इस व्यक्ति ने एक महीने तक पिया ऊंटनी का दूध और हो गया ये कमाल

By  , ओन्‍ली माई हैल्‍थ सम्पादकीय विभाग
Feb 17, 2017
Comment

हेल्‍थ संबंधी जानकारी के लिए सब्‍सक्राइब करें

Like onlymyhealth on Facebook!

Quick Bites

  • ऊंटनी के दूध में कई सारे विटामिन्स और एंटीबॉडीज़ होते हैं।
  • एक लीटर ऊंटनी के दूध में 52 यूनिट इंसुलिन की मात्रा होती है।
  • इस कारण इसक नियमित सेवन से मधुमेह रोग ठीक होता है।

राजस्थान के टोंक गांव में रहने वाले हनुमान बलि पिछले तीन साल से मधुमेह से पीड़ित थे। हजारों रुपये उनके इलाज में खर्ज हो गये थे जिसका आंकड़ा लाखों तक पहुंचने वाला था। तभी उनके दोस्त ने उन्हें ऊंटनी का दूध ट्राय करने बोला। हनुमान बलि ने सोचा जब इतने पैसे और इतनी दवाईयां ट्राय कर ही चुके हैं तो ये उपाय भी अपना ही लेता हूं। ये सोचकर हनुमान बलि ने ऊंटनी का दूध पीना शुरू किया। अभी उसे ऊंटनी का दूध पीते हुए एक महीने ही हुए थे कि उनका शुगर कंट्रोल हो गया और एक महीने बाद ही उनकी डायबीटिज पूरी तरह से ठीक हो गई। आज हनुमान बलि की डायबीटिज और मोटापा पूरी तरह से कंट्रोल में है और वो पहले की तरह हर चीज खा-पी रहे हैं और मेहनत कर रहे हैं। जबकि डायबीटिज और दवाई लेने के दौरान उसे कई चीजों से परहेज करनी पड़ती थी और वो ज्यादा शारीरिक क्रियाएं भी नहीं कर पाता था। आज वो पूरी तरह से तंदुरुस्त है और पहले से अधिक मेहनत करता है।  


ऊंटनी का दूध मधुमेह जैसी जटिल बीमारी ठीक करने के अलावा अन्य कई सारी बीमारियां भी ठीक कर देता है। इसका दूध लगातार एक से दो महीने तक पीने से शरीर की कई सारी बीमारियां ठीक हो जाती हैं। आइए इस लेख में जानें ऊंटनी के दूध के फायदे और उनसे दूर होने वाली बीमारी।

ऑटिज्म भी करे ठीक

मानसिक बीमारी दूर करने के लिए ऊंटनी का दूध रामबाण इलाज है। बीकानेर के राष्ट्रीय उष्ट्र अनुसंधान केंद्र ने हाल ही में एक स्टडी कराई जिसमें इस बात की पुष्टि की गई कि ऊंटनी का दूध मंद बुद्धि बच्चों के लिए अमृत के समान होता है। जिस कारण ऑटिज्म जैसी बीमारियां और मानसिक विकार ठीक हो जाते हैं। इस कारण राष्ट्रीय उष्ट्र अनुसंधान केंद्र ने ऊंटनी के दूध से बने कई तरह के उत्पाद भी बाजार में उतार दिए हैं और लोगों तक इसका फायदा पहुंचाने के लिए किसानों को मोटिवेट भी कर रहा है।
इस स्टडी में पंजाब के फरीदकोट में स्पेशल चिल्ड्रन के एक केंद्र में तीन महीने तक लगातार लगभग 10 मंद बुद्धि बच्चों को रोजाना सुबह-शाम 300 एमएल ऊंटनी का दूध पिलाया गया। इन बच्चों में बीमारी ठीक होने में दूसरे मंदबुद्धि बच्चों की तुलना में ज्यादा ग्रोथ पाई गई।

 

ऊंटनी के दूध के फायदे

  • यदि आप नमकीन होने की वजह से ऊंटनी के दूध से परहेज करते हैं तो सबसे पहले इसके फायदे जान लीजिए। इन फायदों को जानकर आप ऊंटनी का दूध पीने से खुद को रोक नहीं पाएंगे।
  • ऊंटनी का दूध कई सारे रोगों में फायदेमंद होता है। ऊंटनी का दूध शरीर में रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाता है जिससे मौसमी बीमारियां शरीर में नहीं होती। मानसिक बीमारियां ठीक होती हैं।
  • रोजाना ऊंटनी का दूध पीने से बच्चों की मानसिक बीमारियां ठीक होती हैं। इसके अलावा सामान्य शख्स द्वारा रोजाना ऊंटनी का दूध पीने से उसमें सोचने-समझने की क्षमता सामान्य लोगों की तुलना में ज्यादा विकसित होती है। साथ ही यह बच्चों को कुपोषण से भी बचाता है और उनमें बौद्धिक क्षमता का विकास करता है।
  • जल्दी पचता है- ऊंटनी का दूध गाय की दूध की तुलना में तुरंत पच जाता है। इसमें दुग्ध शर्करा, प्रोटीन, कैल्शियम, कार्बोहाइड्रेट,सुगर, फाइबर ,लैक्टिक अम्ल, आयरन, मैग्निशियम, विटामिन ए , विटामिन  ई , विटामिन बी 2, विटामिन सी , सोडियम, फास्फोरस ,पोटैशियम, जिंक, कॉपर, मैग्नीज जैसे बहुत सारे तत्व पाए जाते हैं जो कि हमारे शरीर को सुंदर और निरोगी बनाते हैं।
  • हड्डियां बनाए मजबूत - ऊंटनी के दूध में कैल्शियम काफी मात्रा में होता है हड्डियां मजबूत बनाने में सहायक है।
  • कैंसर से रक्षा करे - इसके अलावा इस दूध में लेक्टोफेरिन नामक तत्व पाया जाता है जो कैंसर जैसी घातक बीमारी से लड़ने के लिए शरीर को तैयार करता है।  
  • खून साफ करे - यह खून से सारे टॉक्सिन्स दूर कर लिवर को साफ करता है।
  • मधुमेह ठीक करे -  ऊंटनी का दूध मधुमेह के लिए सबसे रामबाण इलाज माना जाता है। इससे सालों का मधुमेह महीनों में ठीक हो जाता है। ऊंटनी के एक लीटर दूध में लगभग 52 यूनिट इंसुलिन की मात्रा होती है। जो कि अन्य पशुओं के दूध में पाई जाने वाली इंसुलिन की मात्रा से काफी अधिक है। इंसुलिन शरीर में प्रतिरोधक क्षमता तैयार करता है और मधुमेह जैसी बीमारियां ठीक करता है।
  • अन्य बीमारियां भी करे ठीक - ऊंटनी का दूध विटामिन और खनिज तत्वों से भरपूर होता है। इसमें एंटीबॉडी भी काफी मात्रा में मौजूद होते हैं। इसके नियमित सेवन से ब्लड सुगर, इंफेक्शन, तपेदिक, आंत में जलन, गैस्ट्रिक कैंसर, हैपेटाइटिस सी, एड्स, अल्सर, हृदय रोग, गैंगरीन ,किडनी संबंधी बीमारियों से शरीर का बचाव करता है।
  • त्वचा निखारे - बीमारियों के अलवा ऊंटनी का दूध त्वचा निखारने का भी काम करता है। इस दूध में अल्फा हाइड्रोक्सिल अम्ल पाया जाता है। जो कि त्वचा को निखारने का काम करता है। इसीलिए इसका इस्तेमाल सौंदर्य संबंधी पोडक्ट बनाने में भी किया जाता है।

 

बाजार का नया सुपर फुड, यूरोप में भी बढ़ी मांग

ऊंटनी के दूध के फायदों को देखते हुए इसकी मांग यूरोप के बाज़ारों में काफी बढ़ गई है जिसके कारण ये बाजार में सुपर फूड का रुप ले चुका है। दरअसल गाय की दूध की तुलना में ऊंटनी के दूध में विटामिन बी और सी दस प्रतिशत ज्यादा होता है। ऊंटनी के दूध पर हुई अन्य शोध में भी इस बात की पुष्टि हो चुकी है कि यह दूध डायबीटिज़ औऱ दिल की बीमारी के लिए बहुत हद तक प्रभावी होता है। खुद संयुक्त राष्ट्र के खाद्य एवं कृषि संगठन चाहता है कि पश्चिमी देशों में मौरीतानिया से लेकर कज़ाकिस्तान के लोग ऊंटनी का दूध बेचना शुरु करें।

 

Read more articles on Healthy eating in Hindi.

Write a Review
Is it Helpful Article?YES128 Votes 18256 Views 0 Comment
प्रतिक्रिया दें
disclaimer

इस जानकारी की सटिकता, समयबद्धता और वास्‍तविकता सुनिश्‍चित करने का हर सम्‍भव प्रयास किया गया है । इसकी नैतिक जि़म्‍मेदारी ओन्‍लीमाईहैल्‍थ की नहीं है । डिस्‍क्‍लेमर:ओन्‍लीमाईहैल्‍थ पर उपलब्‍ध सभी साम्रगी केवल पाठकों की जानकारी और ज्ञानवर्धन के लिए दी गई है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्‍सक से अवश्‍य संपर्क करें। हमारा उद्देश्‍य आपको रोचक और ज्ञानवर्धक जानकारी मुहैया कराना मात्र है। आपका चिकित्‍सक आपकी सेहत के बारे में बेहतर जानता है और उसकी सलाह का कोई विकल्‍प नहीं है।

संबंधित जानकारी
  • सभी
  • लेख
  • स्लाइडशो
  • वीडियो
  • प्रश्नोत्तर