गर्भपात का खतरा बढ़ जाता है।

पहले तीन महीनों में मिसकैरेज होना किसी भी महिला के लिए आम होता है, अन्य दूसरे महीनों के मुकाबले, गर्भधारण के प्रथम चरण यानी पहले 20 दिनों में कई बार औरतों को यह पता ही नहीं होता की वह गर्भवती है, वह इसका ध्यान नहीं देती और मिसकैरेज हो जाता है।

pahale teen mahino me miscarriage ke karan

आमतौर पर मिसकैरेज की मेडिकल वजहें होती है मसलन जेनेटिक कारण, प्लासेंटा की स्थिति, वजाइना में लगातार इन्फेक्शन, डायबिटीज की वजह से होने वाला इन्फेक्शन, गलत मेडीसिन खाना आदि। पहले ट्राइमेस्टर में होनेवाले 90 फीसदी मिसकैरेज जिनेटिक कारणों से होते हैं। ज्यादा उछल, कूद डांस, दूसरे बच्चे का बहुत जल्दी आना भी मिसकैरेज की वजह बन सकता है।

  • पहले तीन महीनों में मिसकैरेज होने का सबसे बड़ा कारण है बच्चेदानी में खराबी। 30 से 35 प्रतिशत मामलों में महिलाओं की बच्चेदानी मे समस्या होने के कारण गर्भपात हो जाता है।
  • बच्चेदानी में किसी प्रकार रोग व संक्रमण होने के कारण गर्भ नहीं ठहर पाता है।
  • ज्यादातर बच्चेदानी के रोग इलाज से ही ठीक हो जाते है लेकिन अगर इसमें पहले से ही कोई खराबी है तो इसके ठीक होने के चांस बहुत ही कम होते है। जैसे किसी महिला की बच्चेदानी एक ना होकर 2 भागों मे बंटी हो। इसमें गर्भ बच्चेदानी के किसी एक भाग में हो सकता है या दोनो भागों में भी। इस तरह अगर बच्चेदानी का आकार सामान्य से आधा होगा तो इसमे बच्चे को पूरा पोषण नहीं मिल पाएगा और ना ही गर्भ का पूरी तरह विकास हो पाएगा जिसके कारण गर्भ आधे-अधूरे मे ही गिर जाता है।
  • महिलाओं में पहले के तीन महीनों में मिसकैरेज के कारणों में शराब, सिगरेट पीना या नशीली दवाओं का सेवन करना है।
  • किसी लम्बी बीमारी के कारण लगातार कई वर्षों तक दवाईयों का सेवन करना, जिनमें ड्रग्‍स की मात्रा ज्यादा हो। पहले तीन महिनों में मिसकैरेज के कारणों में से 50 प्रतिशत मामलों में पुरुष दोषी होते हैं। जिसका कारण होता है पुरुष के वीर्य में किसी तरह की खराबी होना। किसी-किसी पुरुष के वीर्य में बच्चे को बनाने वाले जीवाणु ही नहीं होते। लेकिन अगर उनके जीन्स में वंशानुगत खराबी हो या किसी और तरह को वीर्य दोष हो तो इसके कारण कई बार महिलाओं को मिसकैरेज हो सकता है।
  • किसी प्रकार की शारीरिक कमी के कारण गर्भधारण करने की क्षमता में कमी भी कई बार मिसकैरेज का कारण बनती है।
  • कई बार महिलाओं में मिसकैरेज शरीर में किसी तरह के रोगों के कारण होता है। उपदंश रोग में महिलाओं का गर्भ ठहर तो जाता है लेकिन अक्सर गर्भपात हो जाता है। ऐसे ही मधुमेह रोग में भी गर्भपात होने के चांस बहुत ज्यादा होते है। लेकिन अगर सही तरीके से इलाज कर लिया जाए तो हालात को सुधारा जा सकता है। मिसकैरेज होने के लिए जो रोग जिम्मेदार हैं, वह मधुमेह, उपदंश, क्रानिक नेफराइटिस, गुर्दे में खराबी, हाई ब्लडप्रेशर, बच्चेदानी में रसौली और एनीमिया या पोषण की कमी आदि।
  • पहले तीन महीनों में मिसकैरेज के कारणों में कई बार जहरीली गैस, कीटनाशक के संर्पक में आना, या किसी रेडियेशन के कारण भी मिसकैरेज होता है। एक बार मिसकैरेज होने पर तीन महीने बाद ही गर्भधारण करें।

 

Read More Articles on Miscarriage in Hindi.

Write Comment Read ReviewDisclaimer Feedback
Is it Helpful Article?YES90 Votes 61463 Views 0 Comment