मौसम में बदलाव से बदलता है रक्‍तचाप

By  , ओन्‍ली माई हैल्‍थ सम्पादकीय विभाग
May 22, 2013
Comment

Subscribe for daily wellness inspiration

Like onlymyhealth on Facebook!

mausam me badlav se badlta hai raktchap

बरसात और ठण्‍ड भरा मौसम देखकर आपका दिल मचल उठता है। लेकिन, इससे आपको ब्‍लड प्रेशर के शिकार हो सकते हैं। ग्‍लासको यूनिवर्सिटी की रिसर्च में यह बात सामने आई है। इस रिसर्च में कहा गया है कि कैसे कई लोगों का रक्‍तचाप आसपास के तापमान के आधार पर ऊपर-नीचे होता रहता है। जैसे-जैसे पारा नीचे जाता है, खतरा बढ़ता जाता है। इसमें यह बात भी सामने आई है कि मौसम में इस तरह का बदलाव के कारण कई लोग अपनी जान भी गवां सकते हैं।


एक आम आदमी के लिए के लिए यह बात जरा हैरान करने वाली हो सकता है। लेकिन, त्‍वचा के ऊपरी हिस्‍से की रक्‍तवाहिनी ठण्‍ड के प्रति अधिक संवेदनशील होती हैं। वे गरमाहट को बचाने के लिए ऐसी होती हैं, क्‍योंकि गर्मी से रक्‍तचाप बढ़ता है। रक्‍तचाप में बदलाव के कारण शरीर में तनाव पैदा होता है और इससे हृदयाघात और स्‍ट्रोक का खतरा बढ़ जाता है। इसलिए, किसी व्‍यक्ति का रक्‍तचाप देखते समय डॉक्‍टर को चाहिए कि उस समय के तापमान को भी नोट करे। तो, इससे डॉक्‍टर को यह अंदाजा लगाने में मदद मिलती है कि कोई व्‍यक्ति किसी संवेदनशील है। इससे इलाज करने में भी मदद मिलती है।


स्‍वास्‍थ्‍य विशेषज्ञ एस. पद्माभन ने पश्‍चिमी स्‍कॉटलैण्‍ड की मौसम सम्‍बन्‍धी जानकारियों और रोगियों के रक्‍तचाप के चालीस वर्षों के डाटा का अध्‍ययन करने के बाद यह बात कही। इसमें यह बात सामने आई कि आधे लोग मौसम में होने वाले बदलावों के प्रति संवेदनशील थे। इन लोगों में मौसम में दस डिग्री सेल्‍सियस की गिरावट से रक्‍तचाप तीन एमएम और छह एमएम बढ़ गया।


भले ही यह अन्‍तर बहुत अधिक महसूस नहीं होता हो, लेकिन आपको यह जानकार हैरानी होगी कि रक्‍तचाप में महज दो एमएम की बढ़त भी हृदयाघात का खतरा पैदा कर सकती है।




Read More Articles on Health News in hindi.

Write Comment Read ReviewDisclaimer Feedback
Is it Helpful Article?YES4 Votes 2208 Views 0 Comment
संबंधित जानकारी
  • सभी
  • लेख
  • स्लाइडशो
  • वीडियो
  • प्रश्नोत्तर