मुंह के कैंसर से बचना है तो लें कॉफी

By  , ओन्‍ली माई हैल्‍थ सम्पादकीय विभाग
Jun 18, 2012
Comment

Subscribe for daily wellness inspiration

Like onlymyhealth on Facebook!

मुंह के कैंसर से बचना है तो लें कॉफी 

कॉफी पीने से मुंह के कैसर का खतरा कम होता है। एक दिन में चार कप कॉफी पीने से मुंह का कैंसर होने की संभावना बेहद कम हो जाती है। अभी तक यही माना जाता था कि अधिक चाय और कॉफी शरीर को नुकसान पहुंचाती है। क्योंकि, कॉफी में मौजूद कैफीन के कारण दिल की धडकन और रक्तचाप बढने का खतरा होता है। लेकिन एक ताजा शोध में यह बात सामने आई है कि कॉफी का सेवन मुंह के कैसर के खतरे को कम करता है।  

शोध में यह बात सामने आई है कि कॉफी में 1000 तरह के रसायन होते हैं। इसमें एंटीऑक्सीडेंट भी होता है जो कई तरह के कैंसर के खतरे को कम करता है। अमेरिका और यूरोप में कई लोगों पर हुए शोध में यह पता चला है। शोध के बाद वैज्ञानिक इस निष्कर्ष पर पहुंचे कि कॉफी के सेवन से मुंह के कैंसर का खतरा 39 फीसदी तक कम किया जा सकता है।  इसके अलावा कॉफी पीने से पारयेनक्स जैसी बीमारी से भी बचा जा सकता है। हजारों लोग होंठ, जीभ टांसिल, मसूडों और मुंह के अन्य हिस्सों में कैंसर की आशंका को लेकर जांच करवाते हैं। हर साल कई लोगों की मौत मुंह के कैंसर के कारण होती है। 


कॉफी पीने के अन्य फायदे – 

अन्य कैंसरों में भी लाभदायक – कॉफी न केवल मुंह के ही नहीं बल्कि स्तन कैंसर, प्रोस्टेट कैंसर और लीवर के कैंसर में भी लाभ पहुंचाती है। कॉफी में मौजूद एंटीऑक्सीडेंट डीएनए और कैंसर सेल्स को समाप्त करते हैं। जो लोग दिन में 6 कप कॉफी पीते हैं उनको 60 प्रतिशत तक प्रोस्टेट कैंसर का खतरा कम होता है। कॉफी लीवर कैंसर के खतरे को 44 प्रतिशत तक कम करती है। महिलाओं में कॉफी स्तन कैंसर के खतरे को कम करती है। 


मधुमेह रोगियों के लिए – बिना शुगर वाली कॉफी पीने से डायबिटीज टाइप-2 का खतरा कम होता है। हर रोज 4 कप बिना चीनी वाली कॉफी पीने से डायबिटीज का खतरा 50 प्रतिशत तक कम होता है। कॉफी में मौजूद कैफीन, कैफिक एसिड और क्लोरोजेनिक एसिड डायबिटीज टाइप-2 के लिए उत्तरदायी कारकों को समाप्त करता है। मधुमेह टाइप-2 शरीर में इंसुलिन की कमी के कारण होता है और कॉफी में पाया जाने वाले तत्व इंसुलिन को बनने से वाली कोशिकाओं को बचाता है। 

तनाव से बचाव – कॉफी पीने से तनाव कम होता है। हर रोज 4 कप कॉफी पीने से तनाव बढने का 20 प्रतिशत खतरा कम होता है। जो लोग 2-3 कप कॉफी रोज पीते हैं उनमें भी तनाव खतरा 15 प्रतिशत तक कम होता है। कॉफी में मौजूद कैफीन शरीर के ऊर्जा स्तर को बढाता है जिससे दिमाग का स्तर ठीक होता है। 

मोटापा कम करना – ग्रीन कॉफी पीने से वजन कम किया जा सकता है। सुबह-सुबह खाली पेट या नाश्ते से पहले ग्रीन कॉफी पीने से मोटापा कम होता है। कॉफी में मौजूद क्लोरोजेनिक एसिड आहार नली में शुगर की मात्रा को कम करता है जिसके कारण शरीर का फैट कम हो जाता है। 

कुछ नुकसान भी हैं 
कॉफी पीने के कई फायदे हैं लेकिन, इसके नुकसान भी हैं। ज्यादा मात्रा में कॉफी पीने से आंखों, पाचन क्रिया और याद्दाश्त पर बुरा प्रभाव पडता है। अगर कॉफी का ज्यादा मात्रा में सेवन आपकी आदत में शुमार है तो एक बार डॉक्टर से सलाह जरूर लीजिए। 

कॉफी पीने से मुंह के कैसर का खतरा कम होता है। एक दिन में चार कप कॉफी पीने से मुंह का कैंसर होने की संभावना बेहद कम हो जाती है। अभी तक यही माना जाता था कि अधिक चाय और कॉफी शरीर को नुकसान पहुंचाती है। क्योंकि, कॉफी में मौजूद कैफीन के कारण दिल की धडकन और रक्तचाप बढने का खतरा होता है। लेकिन एक ताजा शोध में यह बात सामने आई है कि कॉफी का सेवन मुंह के कैसर के खतरे को कम करता है।  

 

शोध में यह बात सामने आई है कि कॉफी में 1000 तरह के रसायन होते हैं। इसमें एंटीऑक्सीडेंट भी होता है जो कई तरह के कैंसर के खतरे को कम करता है। अमेरिका और यूरोप में कई लोगों पर हुए शोध में यह पता चला है। शोध के बाद वैज्ञानिक इस निष्कर्ष पर पहुंचे कि कॉफी के सेवन से मुंह के कैंसर का खतरा 39 फीसदी तक कम किया जा सकता है।  इसके अलावा कॉफी पीने से पारयेनक्स जैसी बीमारी से भी बचा जा सकता है। हजारों लोग होंठ, जीभ टांसिल, मसूडों और मुंह के अन्य हिस्सों में कैंसर की आशंका को लेकर जांच करवाते हैं। हर साल कई लोगों की मौत मुंह के कैंसर के कारण होती है। 

 

कॉफी पीने के अन्य फायदे – 

अन्य कैंसरों में भी लाभदायक – कॉफी न केवल मुंह के ही नहीं बल्कि स्तन कैंसर, प्रोस्टेट कैंसर और लीवर के कैंसर में भी लाभ पहुंचाती है। कॉफी में मौजूद एंटीऑक्सीडेंट डीएनए और कैंसर सेल्स को समाप्त करते हैं। जो लोग दिन में 6 कप कॉफी पीते हैं उनको 60 प्रतिशत तक प्रोस्टेट कैंसर का खतरा कम होता है। कॉफी लीवर कैंसर के खतरे को 44 प्रतिशत तक कम करती है। महिलाओं में कॉफी स्तन कैंसर के खतरे को कम करती है। 

 

मधुमेह रोगियों के लिए – बिना शुगर वाली कॉफी पीने से डायबिटीज टाइप-2 का खतरा कम होता है। हर रोज 4 कप बिना चीनी वाली कॉफी पीने से डायबिटीज का खतरा 50 प्रतिशत तक कम होता है। कॉफी में मौजूद कैफीन, कैफिक एसिड और क्लोरोजेनिक एसिड डायबिटीज टाइप-2 के लिए उत्तरदायी कारकों को समाप्त करता है। मधुमेह टाइप-2 शरीर में इंसुलिन की कमी के कारण होता है और कॉफी में पाया जाने वाले तत्व इंसुलिन को बनने से वाली कोशिकाओं को बचाता है। 

 

तनाव से बचाव – कॉफी पीने से तनाव कम होता है। हर रोज 4 कप कॉफी पीने से तनाव बढने का 20 प्रतिशत खतरा कम होता है। जो लोग 2-3 कप कॉफी रोज पीते हैं उनमें भी तनाव खतरा 15 प्रतिशत तक कम होता है। कॉफी में मौजूद कैफीन शरीर के ऊर्जा स्तर को बढाता है जिससे दिमाग का स्तर ठीक होता है। 

 

मोटापा कम करना – ग्रीन कॉफी पीने से वजन कम किया जा सकता है। सुबह-सुबह खाली पेट या नाश्ते से पहले ग्रीन कॉफी पीने से मोटापा कम होता है। कॉफी में मौजूद क्लोरोजेनिक एसिड आहार नली में शुगर की मात्रा को कम करता है जिसके कारण शरीर का फैट कम हो जाता है। 

 

कुछ नुकसान भी हैं - कॉफी पीने के कई फायदे हैं लेकिन, इसके नुकसान भी हैं। ज्यादा मात्रा में कॉफी पीने से आंखों, पाचन क्रिया और याद्दाश्त पर बुरा प्रभाव पडता है। अगर कॉफी का ज्यादा मात्रा में सेवन आपकी आदत में शुमार है तो एक बार डॉक्टर से सलाह जरूर लीजिए। 

Write Comment Read ReviewDisclaimer Feedback
Is it Helpful Article?YES2 Votes 12106 Views 0 Comment
संबंधित जानकारी
  • सभी
  • लेख
  • स्लाइडशो
  • वीडियो
  • प्रश्नोत्तर