नींद की कमी से बढ़ती बीमारियां

By  , ओन्‍ली माई हैल्‍थ सम्पादकीय विभाग
Mar 14, 2013
Comment

Subscribe for daily wellness inspiration

Like onlymyhealth on Facebook!

विशेषज्ञों की माने तो आज की युवा वर्ग की सबसे बड़ी समस्‍या है नींद की कमी। युवा वर्ग में नींद की कमी का कारण नींद के समय में भारी बदलाव है।

 

nind ki kami se badti bimariyaजिसके कारण लोगों में मधुमेह, उच्च रक्तचाप, दिल से संबंधित रोग एवं मोटापा जैसी कई बीमारियां तेजी से बढ़ रही हैं। ऐसे में इसपर ध्यान नहीं दिये जाने के परिणाम घातक भी हो सकते हैं।

[इसे भी पढ़े- नींद क्यों नहीं आती]

जानकारों की माने तो सूचना प्रौद्योगिकी के इस दौर में लोगों के जीवनशैली में बड़ा बदलाव आया है और इससे सोने की आदतों पर प्रतिकूल असर पड़ा है। जीवनशैली में आये बदलाव के कारण लोगों में नींद पूरी नहीं होने की शिकायतें सबसे आम हैं। सबसे ज्यादा असर उन लोगों पर पड़ता है जो शिफ्ट में काम करते हैं।

ऐसे लोगों के लिए जरूरी है कि वे अपने काम के हिसाब से एक रूटीन बनायें ताकि उनके शरीर को पर्याप्त आराम मिल सके। डॉक्टरों के मुताबिक शरीर को शिफ्ट ड्यूटी के अनुरूप ढालने के लिये अलग-अलग शिफ्टों के बीच कम से कम 72 घंटे का वक्त होना चाहिये। ऐसा नहीं होने पर शरीर की जैविक घड़ी असंतुलित हो जाती है। इसे नियमित करने के लिये आहार, व्यायाम और अन्य कई बातों पर विशेष ध्यान देना होता है।

[इसे भी पढ़े- भरपूर नींद के फायदे]

 

मौजूदा दौर में दिनचर्या के नियमित नहीं हो पाने के कारण लोगों में नींद से संबंधित बीमारी ‘स्लीप ऐपनिया’ काफी बढ़ रही है। जिसमें नींद के दौरान सांस में रुकावट पैदा होती है और कई बार यह घातक भी हो सकती है। इससे बचने के लिए जितना संभव हो सके खाने-पीने और सोने की आदतों को नियमित करें और साथ ही डॉक्‍टर की सलाह जरूर ले। नियमित व्यायाम, पोषक एवं नियंत्रित आहार से इस समस्या को काफी हद तक नियंत्रित किया जा सकता है।

 

 

Read More Articles On- Health news in hindi

Write Comment Read ReviewDisclaimer Feedback
Is it Helpful Article?YES6 Votes 3834 Views 0 Comment
संबंधित जानकारी
  • सभी
  • लेख
  • स्लाइडशो
  • वीडियो
  • प्रश्नोत्तर