क्‍या है व्‍यायाम और क्‍या हैं उससे जुड़े मिथ

By  , ओन्‍ली माई हैल्‍थ सम्पादकीय विभाग
Jul 06, 2011
Comment

Subscribe for daily wellness inspiration

Like onlymyhealth on Facebook!

Quick Bites

  • जिम जाना ही सेहतमंद होने का रास्‍ता नहीं।
  • योग किसी विशेषज्ञ की निगारनी में ही करें।
  • देर तक मेहनत करना ही सेहत का पैमाना नहीं।
  • नए वैज्ञानिकों शोधों से हुअा प्रमाणित।

 

क्‍या जिम में जी-तोड़ मेहनत करना ही व्‍यायाम है। क्‍या व्‍यायाम का यही पैमाना आपको सेहतमंद बना सकता है। क्‍या अधिक देर तक व्‍यायाम करना ही आपको उचित लाभ दिला सकता है।

 

myths of exerciseऐसे कई सवाल हैं जो व्‍यायाम करने वालों के जेहन मे आते हैं। लेकिन, क्‍या इन सब सवालों का जवाब हां है। अक्‍सर तो लोग इसी को सच मानते हैं। उनकी नजर में व्‍यायाम यही है। लेकिन वास्‍‍तविकता इससे अलग है। आइए जानते हैं व्‍यायाम से जुड़े कुछ जरूरी तथ्‍य और प्रचलित मिथ।

 

1. देर तक व्‍यायाम ही फायदेमंद

यह एक मिथ है। किसी भी प्रकार के व्यायाम का ध्येय यह होना चाहिए कि उसे करने से नियत समय में आप कितना फैट बर्न कर रहे हैं। व्यायाम करने का सुरक्षित तरीका यह भी  है कि व्यायाम की शुरूवात धीरे-धीरे करने के बाद समय सीमा को आहिस्ता-आहिस्ता बढ़ाते जाएं। अगर आप शुरुआत में ही अधिक देर तक व्‍यायाम करने लग जाएंगे तो इससे आपके शरीर की मांसपेशियों पर गैरजरूरी दबाव पड़ेगा। परिणाम यह होगा कि इससे मांसपेशियां क्षति‍ग्रस्‍त हो सकती हैं। और आपको चोट भी लग सकती है।


2. कड़ी मेहनत ही है व्‍यायाम

अकसर लोग इस गलतफहमी के शिकार रहते हैं कि उन्हें ऐसा व्यायाम करना चाहिए जिसमें अत्यधिक श्रम करना हो। शोध बताते हैं कि ऐसा नहीं है। नियमित घूमना और बागवानी करना भी एक अच्छार व्यायाम हो सकता है, लेकिन आपको इसे नियमानुसार अपनाना चाहिए। श्रम उतना ही करना चाहिए जितना आपका शरीर आसानी से झेल सके। अधिक कठोर श्रम सेहत के लिहाज से ठीक नहीं है। इससे आपको फायदा कम और नुकसान अधिक होता है।


3.    योग सबसे सुरक्षित

यह सोच भी बिलकुल गलत है। योग की शुरूआत किसी योग्य विशेषज्ञ की देख-रेख में ही होनी चाहिए। योग बेशक एक लाभप्रद जीवनपद्धति है और इसे करने से आपको काफी फायदा होता है। यह आपको फिट और सेहतमंद रखने में बेहद कारगर स‍ाबित होता है। लेकिन, योग को करने के कुछ नियम व दिशा-निर्देश होते हैं। यदि उन दिशा-निर्देशों का सही तरीके से पालन न किया जाए तो यह आपके लिए नुकसानदेह हो सकती है।

 

 

4.    व्यायाम से ही वजन हो सकता है नियंत्रित

यह एक भ्रांति है, वजन का कम या ज्यादा होना आनुवांशिक कारणों के अलावा आपके खान-पान, जीवन शैली पर भी निर्भर करता है। सिर्फ व्यायाम से वजन काबू में रख पाना जरा मुश्किल होगा। इसके लिए आपको खानपान पर भी पूरा ध्‍यान देना होगा। व्‍यायाम और आहार के बीच सही सांमजस्‍य ही वजन नियंत्रित करने में मददगार हो सकता है। हां फिटनेस हासिल करने के लिए व्‍यायाम जरूरी है। इससे आप कई रोगों से भी बचे रह सकते हैं।

 

5.    फिट रहने के लिए जिम जाना ज़रूरी

सेहत को लेकर लोगों में यह सबसे बड़ा वहम है। जिम जाने के लिए आपको वक्‍त और पैसे दोनों की जरूरत होती है। आप चाहें तो घर और दफ्तर में भी कुछ ऐसे व्‍यायाम कर सकते हैं जो आपकी सेहत को दुरुस्‍त रखे। सीढि़यां चढ़ना, बागवानी करना, पैदल चलना जैसे ऐसे तमाम व्‍यायाम हैं जिनके लिए आपको जिम जाने की जरूरत नहीं। और ये व्‍यायाम आपको बिना रकम खर्चे ही सेहत का नजराना दे सकते हैं।

 

तो अब आप जान गए होंगे कि फिटनेस कड़ी नहीं सही मेहनत में है। तो अब देर किस बात की सेहत के तोहफे को हासिल करने के लिए व्‍यायाम कीजिए, लेकिन सही तरीके से और सही प्रकार का।

 

 

 

 

Read More Articles On Sports Fitness In Hindi

Write Comment Read ReviewDisclaimer Feedback
Is it Helpful Article?YES5 Votes 14916 Views 0 Comment
संबंधित जानकारी
  • सभी
  • लेख
  • स्लाइडशो
  • वीडियो
  • प्रश्नोत्तर