ऑफिस में सेहत सुधारने की तैयारी

By  , ओन्‍ली माई हैल्‍थ सम्पादकीय विभाग
Nov 09, 2012
Comment

हेल्‍थ संबंधी जानकारी के लिए सब्‍सक्राइब करें

Like onlymyhealth on Facebook!

office me sehat sudharne ki taiyari

जरा सोचिए... ऑफिस में काम की मारा-मारी कम हो। हर तीन घंटे में 15 मिनट का ब्रेक मिले। और इस ब्रेक में कैंटीन में समोसे, ब्रेड पकौड़े की जगह पोहा, उपमा और फ्रूट सलाद जैसी सेहतमंद चीजें खाने को मिलें तो। और तो और हर ऑफिस में जिम हो और दिन में एक घंटा उस जिम में बिताना हर किसी के लिए जरूरी हो। यही नहीं, ऑफिस के कॉमन रूम में मनोरंजन के सभी साधन मौजूद हों। और कहीं आप नाइट शिफ्ट में हों तो आपको दो घंटे का ब्रेक भी मिले। अरे... अभी बात खत्म कहां हुयी है। आप जिनके लिए तरस जाते हैं, घर के कामों के लिए आपको आसानी से वो छु‍ट्टियां भी मिल जाएं। अब आप कहेंगे कि जनाब क्यों सपना दिखा रहे हो। लेकिन, यकीन जानिए अगर सब कुछ ठीक रहा तो ये सब हकीकत बन सकता है।

 

[इसे भी पढ़े : ऑफिस में दिखें हर पल तरोताजा]

 

केंद्रीय स्वास्थ्‍य विभाग ने स्वयंसेवी संस्थाओं की मदद से कार्यस्थलों को बेहतर बनाने की दिशा में काम शुरू करने का फैसला किया है। इसके लिए दिशा-निर्देश जारी किए हैं, जिसमें ये सब बातें शामिल हैं।

पब्लिक हेल्थ फाउंडेशन के मुताबिक इन दिशा-निर्देशों में तंबाकू उत्पादों पर प्रतिबंध, कैंटीन में खाने की सेहतमंद चीजें बनवाने, शारीरिक व्यायाम के लिए जिम व अन्य सुविधाएं मुहैया कराने और मनोरंजन के साधन आदि उपलब्ध कराने की बात कही गयी है। इसके साथ घर और काम के बीच बेहतर संतुलन बनाने पर भी जोर दिया गया है।

 

[इसे भी पढ़े : आफिस स्‍वास्‍थ्‍य के नुस्‍खे]

 

जो कंपनियां इन सब उपायों को बेहतर तरीके से अमल में लाएंगी उनके लिए पुरस्कार की योजना भी बनाई गयी है। इसके लिए तीन श्रेणियों का निर्माण किया गया है- गोल्डा, सिल्वमर और ब्रॉन्जं।

विश्व स्वास्थ्‍य संगठन की रिपोर्ट के मुताबिक, डायबिटीज और दिल की बीमारियों के 80 फीसदी मामलों को स्वस्थ‍ जीवनशैली अपनाकर नियंत्रित किया जा सकता है। इसके साथ कैंसर के भी 40 फीसदी मामले में जीवनशैली के जरिए नियंत्रित किए जा सकते हैं। ऐसे में अगर ऑफिस में भी स्वास्‍थ्‍य संबंधी दिशा-निर्देशों का पालन किया जाए तो इस समस्या को काफी कम किया जा सकता है। इन दिशा-निर्देशों के मानकों को लागू करने के लिए समय-समय पर कं‍पनियों को ट्रेनिंग भी दी जाएगी।

 

Read More Article on Health News in hindi.

Write a Review Feedback
Is it Helpful Article?YES11308 Views 0 Comment
प्रतिक्रिया दें
disclaimer

इस जानकारी की सटिकता, समयबद्धता और वास्‍तविकता सुनिश्‍चित करने का हर सम्‍भव प्रयास किया गया है । इसकी नैतिक जि़म्‍मेदारी ओन्‍लीमाईहैल्‍थ की नहीं है । डिस्‍क्‍लेमर:ओन्‍लीमाईहैल्‍थ पर उपलब्‍ध सभी साम्रगी केवल पाठकों की जानकारी और ज्ञानवर्धन के लिए दी गई है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्‍सक से अवश्‍य संपर्क करें। हमारा उद्देश्‍य आपको रोचक और ज्ञानवर्धक जानकारी मुहैया कराना मात्र है। आपका चिकित्‍सक आपकी सेहत के बारे में बेहतर जानता है और उसकी सलाह का कोई विकल्‍प नहीं है।

संबंधित जानकारी
  • सभी
  • लेख
  • स्लाइडशो
  • वीडियो
  • प्रश्नोत्तर