नींद में बार-बार उठना यानी काम पर असर

By  , ओन्‍ली माई हैल्‍थ सम्पादकीय विभाग
Mar 19, 2013
Comment

Subscribe for daily wellness inspiration

Like onlymyhealth on Facebook!

एक पुरानी कहावत है, ‘अगर आपको अच्छी नींद आती है, तो समझिए कि आपके साथ सब ठीक है।‘ अच्छी नींद के कई फायदे हैं।

 

nind me bar bar uthna yani kaam per asarयह बात कई वैज्ञानिक शोधों में प्रमाणित हो चुकी है। भरपूर नींद लेने से आप ज्यादा स्वस्थ और सुंदर हो सकते है। गहरी नींद सोने वाला दिन भर तरोताजा महसूस करता है। उसका मन प्रसन्न रहता है, वह कई रोगों से भी दूर रहता है। उसके शरीर में स्फूर्ति बनी रहती है। हर काम में उसका मन भी लगा रहता है। शरीर को रिचार्ज करने और स्वस्थ बनाने के लिए भी भरपूर नींद बहुत जरूरी है।

[इसे भी पढ़े- नींद क्यों नहीं आती]

 

लेकिन रात को नींद के बीच में बार-बार टॉयलेट जाने के लिए उठने वाले लोगों की कार्यक्षमता पर इसका बुरा प्रभाव पड़ता है। इसके चलते वे ऑफिस में उतना काम नहीं कर पाते जितना उन्‍हें करना चाहिए। मा‍ट्रीच यूनिवर्सिटी द्वारा किये गये एक अध्‍ययन में ये बात सामने आयी है। शोधकर्ताओं ने 261 महिलाओं एवं 385 पुरूषों पर अध्‍ययन किया जो इस परेशानी से पीडि़त थे। रात को टॉयलेट जाने के लिए कई बार जगने की आदत को नाक्‍टूरिया कहते हैं। इस समस्‍या से ग्रसित व्‍यक्ति अपनी पूरी क्षमता का उपयोग नहीं कर पाता और धका-धका सा महसूस करता है। नाक्‍टूरिया ग्रसित व्‍यक्ति सही से काम नहीं कर पाता जिससे ऑफिस में उसका प्रदर्शन खराब होता है।


Read More Articles On- Health news in hindi

Write Comment Read ReviewDisclaimer Feedback
Is it Helpful Article?YES2 Votes 3362 Views 0 Comment