मोटी महिलाओं के लिए गर्भधारण करने के टिप्स

By  , ओन्‍ली माई हैल्‍थ सम्पादकीय विभाग
Jun 16, 2012
Comment

Subscribe for daily wellness inspiration

Like onlymyhealth on Facebook!

Quick Bites

  • मोटापे से आपकी प्रजनन क्षमता/फर्टिलटी पर पड़ता है बुरा असर।
  • मोटी महिलाओं को गर्भधारण से पहले थायराइड की जांच करानी चाहिए। 
  • मोटापे के कारण शारीरिक और मानसिक समस्याएं भी हो सकती हैं।
  • गर्भधारण से एक वर्ष पहले तक कोई भी मोटापे की सर्जरी ना कराएं।

मोटापा कई तरह की परेशानियां लेकर आता है। महिलाओं के लिए तो इसे और भी नुकसानदेह माना जाता है। माना जाता है कि वे महिलाएं जिनका वजन सामान्‍य से बहुत अधिक है, यानी जिन्‍हें मोटापे की श्रेणी में रखा जा सकता है, को गर्भधारण में परेशानी हो सकती है। आइए जानते हैं कुछ ऐसे टिप्‍स जो ऐसी महिलाओं के लिए काफी मददगार साबित हो सकते हैं।

Pregnancy Tips for Fat Womenमोटे होने पर आपकी प्रजनन क्षमता या फर्टिलटी पर बहुत बुरा असर पड़ता है। डॉक्‍टर भी मानते हैं कि मोटी महिलाओं को गर्भधारण करने में परेशानी होती है। इसलिए वे अक्‍सर उन महिलाओं को वजन नियंत्रित करने की सलाह देते हैं जिनका वजन जरूरत से अधिक होता है। इसलिए अगर आप मोटापे से परेशान हैं और कंसीव करना चाहती हैं, तो कुछ टिप्स और बातों का खयाल जरूर रखें।


गर्भधारण टिप्स

 

1.  ब्लड टेस्ट

 

अगर आप ज्यादा मोटी है और कंसीव करना चाहती है, तो आप अपना वेट कम करके आसानी से कंसीव कर सकती हैं। इसके लिए आपको पहले टेस्ट करवाना होगा कि कहीं आपको थायराइड तो नहीं है। और अगर आपको थायराइड है तो उसका इलाज भी साथ-साथ करवाना जरूरी है। और अगर आपको थायराइड नहीं है, तो आप अपना वेट कम करके कंसीव कर सकती है। मोटापा कम करने के लिये कभी भी ज्यादा डाइटिंग ना करें।

 

2.   मासिक धर्म चक्र

कंसीव करने के पहले आपको अपने शरीर के वजन के हिसाब से बॉडी वेट के हिसाब से पीरियड्स चेक करने होंगे। पीरियड्स साइकल से ओव्यूलेशन कैलेंडर को जानना आसान होगा। इसलिये वजन को कंट्रोल रखें।

 

3.   पोजीशन बदलें


मोटी महिलाओं को कंसीव करने में इसलिए परेशानी होती है, क्योंकि मोटे होने की वजह से उनके अंदर स्पर्म आसानी से नहीं जा पाता। इसलिये मोटी महिलाओं को कुछ ऐसे पोजीशन ट्राई करने चाहिए जिससे स्पर्म अंदर तक आसानी से जा सके और फीमेल एग के साथ मिल जाए। इससे ऐसी महिलाओं को कंसीव करने में आसानी होगी।

 

4.   आहार बदलने से होगा फायदा

मोटी होने के बावजूद आप कंसीव कर सकें इसके लिए फर्टिलटी आहार खाएं। ऐसा आहार खाएं जिसमें फोलिक एसिड पाया जाता हो, इससे आप आसानी से प्रेगनेंट हो सकती हैं। फोलिक एसिड सोया प्रोडक्टअ, बींस, अंडे की जर्दी, आलू, गेहूं का आटा, पत्ता गोभी, केला, शकरकंद, ब्रोकली और अंकुरित आनाज आदि में प्रचूर मात्रा में पाया जाता है।

 

 

5.    पीसीओएस चेक करें

अगर आप जरूरत से ज्यादा मोटी है और गर्भधारण करना चाहती है, तो अपना पीसीओएस जरूर चेक करवाएं। ऐसी मोटी महिलाएं जिनका हार्मोन बैलेंस नहीं रहता, या फिर जिनमें पीसीओएस की समस्या होती है, उनमें गर्भधारण करने में परेशानी आती है, और वह आसानी से गर्भधारण नहीं कर पाती।

 

साल 2012 में हुई ऑरेगन यूनिवर्सिटी की एक शोध में भी पाया गया था कि मोटापे के कारण बांझपन के साथ-साथ अन्य शारीरिक और मानसिक समस्याएं हो सकती हैं। किसी भी व्यक्ति की प्रजनन क्षमता पौष्टिकता पर निर्भर करती है इसलिए मोटापे से गर्भधारण क्षमता भी प्रभावित होती है। बचपन में पनपा मोटापा महिलाओं की गर्भधारण की क्षमता को भी प्रभावित कर सकता है। कई शोध में यह बात सामने आयी है। मोटापे के कारण बांझपन के साथ साथ अन्य शारीरिक और मानसिक समस्यायें हो सकती हैं। मोटापे के कारण कई हार्मोनों के स्राव पर भी प्रभाव पड़ता है।

मोटापे से निजात पाने के लिए लोग अक्सर सर्जरी का सहारा ले लेते हैं। इस मामले में महिलाओं को अधिक ध्यान देने की जरूरत है क्योंकि ऐसी किसी भी सर्जरी के बाद जल्दी मां बनना जोखिम भरा हो सकता है। इसलिए मां बनने से लगभग एक वर्ष पहले तक ऐसी कोई भी सर्जरी ना कराएं।  

डॉक्टरों का कहना है कि वज़न कम सरने के लिए सर्जरी कराने वाली महिलाओं को गर्भवती होने के लिए कम से कम एक वर्ष इंतजार करना चाहिए। वैसे तो सर्जरी के बाद मां बनना सुरक्षित है, लेकिन इससे कुछ जोखिम भी जुड़े हुए होते हैं। इसलिए डॉक्टरों का मानना है कि सर्जरी के बाद मां बनने में एहतियात बरतनी जरूरी है।

 

Read More Articles on Parenting and Pregnancy in Hindi

Write Comment Read ReviewDisclaimer Feedback
Is it Helpful Article?YES35 Votes 61810 Views 13 Comments
संबंधित जानकारी
  • सभी
  • लेख
  • स्लाइडशो
  • वीडियो
  • प्रश्नोत्तर