मानसून में अपनी त्वचा का रखें खास खयाल

By  , ओन्‍ली माई हैल्‍थ सम्पादकीय विभाग
Jun 19, 2012
Comment

हेल्‍थ संबंधी जानकारी के लिए सब्‍सक्राइब करें

Like onlymyhealth on Facebook!

Quick Bites

  • बरसात में त्वचा और बालों से संबंधी समस्याएं अधिक होती हैं।
  • चेहरे पर जैतून का तेल ना लगायें, इसका प्रयोग केवल ठंड में करें।
  • पैरों, बालों या त्वचा को अधिक समय तक गीला ना रहने दें।
  • सूरज की किरणों से आपकी त्वचा को क्षति पहुंच सकती है, इनसे बचें।

 

बरसात का मौसम जहां एक ओर खुशियां और राहत लेकर आता है, वहीं इसके साथ चली आती हैं कई परेशानियां। इस मौसम का असर आपकी त्‍वचा पर भी बहुत अधिक पड़ता है। जानिए कैसे रखें इस मौसम मे अपनी त्‍वचा को सेहतमंद।

खूबसूरत महिलावर्षा त्रतु को हमेशा से ही साल का सबसे अच्छा समय माना जाता रहा है। तेज गर्मी और तीव्र धूप के बाद यह मौसम काफी राहत पहुंचाने वाला होता है। ऐसे में आप स्वयं को अधिक ऊर्जावान महसूस करते हैं, लेकिन इस मौसम का दूसरा पहलू कुछ मायनों में खतरनाक भी है। ऐसे मौसम में त्वचा और बालों से संबंधी समस्याएं अधिक होती हैं। आपकी थोड़ी सी लापरवाही आपके सौंदर्य और स्वास्‍थ्‍य को प्रभावित कर सकती है।

 

अपने मेक अप, मास्चस्‍थ्‍यइज़र, शैम्पू से लेकर घर और आफिस में थोड़ी सावधानियां बरतकर आप स्वास्‍थ्‍य और सौंदर्य संबंधी समस्याओं से बच सकते हैं।

 

न्यू लुक कास्मेटिक लेज़र सेंटर के वरिष्ठ कास्मेटिक सर्जन डाक्टर प्रीतम पंकज के अनुसार मान्सून्स में त्वचा की सुरक्षा के लिए कुछ टिप्स अपनाना आवश्यक है:


  • कठोर साबुन का प्रयोग ना करें। 
  • चेहरे पर जैतून का तेल ना लगायें, यह ठंड के मौसम में ही अच्छा है।
  • मच्छरों और कीड़ों से होने वाली एलर्जी से बचने के लिए घर के आसपास पानी ना जमा होने दें।
  • अपने पैरों, बालों या त्वचा को अधिक समय तक गीला ना रहने दें क्योंकि इससे फंगल इंफेक्शन जैसी त्वचा की समस्याएं भी हो सकती हैं।  
  • सूरज की किरणों से आपकी त्वचा को क्षति पहुंच सकती है इसलिए सनस्क्रीन लगाना ना भूलें। यह एलर्जी और अल्ट्रावायलेट किरणों से आपकी सुरक्षा करेगा।  
  • ऐसे क्लीन्‍ज़र का प्रयोग करें जो नान सोपी हों और त्ववचा के रोमछिद्र को साफ रखे। अल्फा हाइड्रोक्सिल एसिड से बने क्ली नज़र का ही प्रयोग करें।
  • मेकअप जितना हल्का होगा आप मौसम का मज़ा भी उतना ही ले सकेंगे। आपके लिए मेनीक्योर और पेडीक्योर अच्छा हो सकता है लेकिन वाटरप्रूफ आई लाइनर व मस्कारा का ही प्रयोग करें।

 

त्वचा की समस्याओं से बचने के उपाय अपनाने के साथ–साथ स्वास्‍थ्‍य संबंधी समस्याओं से बचना भी उतना ही आवश्यक है। दिल्ली स्थित पारस अस्पताल के डा राजीव एरी के अनुसार, ऐसे मौसम में त्वचा सम्बन्धी समस्याओं के होने के साथ–साथ हेपेटाइटिस, टायफायड और पानी से फैलने वाली बीमारियों के होने का खतरा अधिक होता है। फलों और सब्जि़यों को धोकर ही खायें और हल्के आहार का सेवन करें। बाहर का खाना कम से कम खायें और पानी को उबाल कर ही पीयें जिससे पानी में मौजूद सूक्षमजीवी नष्ट हो जायें।

 

ध्यान रखने योग्य सामान्‍य बातें :


  • खाना खाने से पहले हाथों को धोना ना भूलें अपने हाथों से चेहरे को ना छूऐं। 
  • सलाद या कच्ची सब्जि़या कम खायें। 
  • पानी को तांबे या चांदी के बर्तन में रखना सिर्फ फैशन ही नहीं है बल्कि इससे पानी में मौजूद कीटाणु नष्ट भी हो जाते हैं। 

 

हालांकि इन सामान्य बातों पर हम ध्यान नहीं दे पाते और आगे जाकर यह किसी भयानक बिमारी का कारण बन जाती हैं। स्वास्‍थ्‍य से संबंधी छोटी छोटी बातों को भी नज़रअंदाज़ ना करें।

 

 

Read More Articles on Beauty and Personal Care in Hindi

 

Write a Review Feedback
Is it Helpful Article?YES7 Votes 16752 Views 2 Comments
प्रतिक्रिया दें
disclaimer

इस जानकारी की सटिकता, समयबद्धता और वास्‍तविकता सुनिश्‍चित करने का हर सम्‍भव प्रयास किया गया है । इसकी नैतिक जि़म्‍मेदारी ओन्‍लीमाईहैल्‍थ की नहीं है । डिस्‍क्‍लेमर:ओन्‍लीमाईहैल्‍थ पर उपलब्‍ध सभी साम्रगी केवल पाठकों की जानकारी और ज्ञानवर्धन के लिए दी गई है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्‍सक से अवश्‍य संपर्क करें। हमारा उद्देश्‍य आपको रोचक और ज्ञानवर्धक जानकारी मुहैया कराना मात्र है। आपका चिकित्‍सक आपकी सेहत के बारे में बेहतर जानता है और उसकी सलाह का कोई विकल्‍प नहीं है।

टिप्पणियाँ
  • Seema26 Sep 2012

    Monsoon is a season to enjoy, I have got tips top make it happier!

  • diya Jaiswal08 Nov 2011

    my age is 23 . meri problem hai ki mere maathe par bal bahut hai aur eye brow se mil jati aisa koi gharelu tips batein pls answer for mail...

संबंधित जानकारी
  • सभी
  • लेख
  • स्लाइडशो
  • वीडियो
  • प्रश्नोत्तर