सी स्थिति में हमारे मन

By  , ओन्‍ली माई हैल्‍थ सम्पादकीय विभाग
Sep 01, 2011
Comment

हेल्‍थ संबंधी जानकारी के लिए सब्‍सक्राइब करें

Like onlymyhealth on Facebook!

Junk foodहार्ट फेलियर का पता लगाने के लिए ‘इलेक्ट्रानिक नोजअकसर हम लोगों को यह कहते हुए सुनते हैं किमेरे पिता को डायबिटीज थी, इसलिए मुझे भी यह समस्या है। ऐसी स्थिति में हमारे मन में स्वाभाविक रूप से यह सवाल उठता है कि क्या ऐसा उपाय नहीं हो सकता जिससे हम और हमारी आने वाली पीढि़यां ऐसी आनुवंशिक समस्याओं से बची रहें। इस समस्या का समाधान वैज्ञानिकों ने हमारे भोजन में मौजूद तत्वों में ही ढूंढा है।
शरीर की सबसे छोटी इकाई कोशिकाएं होती हैं और इन्हीं कोशिकाओं में मौजूद जींस पीढ़ी-दर-पीढ़ी हमारी आनुवंशिक खूबियों-खामियों के संवाहक होते हैं। वैज्ञानिक अनुसंधानों से यह बात प्रमाणित हो चुकी है कि अर्थराइटिस, कैंसर, डायबिटीज और पाचन तंत्र से संबंधित जिन गंभीर बीमारियों के लिए हमारी कोशिकाओं में मौजूद जींस को जिम्मेदार माना जाता है, वास्तव में जींस उसके लिए सीधे तौर पर जिम्मेदार नहीं होते।

 

दरअसल आनुवंशिक बीमारियों से संबंधित ये जींस हमारे शरीर में सुप्त अवस्था में रहते हैं लेकिन खानपान की गलत आदतों, वातावरण और जीवनशैली की वजह से सक्रिय हो उठते हैं, जिससे व्यक्ति कई तरह की स्वास्थ्य समस्याओं का शिकार होता है। कई अनुसंधानों के परिणाम से यह निष्कर्ष सामने आया है कि स्वस्थ खानपान अपना कर हम कई तरह की आनुवंशिक बीमारियों से काफी हद तक बचे रह सकते हैं। सेहत के प्रति जागरूकता रखने वाले लोगों के लिए यह अच्छी खबर है।
1 September 2011




लंदन। वैज्ञानिकों ने एक ऐसी ‘इलेक्ट्रानिक नोज’ विकसित करने का दावा किया है जो हृदय संबंधी परेशानियों को ‘सूंघ’ सकती है। जर्मनी में विविद्यालय अस्पताल जेना ने बताया कि इलेक्ट्रानिक नोज पण्राली में गैस सेंसर होंगे जो तीन मोटी फिल्म वाले मैटल आक्साइड आधारित होंगे। इसमें हीटर एलीमेंट भी होगा। इसमें से प्रत्येक सेंसर की विभिन्न ओडोरेंट मोल्यूक्यूलर श्रेणी का पता लगाने के लिए विभिन्न संवेदनशीलता होगी। दल का नेतृत्व करने वाले वासिलिओस केचागियास ने बताया कि इस पण्राली के जरिये नियमित जांच से क्रानिक हार्ट फेलियर का जल्द उपचार संभव हो सकेगा। हार्ट फेलियर एक ऐसी आम स्थिति है जिसमें आदमी की जान तक जा सकती है। कुछ लोग इस स्थिति के बावजूद कई साल तक जीवित रह जाते हैं लेकिन उनकी शारीरिक एवं मानसिक स्थिति बेहद खराब रहती है।

Write a Review
Is it Helpful Article?YES10753 Views 0 Comment
प्रतिक्रिया दें
disclaimer

इस जानकारी की सटिकता, समयबद्धता और वास्‍तविकता सुनिश्‍चित करने का हर सम्‍भव प्रयास किया गया है । इसकी नैतिक जि़म्‍मेदारी ओन्‍लीमाईहैल्‍थ की नहीं है । डिस्‍क्‍लेमर:ओन्‍लीमाईहैल्‍थ पर उपलब्‍ध सभी साम्रगी केवल पाठकों की जानकारी और ज्ञानवर्धन के लिए दी गई है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्‍सक से अवश्‍य संपर्क करें। हमारा उद्देश्‍य आपको रोचक और ज्ञानवर्धक जानकारी मुहैया कराना मात्र है। आपका चिकित्‍सक आपकी सेहत के बारे में बेहतर जानता है और उसकी सलाह का कोई विकल्‍प नहीं है।

संबंधित जानकारी
  • सभी
  • लेख
  • स्लाइडशो
  • वीडियो
  • प्रश्नोत्तर