मच्छरों के जीन से होगा मलेरिया का इलाज

By  , ओन्‍ली माई हैल्‍थ सम्पादकीय विभाग
Oct 06, 2012
Comment

Subscribe for daily wellness inspiration

Like onlymyhealth on Facebook!

macharo ko kyu nahi hota dengu malaria

कभी सोचा है आपने की डेंगूमलेरिया जैसी बीमारियां फैलाने वाले मच्छरों को ये बीमारियां क्यों नहीं होती हैं। एक शोध में वैज्ञानिकों की टीम ने इसके पीछे छिपे रहस्य को खोज लिया है। वैज्ञानिकों के मुताबिक मच्छरों की मजबूत प्रतिरक्षा प्रणाली की वजह से वे इन बीमारियों का शिकार नहीं होते हैं। इस खोज से भविष्य में डेंगू और मलेरिया के उपचार में उन्नत टीकों का विकास किया जा सकेगा।

 

[इसे भी पढ़े: मलेरिया रोकथाम के उपाय]

 

गीलोंग स्थित कॉमनवेल्थ साइंटिफिक एंड इंडस्ट्रियल आर्गनाइजेशन (सीएसआइआरओ) के शोधकर्ताओं ने मच्छर के शरीर में वागो नाम के एक प्रोटीन का पता लगाया है, जो इससे पहले मधुमक्खी के शरीर में पाया गया था। मच्छरों में इस प्रोटीन का स्त्राव संक्रमित कोशिकाओं द्वारा होता है।

[इसे भी पढ़े: प्रकृतिक रुप से मलेरिया का इलाज]

 

वागो दूसरी कोशिकाओं को भी इस हमलावर वायरस के खिलाफ सतर्क करता है और मच्छर की रक्षात्मक प्रणाली सचेत हो जाती है। दुनियाभर में हर साल डेंगू से पांच करोड़ से दस करोड़ लोग प्रभावित होते हैं और 22 हजार लोग दम तोड़ देते हैं। यह शोध नेशनल एकेडमी ऑफ साइंस पत्रिका में प्रकाशित हुआ है।

 

Read More Health News In Hindi

Write Comment Read ReviewDisclaimer Feedback
Is it Helpful Article?YES2 Votes 12585 Views 0 Comment
संबंधित जानकारी
  • सभी
  • लेख
  • स्लाइडशो
  • वीडियो
  • प्रश्नोत्तर