मानसून और मच्छर

By  , ओन्‍ली माई हैल्‍थ सम्पादकीय विभाग
Jun 19, 2012
Comment

हेल्‍थ संबंधी जानकारी के लिए सब्‍सक्राइब करें

Like onlymyhealth on Facebook!

Mosquitoesगर्मियों के कठिन दिनों के बाद शुरूआत होती है, मानसून की। तपती गर्मी के बाद बरसात का मौसम राहत भरा होता हे, लेकिन यह अपने साथ कुछ मुश्किलें भी लेकर आता है और इस मौसम में पानी और मच्छरों से जुड़ी बहुत सी बीमारियां भी होती हैं। मानसून का यह नमी भरा मौसम मच्‍छरों के लिए भी मुफीद होता है।


वो लोग जो मच्छरो को बस एक कीड़ा बताते हैं उनकी जानकारी के लिए कुछ तथ्यः

  • पृथ्वी पर लगभग 1 ट्रिलियन मच्छर हैं।
  • यह मच्छर लगभग 30 मिलियन सालों से अपने आप को गर्मी, बारिश, ठंड जैसी परिस्थितियों में भी जीवित रखते हैं।
  • जब मच्छर काटते हैं तो उनके शरीर में मौजूद प्रोटीन जो उनके सलाइवा में होता है वह दर्द और सूजन पैदा करता है।

[इसे भी पढ़ें- मानसून में आहार]

  • मच्छरों ने जो बीमारियां फैलायी है उनसे मरने वालों की संख्या यु़द्ध में मरने वालो की संख्या से कहीं अधिक है।
  • विश्व भर में मच्छरो ने जो बीमारियां फैलायी उनसे मरने वालो की संख्या हर साल लगभग 2 से 3 मिलियन है।
  • हर साल 200 मिलियन लोग मलेरिया ,फाइलेरियासिस, डेंगू व चिकनगुनिया जैसी बीमारी से ग्रसित होते हैं।
  • इन बीमारियों के आलावा एक ऐसी बहुत बड़ी बीमारी है जो मच्छरों से फैलती है ’जापानीज एन्सेफेलाइटिस’ यह बीमारी एशिया के देहाती इलाकों में पायी गयी है।

इसे भी पढ़ें- मानसून में रहे स्वस्थ


  • इस बीमारी में लगभग 4 में से 1 व्यक्ति जीवित बच पाता है। इस बीमारी में बहुत तेज बुखार, सरदर्द होता है व गला भी अकड़ता है। कई मरीज तो कोमा में भी चले जाते है।
  • इन बातों को ध्यान में रखकर बारिश के मौसम में मच्छरों से बचने का पूरा प्रयास करना चाहिए।


मच्छरों से बचने के कुछ तरीके

  • पानी को अपने घर के आस पास जमा न होने दें क्योंकि मलेरिया के मच्छर गन्दे पानी में पनपते हैं।
  • कूलर का पानी हर रोज बदलें। मच्छर जिस जगह पर ब्रीड करते हैं, ऐसे गड्ढो को भर दें और पानी को कहीं भी इकट्ठा न होने दें।
  • पानी के सभी स्रोतों को ढक कर रखे। पानी की टंकी, कुंआ, ड्रेनेज सभी को ढक कर रखें। पानी की टंकी को साफ रखें और उसमें दवा डालें।


जालियां और मच्छरदानी

 

खिड़कियों व दरवाजों में जालियां लगवाए इनसें हवा को भी आने जाने का मार्ग मिलता है। हमारे देश में मच्छरों से बचने का सबसे सुरक्षित उपाय है मच्छरदानी। दूसरे तरीके जैसे कॉएल हानिकारक होते हैं।

 

मच्छरों के काटने से बचेः

 

पूरी आस्तीन के कपड़े पहनें, मोजे पहनें और जितना हो सके खुद को ढकें जिससे की मच्छर आपको न काटने पायें।


मास्कीटो रिपेलेंट का प्रयोग करें

  • मास्कीटो रिपेलेंट, क्रीम व स्प्रे की मदद से मच्छरों से बचा जा सकता है।
  • बाहर जाते समय स्किन पर डीइइटी लगायें। यह बच्चों व प्रेग्नेंट स्त्रियों के लिए भी सुरक्षित है।
  • शोधकर्ताओं ने पिकारिडीन और लेमन युक्लिप्टस को प्राकृतिक मास्कीटो रिपेलेंट माना है।

 

मच्छरों के काटने के कुछ तय घंटे

  • शाम से लेकर सुबह तक का समय मच्छरों की बहुत सी प्रजातियों का समय होता है।
  • शाम से प्रातः सुबह तक मच्छरों के काटने से बचें ा पूरी आस्तीन के कपड़े पहनें मास्कीटो रिपेलेंट, क्रीम व स्प्रे का प्रयोग करें।
  • इन बातोंको ध्यान में रखकर मच्छरों से होने वाली बीमारियों से बचा जा सकता है।

 

Read More Articles on Communicable Diseases in Hindi

Write a Review
Is it Helpful Article?YES2 Votes 11624 Views 0 Comment
प्रतिक्रिया दें
disclaimer

इस जानकारी की सटिकता, समयबद्धता और वास्‍तविकता सुनिश्‍चित करने का हर सम्‍भव प्रयास किया गया है । इसकी नैतिक जि़म्‍मेदारी ओन्‍लीमाईहैल्‍थ की नहीं है । डिस्‍क्‍लेमर:ओन्‍लीमाईहैल्‍थ पर उपलब्‍ध सभी साम्रगी केवल पाठकों की जानकारी और ज्ञानवर्धन के लिए दी गई है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्‍सक से अवश्‍य संपर्क करें। हमारा उद्देश्‍य आपको रोचक और ज्ञानवर्धक जानकारी मुहैया कराना मात्र है। आपका चिकित्‍सक आपकी सेहत के बारे में बेहतर जानता है और उसकी सलाह का कोई विकल्‍प नहीं है।

संबंधित जानकारी
  • सभी
  • लेख
  • स्लाइडशो
  • वीडियो
  • प्रश्नोत्तर