मोटापा और विटामिन डी की कमी से डायबिटीज का खतरा

By  , ओन्‍ली माई हैल्‍थ सम्पादकीय विभाग
Jul 01, 2014
Comment

हेल्‍थ संबंधी जानकारी के लिए सब्‍सक्राइब करें

Like onlymyhealth on Facebook!

Quick Bites

  • मोटापा और विटामिन डी की कमी से बढ़ता है डायबिटीज का खतरा।
  • इन दोनों की कमी से शरीर में इंसुलिन की मात्रा होती है अनियंत्रित।
  • साधारण लोगों की तुलना में ऐसे लोगों में 32 प्रतिशत अधिक खतरा।
  • स्‍वस्‍थ खानपान और नियमित व्‍यायाम से किया जा सकता है बचाव।

डायबिटीज यानी मधुमेह एक ऐसी बीमारी है जो एक बार हो जाये तो समाप्‍त नहीं होती। स्‍वस्‍थ जीवनशैली और खानपान की आदतों में सुधार लाकर इसके प्रकोप को कम किया जा सकता है।

मधुमेह की बड़‌ी वजह मोटापा है यह तो आप जानते हैं लेकिन क्या आपको यह भी पता है कि मोटापे के साथ-साथ विटामिन डी की कमी भी इस रोग के लिए जिम्‍मेदार प्रमुख कारकों में से एक है। इस लेख में विस्‍तार से जनिये कि ये दोनों मधुमेह के लिए कैसे हैं जिम्‍मेदार।

Lack of Vitamin D Increases Diabetes Risk in Hindi

क्‍या कहते हैं शोध

डायबिटीज केयर जर्नल में प्रकाशित शोध की मानें तो अगर मोटापे और विटामिन डी की समस्या किसी व्यक्ति को एकसाथ हो तो शरीर में इंसुलिन की मात्रा को असंतुलित करने वाली इस बीमारी के होने का खतरा और भी बढ़ जाता है।

इस शोध के लिए वैज्ञानिकों ने लगभग 6000 लोगों पर अध्‍ययन किया। उन्होंने पाया कि जो व्यक्ति मोटापे से परेशान हैं लेकिन उनके शरीर में विटामिन डी की पर्याप्त मात्रा है। उनमें साधारण व्यक्तियों की तुलना में इंसुलिन असंतुलन की संभावना 20 गुना अधिक थी। लेकिन जिन लोगों में मोटापा और विटामिन डी का अभाव यह दोनों लक्षण दिखाई दे रहे हैं, उनमें यह आशंका 32 गुना अधिक थी।

 

शोध का निष्‍कर्ष

शोध के निष्कर्षों के अनुसार स्वतंत्र रूप से ये दोनों वजहें जिस अनुपात में इंसुलिन के असंतुलन कि वजह बन सकते हैं, उससे बहुत अधिक मात्रा में इस समस्या की आशंका इन दोनों घटकों में एक साथ होने से बढ़ सकती है। शोधकर्ताओं का मानना है कि इस अध्ययन के आधार पर डायबिटीज से निपटने में विटामिन डी का इंजेक्शन प्रभावी विकल्प हो सकता है।

Obesity and Lack of Vitamin D in Hindi

कैसे बचें मधुमेह से

  • डायबिटीज से बचाव करना चाहते हैं तो पोषक आहार का सेवन बहुत जरूरी है। इसके अलावा नियमित व्‍यायाम और अपने वजन पर भी नियंत्रण रखें।
  • स्वास्थ्य विशेषज्ञों की मानें तो पोषण और आहार मधुमेह से जुड़ी जटिलताओं से बचाने, नियंत्रण करने और उन्हें धीमा करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं।
  • नाश्ता, दोपहर का खाना व डिनर आपके खून में शुगर के स्तर को नियंत्रित करने में मदद करते हैं।
  • खाने में पास्ता, अनाज, रोटी, आलू, शकरकंद और चावल शामिल करें। ये रक्त के शर्करा स्तर को नियंत्रित करने में सहायक हैं।
  • जरूरी विटामिन, खनिज और फाइबर को पूरा करने के लिए भोजन में फलों और हरी सब्जियों को शामिल कीजिए।
  • चीनी मुक्त विकल्पों को अपनाएं, एक दिन में 2,300 मिली ग्राम से कम नमक का सेवन कीजिए।



स्‍वस्‍थ खानपान के साथ-साथ हेल्‍दी लाइफस्‍टाइल भी मधुमेह से बचने में आपकी मदद करता है। फिट रहने के लिए नियमित व्‍यायाम को अपनी दिनचर्या में शामिल कीजिए।

 

Read More Articles on Diabetes in Hindi

Write a Review
Is it Helpful Article?YES6 Votes 2057 Views 0 Comment
प्रतिक्रिया दें
disclaimer

इस जानकारी की सटिकता, समयबद्धता और वास्‍तविकता सुनिश्‍चित करने का हर सम्‍भव प्रयास किया गया है । इसकी नैतिक जि़म्‍मेदारी ओन्‍लीमाईहैल्‍थ की नहीं है । डिस्‍क्‍लेमर:ओन्‍लीमाईहैल्‍थ पर उपलब्‍ध सभी साम्रगी केवल पाठकों की जानकारी और ज्ञानवर्धन के लिए दी गई है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्‍सक से अवश्‍य संपर्क करें। हमारा उद्देश्‍य आपको रोचक और ज्ञानवर्धक जानकारी मुहैया कराना मात्र है। आपका चिकित्‍सक आपकी सेहत के बारे में बेहतर जानता है और उसकी सलाह का कोई विकल्‍प नहीं है।

संबंधित जानकारी
  • सभी
  • लेख
  • स्लाइडशो
  • वीडियो
  • प्रश्नोत्तर