घर पर ध्‍यान का कैसे उठायें लाभ

By  , ओन्‍ली माई हैल्‍थ सम्पादकीय विभाग
Sep 07, 2011
Comment

Subscribe for daily wellness inspiration

Like onlymyhealth on Facebook!

Quick Bites

  • शांत व निर्मल स्‍थान पर ही करें ध्‍यान।
  • ध्‍यान करते समय अपनी रीढ़ की हड्डी सीधी रखें।
  • ध्‍यान में धीरे-धीरे ही सफलता हासिल की जा सकती है।
  • ध्‍यान के लिए आप इंटरनेट पर उपलब्‍ध वीडियो की मदद ले सकते हैं।

 

ध्‍यान एक ऐसी पुरातन भारतीय पद्धति जो आपके मन और मस्तिष्‍क को शांत और एकाग्रचित्‍त बनाने में मदद करती है। शांत और एकाग्रचित्‍त व्‍यक्ति अपने लक्ष्‍य को आसानी से हासिल कर सकता है। ऐसा माना जाता है कि ध्‍यान केवल किसी आश्रम या शांत स्‍थल पर ही किया जा सकता है। लेकिन, यदि आपको अभ्‍यास हो, तो आप घर पर ही ध्‍यान कर सकते हैं। 

घर में मेडिटेशन एक योग विशेषज्ञ द्वारा सिखाये जाने के अपने परंपरागत दृष्टिकोण में अधिक महत्वपूर्ण है। घर पर मेडिटेशन लोगो के लिए सबसे अच्छा सहारा है जो लोग योगा विशेषज्ञ से मेडिटेश की तकनीकों को सीखने में सक्षम नही हो सकते है।

 

घर पर बिना प्रशिक्षक के कैसे मेडिटेशन कर सकते है?


मेडिटेश तकनीकों के कई प्रकार है जो स्वयं निर्देशों का स्वयं निर्धारित कर, अपने चिकित्सकों से एक प्रभावी समाधान प्रदान करते हैं। हालांकि, आप अपने अनुसार समय तय कर सकते है। मेडिटेशन की अवधि आपके चयन पर निर्भऱ करता है। घर पर मेडिटेशन के सबसे आधारभूत स्तर के लिए, निम्न चरण का पालन करें। 

meditation

पहला चरण

घर पर मेडिटेशन शुरू करने के लिए, आप एक जगह निश्चित करे जो कि शांतिपूर्ण और निर्मल होनी चाहिए। शोर और प्रदूषण का न होना बहुत महत्वपूर्ण है जिस समय आप मेडिटेशन के लिए बैठते हैं।

 

दूसरा चरण

सीधा बैठने की कोशिश करो हैं और जहां तक संभव हो अपनी रीढ़ को बिना अपने शरीर पर दबाव डालें, सुविधानुसार सीधा रखे। आप या तो बिस्तर पर या एक फर्श पर बिछे कालीन पर या एक कुर्सी को बैठने के लिए चुन सकते है। मेडिटेशन के लिए सामान्य स्थिति के चौकड़ी लगाकर बैठना है लेकिन यदि यह असुविधाजनक है, तो आप अपने पैरों को फैलाने के साथ या एक स्थिति जिसमें आप अत्यंत आराम और सुविधा महसूस करें, बैठने के लिए चुन सकते हैं। मेडिटेशन तकनीक का प्रभाव अत्यधिक रूप से सुविधा के स्तर पर निर्भर करता है।



तीसरा चरण

अपने मन में एक विशिष्ट वस्तु की कल्पना करना शुरू करें। और खुद के रूप में वस्तु पर एकाग्रचित्‍त होने की कोशिश करें। अपने आप वस्तु का आकार, रंग और बनावट में कल्पना करने की कौशिश करें। ऐसा करने से आप आराम और शांतिं महसूस करना शुरू करेंगे। यदि दृश्य स्वाभाविक रूप से नहीं आते है। अपने आप को सोचने के लिए मजबूर न करें जिससे आपका मन सहज न हो। आप आप के आसपास कुछ चीजों पर साधारण रूप से एकाग्रता करना शुरू करें और धीरे - धीरे वस्तु में खुद को देखना शुरू कर सकते है।

 

 

चौथा चरण

यह संभव है कि जब एक वस्तु पर ध्यान केंद्रित करें, आप स्वयं हर रोज की स्थितियों को लेकर अन्य मुद्दों के बीच उतार चढ़ाव हो सकता है। ऐसी परिस्थिति में, आप अपने सांस लेने के तरीके(पैटर्न) पर अपना ध्यान आकर्षित करना चाहिए। गहरी साँस लेने की कोशिश करें और पूरी तरह से सांस छोड़े। सुनिश्चित करें कि आप अपने सांस लेने के तरीके पर अपनी एकाग्रता को विकसित करते हैं और धीरे - धीरे अपने आप को एक वस्तु के रूप में देखने का वापस प्रयास करें।

meditation

पांचवां चरण

अपने सांस लेने के तरीके की गति को बढ़ाने की कोशिश करें और अपने पेट को संकुचित करने और फैलाने की कोशिश करें। आप को निश्चित रूप से मदद मिलेगी कि आपका मन स्थिर है। कोई फर्क नहीं पड़ता कि आप किस तरह के मेडिटेशन तकनीक का चयन करते है, उपर्युक्त बुनियादी अभ्यास के चरण की मदद से आप आसानी से जटिलता को समझ सकते है। 

 

ध्‍यान आपको मानसिक और शारीरिक रूप से शक्ति और ऊर्जा प्रदान करता है। ध्‍यान एक ऐसी प्रक्रिया है जो आपके मस्तिष्‍क से नकारात्‍मक विचारों को दूर कर आपमें शांति और चेतना का प्रवाह करती है।

 

Image Courtesy- Getty Images

 

Read More Article on Meditation in hindi.

Write Comment Read ReviewDisclaimer Feedback
Is it Helpful Article?YES278 Votes 34492 Views 4 Comments
संबंधित जानकारी
  • सभी
  • लेख
  • स्लाइडशो
  • वीडियो
  • प्रश्नोत्तर