सरसों का तेल या रिफांइड ऑयल क्‍या है बेहतर

By  , ओन्‍ली माई हैल्‍थ सम्पादकीय विभाग
Jan 17, 2015
Comment

हेल्‍थ संबंधी जानकारी के लिए सब्‍सक्राइब करें

Like onlymyhealth on Facebook!

Quick Bites

  • तेल के चुनाव को लेकर लोगों में दुविधा।
  • सरसों के तेल में संतृप्त वसा कम होती है।
  • रिफाइंड ऑयल भोजन को अवशोषित नहीं करता।
  • पोषण संबंधी जरूरतों को ध्‍यान में रखना चाहिए।

खाना पकाने का तरीका हमारे अच्‍छे स्‍वास्‍थ्‍य में महत्‍वपूर्ण भूमिका निभाता है। सही तरीके से खाना पकाने से शरीर को पोषण और अंगों के अच्‍छे स्‍वास्‍थ्‍य के लिए महत्‍वपूर्ण होता है। लेकिन बाजार में बड़ी तादात में उपलब्‍ध कुकिंग ऑयल में से अपने लिए तेल को चुनना इतना भी आसान नहीं होता।

mustard oil in hindi


तेल भोजन के स्वाद को तो बढ़ाता है, साथ ही यह हमारे स्वास्थ्य में भी महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है। तेल न सिर्फ शरीर को एनर्जी प्रदान करता है, बल्कि फैट में अवशोषित होने वाले विटामिन जैसे- के, ए, डी, ई के अवशोषण में भी सहायक होता है। ये प्रोटीन और कार्बोहाइड्रेट के चयापचय को तेज कर इसके पाचन में मदद करता है। तेल के चुनाव को लेकर अक्‍सर लोग दुविधा में रहते हैं। कुछ लोग सरसों के तेल में खाना पकाना पसंद नहीं करते तो कुछ रिफांइड ऑयल में। यहां दोनों ही प्रकार के तेलों के फायदे और नुकसान की जानकारी दी गई हैं। जो आपकी इस दुविधा से बाहर निकलने में मदद करेगें।

सरसों का तेल

सरसों का तेल पूरे भारत में खाना पकाने का सबसे पंसदीदा तेल हैं। सरसों के बीज से निकला तेल खाने पकाने के लिए प्राचीन काल से ही उपयोग किया जाता रहा है।  

सरसों का तेल अन्‍य प्रकार के खाना पकाने के तेल की तुलना में संतृप्त वसा में कम होता है। एंटीऑक्‍सीडेंट की मौजूदगी और कोलेस्‍ट्रॉल को कम करने के गुणों के यह तेल स्‍वास्‍थ्‍य के लिए बहुत फायदेमंद होता है। लेकिन इसके इस्‍तेमाल से पहले आपको इसे अच्‍छे से जला लेना चाहिए। क्‍योंकि सरसों के तेल में इरूसिस नामक एसिड दिल में दिल में ट्राइग्लिसराइड्स के संचय, हृदय, एनीमिया और फेफड़ों के कैंसर के फिब्रिओटिक घावों के विकास के रूप में स्वास्थ्य के जोखिम से जुड़ा होता है  

रिफाइंड ऑयल

रिफाइंड ऑयल विभिन्न संयंत्र के सूत्रों के बीज से बनाता हैं। आज कैनोला तेल, सोयाबीन तेल, कार्न ऑयल, सूरजमुखी तेल और मूंगफली तेल सहित कई प्रकार के रिफाइंड तेल उपलब्ध हैं।

इन तेलों में, पौधों के बीज के कारण पॉलीअनसेचुरेटेड फैट होता हैं। रिफाइंड ऑयल जैसे कैनोला भोजन को बहुत ज्‍यादा अवशोषित नहीं करता है, इसका मतलब आपको इसका उपयोग कम करना चाहिए। जैतून के तेल में प्राकृतिक संयंत्र एंटीऑक्सीडेंट में उच्च होता है, जबकि मूंगफली का तेल कम घनत्व वाले लिपोप्रोटीन (एलडीएल) कोलेस्ट्रॉल कम करने में मदद करता हैं। कुसुम तेल में प्रोटीन के मौजूद होने के कारण यह रक्त शर्करा के स्तर को नियंत्रित करने में मदद करता है, जबकि तिल के तेल में कैल्शियम, लोहा, विटामिन बी 6 और मैग्नीशियम होता है।

refined vegetable oil in hindi

निष्‍कर्ष

इन बातों से यह निष्‍कर्ष निकलता हैं कि कोई भी एक तेल खाना पकाने के लिए स्वास्थ्यप्रद नहीं है। खाना पकाने के लिए तेल का चयन करते समय आपको खाना पकाने के प्रकार और पोषण संबंधी जरूरतों को ध्‍यान में रखना होगा।

लो स्मोकिंग प्वाइंट के कारण जैतून के तेल का इस्‍तेमाल तलने के लिए अच्‍छा नहीं माना जाता है। लेकिन सरसों का तेल तलने के लिए बेहतर होता है। सरसों और तिल के तेल दोनों को मिलाकर भी तलने के लिए इस्‍तेमाल किया जा सकता है। व्‍यंजनों के लिए फैट की राशि महत्‍वपूर्ण हैं, कनोला तेल ट्रांस वसा को खत्म करने और कुल वसा को कम करने के लिए संतृप्त वसा को कम कर सकता है। नारियल और पाम कर्नेल ऑयल उच्च संतृप्त वसा के कारण कोलेस्ट्रॉल संबंधित समस्याओं से प्रभावित लोगों के लिए अस्वस्थ होता हैं।

Image Courtesy : Getty Images

Read More Articles on Diet and Nutrition in Hindi

Write a Review
Is it Helpful Article?YES83 Votes 12396 Views 0 Comment
प्रतिक्रिया दें
disclaimer

इस जानकारी की सटिकता, समयबद्धता और वास्‍तविकता सुनिश्‍चित करने का हर सम्‍भव प्रयास किया गया है । इसकी नैतिक जि़म्‍मेदारी ओन्‍लीमाईहैल्‍थ की नहीं है । डिस्‍क्‍लेमर:ओन्‍लीमाईहैल्‍थ पर उपलब्‍ध सभी साम्रगी केवल पाठकों की जानकारी और ज्ञानवर्धन के लिए दी गई है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्‍सक से अवश्‍य संपर्क करें। हमारा उद्देश्‍य आपको रोचक और ज्ञानवर्धक जानकारी मुहैया कराना मात्र है। आपका चिकित्‍सक आपकी सेहत के बारे में बेहतर जानता है और उसकी सलाह का कोई विकल्‍प नहीं है।

संबंधित जानकारी
  • सभी
  • लेख
  • स्लाइडशो
  • वीडियो
  • प्रश्नोत्तर