साल या महीने में नहीं बल्कि एक दिन में बारह हजार बार छींकती है ये महिला

By  , ओन्‍ली माई हैल्‍थ सम्पादकीय विभाग
Jan 04, 2016
Comment

हेल्‍थ संबंधी जानकारी के लिए सब्‍सक्राइब करें

Like onlymyhealth on Facebook!

Quick Bites

  • नहीं है लड़की को किसी भी तरह का जुखाम।
  • हर रोज 12 हजार बार ​छींकती है ये महिला।
  • हो जाती है छींकों से इसकी हालत खराब।
  • छींकों से हो गई है पेट दर्द की भी समस्या।

सर्दी में जुखाम होने से लोग छह-सात छींकों से ही परेशान होने लगते हैं। लेकिन क्या होगा जब आपको दिन में सौ बार तक छींक आ जाए? हो जाएंगे ना परेशान। इंसान सौ क्या तीस छींक आने से भी परेशान हो जाएगा। तो सोचिए उस इंसान की क्या हालत होती होगी जो दिन में बारह हजार बार छींकता है। लंदन में एक लड़की है जिसे ना जुखाम है ना उसकी तबियत खराब है फिर भी वो दिन में बारह हजार बार छींकती है। इन छींको से इस लड़की की हालत खराब होते जा रही है। एक बार छींकने में पूरा शरीर हिल जाता है तो बारह हजार बार छींकना मतलब बारह हजार बार शरीर का हिलना, ऐसे में लड़की की हालत तो खराब होगी ही।

छींकना


लंदन में रहने वाली कैटलीन थॉर्नली को ये बीमारी पिछले एक महीने से है। इन छींकों के कारण लगातार उसकी हालत खराब होते जा रही है। कैटलीन थॉर्नली पिछले एक महिने से सिर्फ एक मिनट में 20 बार छींक देती है। मतलब वो हर मिनट लगातार छींकते रहती है। इनकी छींकें सोने के दौरान ही बंद होती है। लेकिन इन्हें नींद भी आसानी से नहीं आती। इन्हें सोने के लिए अच्छी-खासी मेहनत करनी पड़ती है। केटलीन सोने की कोशिश के लिए कफ सिरप और बीटल्स म्यूजिक सुनती है तभी उन्हें धीरे-धीरे नींद आती है।

 

छींक से पेट दर्द की समस्या

कै​टलीन के छींक के बारे में डॉक्टर्स ने किसी वायरस या एलर्जी के कारणों से पूरी तरह इंकार कर दिया है। लेकिन बीमारी कौन सी है? इसके बारे में डॉक्टर्स कुछ नहीं कह पा रहे हैं। कैटलीन की इन छींको की समस्या छोटी-छोटी छींक से शुरू हुई थी। पहले कैटलीन ने सारी छीकों को एलर्जी का रिएक्शन मानकर इग्नोर किया। लेकिन धीर-धीरे समस्या बढ़े लगी।

अब ये समस्या पेट दर्द का कारण भी बन गई है। इस बीमारी की वजह से कैटलीन सही से खा-पी नहीं पा रही है जिसकी वजह से वो कमजोर भी होते जा रही हैं। इन छींकों से परेशान कैटलनी अपना शरीर कुछ देर के लिए छोड़ना चाहती है जिससे कि उन्हें कुछ देर की राहत मिल सके। इनके परिवारवालों ने सोशल मीडिया पर अब लोगो से मदद मांगना शुरू किया है जिससे पता चल सके कि ये क्‍या बीमारी है।

Write a Review
Is it Helpful Article?YES8 Votes 3532 Views 0 Comment
प्रतिक्रिया दें
disclaimer

इस जानकारी की सटिकता, समयबद्धता और वास्‍तविकता सुनिश्‍चित करने का हर सम्‍भव प्रयास किया गया है । इसकी नैतिक जि़म्‍मेदारी ओन्‍लीमाईहैल्‍थ की नहीं है । डिस्‍क्‍लेमर:ओन्‍लीमाईहैल्‍थ पर उपलब्‍ध सभी साम्रगी केवल पाठकों की जानकारी और ज्ञानवर्धन के लिए दी गई है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्‍सक से अवश्‍य संपर्क करें। हमारा उद्देश्‍य आपको रोचक और ज्ञानवर्धक जानकारी मुहैया कराना मात्र है। आपका चिकित्‍सक आपकी सेहत के बारे में बेहतर जानता है और उसकी सलाह का कोई विकल्‍प नहीं है।

संबंधित जानकारी
  • सभी
  • लेख
  • स्लाइडशो
  • वीडियो
  • प्रश्नोत्तर