अब दिमाग को पढ़ने वाली मशीन

By  , ओन्‍ली माई हैल्‍थ सम्पादकीय विभाग
Feb 07, 2012
Comment

हेल्‍थ संबंधी जानकारी के लिए सब्‍सक्राइब करें

Like onlymyhealth on Facebook!

Ab dimag ko padhne wali machine

लंदन। यह अभी भले ही विज्ञान गल्प लगता हो लेकिन वैज्ञानिकों का कहना है कि दिमाग को पढ़ने वाली एक मशीन ईजाद करने की दिशा में काम किया जा रहा है। वैज्ञानिकों के अंतरराष्ट्रीय दल ने दावा किया है कि यह मशीन सिर्फ मस्तिष्क की तरंगों को डिकोड करके यह बता सकती है कि संबंधित व्यक्ति क्या सुन रहा है।

 

इसे बड़ी उपलब्धि माना जा रहा है क्योंकि इससे इस उपकरण का ऐसे मरीजों में प्रत्यारोपण करके उनकी बात समझने में मदद मिल सकती है जो बोल नहीं सकते हैं। अपने शोध में वैज्ञानिकों ने दिखाया कि मस्तिष्क शब्दों को पेचीदा इलेक्ट्रिकल गतिविधि में तोड़ देता है जिसे डिकोड करके वापस मूल ध्वनि के मिलते जुलते रूप में अनुवाद किया जा सकता है।

 

डेली टेलीग्राफ में प्रकाशित समाचार में कहा गया कि इससे उन मरीजों की भावनाओं को समझने में मदद मिलेगी जिनका मस्तिष्क क्षतिग्रस्त हो गया है। बर्कले में यूनिवर्सिटी ऑफ कैलिफोर्निया के शोधकर्ताओं में से एक प्रोफेसर राबर्ट नाइट ने कहा ‘यह उन मरीजों के लिए एक बड़ी राहत की बात होगी जिनकी बोलने की क्षमता बाधित है या जिनका मस्तिष्क किन्हीं कारणों से क्षतिग्रस्त हो गया है।’

Write a Review
Is it Helpful Article?YES1 Vote 12010 Views 0 Comment
प्रतिक्रिया दें
disclaimer

इस जानकारी की सटिकता, समयबद्धता और वास्‍तविकता सुनिश्‍चित करने का हर सम्‍भव प्रयास किया गया है । इसकी नैतिक जि़म्‍मेदारी ओन्‍लीमाईहैल्‍थ की नहीं है । डिस्‍क्‍लेमर:ओन्‍लीमाईहैल्‍थ पर उपलब्‍ध सभी साम्रगी केवल पाठकों की जानकारी और ज्ञानवर्धन के लिए दी गई है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्‍सक से अवश्‍य संपर्क करें। हमारा उद्देश्‍य आपको रोचक और ज्ञानवर्धक जानकारी मुहैया कराना मात्र है। आपका चिकित्‍सक आपकी सेहत के बारे में बेहतर जानता है और उसकी सलाह का कोई विकल्‍प नहीं है।

संबंधित जानकारी
  • सभी
  • लेख
  • स्लाइडशो
  • वीडियो
  • प्रश्नोत्तर