न सिर्फ हाई हील बल्कि फ्लैट चप्पल भी दे सकती हैं दर्द

By  , ओन्‍ली माई हैल्‍थ सम्पादकीय विभाग
Sep 25, 2014
Comment

हेल्‍थ संबंधी जानकारी के लिए सब्‍सक्राइब करें

Like onlymyhealth on Facebook!

Quick Bites

  • फ्लैट या फ्लिप फ्लॉप फुटवीयर भी पहुंचा सकते हैं नुकसान।
  • फुटवियर का चुनाव करते समय पैरों की संरचना पर दें ध्यान।
  • इससे पैर के अंगूठे व उंगलियों के बीच का गैप बढ़ सकता है।
  • फ्लेट चप्पलें हमेशा मोटे सोल या बीच में उभार वाली खरीदें।

हाई हील्स पहनने से शरीर और पैरों को होने वाले नुकसान पर अक्सर चर्चा होती रहती है, और इनसे नुकसान होता भी है। लेकिन आपको बता दें कि हर समय बिल्कुल फ्लैट चप्पल पहनना भी सेहत के लिए नुकसानदायक हो सकता है। फ्लैट चप्पल पहने रहने से पैरों की गोलाई को सहारा नहीं मिलता, साथ ही एड़ियों पर भी अतिरिक्त दबाव बनता है और एड़ी में दर्द होने लगता है। तो चलिये जानें कि ऐसा क्यों होता है, और इससे बचने के लिए क्या सावधानियां बरती जाएं। 


कहते हैं कि एक साधारण इंसान अपने पूरे जीवनकाल में औसतन इतना चल लेता है, जितने में पूरी पृथ्वी के तीन चक्कर लगाये जा सकते हैं। इससे ये तो समझा ही जा सकता है कि हमारे पांवों पर कितना दबाव होता होगा। तो ऐसे में गलत फुटवियर पहनना पैरों और सेहत के लिए भारी पड़ सकता है। इसलिए फुटवियर का चुनाव करते समय पैरों की संरचना, उनकी लंबाई व तलवे का ध्यान रखते हुए ही इन्हें खरीदना और पहनना चाहिए। फुटवियर्स खरीदते समय पैरों की संरचना जैसे पैरों की लंबाई, पंजों की फैलावट और पैरों के तलुओं की गोलाई आदि का ध्यान रखना बेहद आवश्यक होता है। क्योंकि सही फुटवियर पहनने से अंगूठे की हड्डी बढ़ने (बनियंस), कमर दर्द, घुटने में दर्द, पिंडलियों में दर्द, चाल खराब होना आदि कई शारीरिक परेशानियों से बचा सकता है।

 

Flat Footwear Pain in Hindi

 

फ्लैट चप्पलों को ज्यादा पहनने से नुकसान

हाई हील के नुकसानों से बचने के लिए अक्सर लोग दिन भर फ्लैट चप्पलों (फ्लिप फ्लॉप्स) का उपयोग करने लगते हैं। लेकिन इनको चुनने में की गई कोई चूक भी कई समस्याओं का कारण बन सकती है। तो यदि आप भी पूरे दिन फ्लैट चप्पलों में रहते हैं तो इसका सही चुनाव करें। अन्यथा निम्न समस्याएं हो सकती हैं।  

पैरों के अंगूठों में परेशानी

यदि आप स्लिपर या फ्लिप फ्लॉप चप्पल पूरे-पूरे दिन पहनकर रखते हैं तो कुछ समय बाद इसका प्रभाव पैरों के अंगूठों पर पड़ सकता है। इससे पैर के अंगूठे और उंगलियों के बीच की जगह (गैप) बढ़ सकती है। जिस कारण पैरों की मसल्स को भी नुकसान पहुंच सकता है। साथ ही, चप्पल की ग्रिप बनाने के लिए अंगूठे पर जो दबाव पड़ता है, समय बीतने पर इससे टेंडिनाइटिस की समस्या भी हो सकती है।

 

Flat Footwear Pain in Hindi

 

फ्लैट फुट या एड़ी में दिक्कत

फ्लैट फुटवीयर के अधिक इस्तेमाल से फ्लैट फुट की समस्या भी हो सकती है। इसके कारण तलवे का आकार कर्वी (घुमावदार) होने के बजाय चपटा हो जाता है, जिसकी वजह से पैरों में दर्द और भारीपन आदि की शिकायद हो सकती हैं। वहीं ऑबर्न यूनिवर्सिटी के शोधकर्ताओं द्वारा किये एक शोध से पता चला था कि लगातार काफी समय तक फ्लैट या हवाई चप्पल पहनने से एड़ियों पर अतिरिक्त दबाव पड़ता है, और उनमें दर्द हो सकता है।

बैक्टीरियल संक्रमण

यूनिवर्सिटी ऑफ मियामी के एक शोध में बताया गया था कि, फ्लैट या फ्लिप फ्लॉप से घरके भीतर 18,000 या इससे भी अधिक बैक्टीरिया आ जाते हैं। इन बैक्टीरिया के कारण संक्रमण होना की आशंका काफी अधिक हो जाती है।

क्या बरतें सावधानी

फ्लैट चप्पल या स्लीपर खरीदते समय कुछ खास बातों का ध्यान हमेशा रखान चाहिए, जैसे -

  • ध्यान दें की जो चप्पल आप ले रहें हैं, उसका सोल मोटा हो या फिर सोल के बीच का भाग उठा हुआ हो।
  • स्ट्रैप वाली चप्पलें पहनें से एड़ियों पर दबाव पड़ता है, क्योंकि इनमें पैरों को ग्रिप बनाने में मेहनत करनी पड़ता है। अतः मोटे और फिट स्ट्रैप वाली चप्पलें पहनें। 
  • हमेशा अच्छी ब्रांड की चप्पलें ही पहनें, जिनका साइज और शेप जल्दी न बिगड़े।




गलत फुटवीयर पहनने से कई गंभीर परेशानियां भी हो सकती हैं। जैसे मोर्टन न्यूरोमा, बनियंस, हैमर टो, फुट कॉर्न तथा हैलक्स रिजिड्स आदि। खासतौर पर मधुमेह के रोगियों को पैरों का विशेष ध्यान रखना चाहिए और फुटवीयर खरीदते समय सावधानियां बरतनी चाहिए।

 


Read More Articles On Sports & Fitness in Hindi.

Write a Review
Is it Helpful Article?YES6 Votes 3944 Views 0 Comment
प्रतिक्रिया दें
disclaimer

इस जानकारी की सटिकता, समयबद्धता और वास्‍तविकता सुनिश्‍चित करने का हर सम्‍भव प्रयास किया गया है । इसकी नैतिक जि़म्‍मेदारी ओन्‍लीमाईहैल्‍थ की नहीं है । डिस्‍क्‍लेमर:ओन्‍लीमाईहैल्‍थ पर उपलब्‍ध सभी साम्रगी केवल पाठकों की जानकारी और ज्ञानवर्धन के लिए दी गई है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्‍सक से अवश्‍य संपर्क करें। हमारा उद्देश्‍य आपको रोचक और ज्ञानवर्धक जानकारी मुहैया कराना मात्र है। आपका चिकित्‍सक आपकी सेहत के बारे में बेहतर जानता है और उसकी सलाह का कोई विकल्‍प नहीं है।

संबंधित जानकारी
  • सभी
  • लेख
  • स्लाइडशो
  • वीडियो
  • प्रश्नोत्तर