लाइफस्‍टाइल कम कर रहा है सुनने की क्षमता

By  , ओन्‍ली माई हैल्‍थ सम्पादकीय विभाग
Jan 04, 2014
Comment

हेल्‍थ संबंधी जानकारी के लिए सब्‍सक्राइब करें

Like onlymyhealth on Facebook!

हमारी सुनने की ताकत पर आनुधिक जीवनशैली हावी हो रहा है, यानी लाइफस्‍टाइल के कारण लोगों में बहरेपन का खतरा बढ़ रहा है। क्या आधुनिक जीवन हमारी सुनने की ताकत छीन रहा है? इसका जवाब तलाशने के लिए ब्रिटेन के शोधकर्ता एक व्यापक अध्ययन शुरू करने जा रहे हैं।

Lifestyle is Deteriorating Hearing Powerइस दौरान वे लोगों से उनके सुनने की क्षमता की ऑनलाइन जांच करने के लिए कहेंगे। मगर यह पता नहीं चला है कि इसके पीछे पर्यावरण से जुड़े कुछ कारक जैसे कि एम्प्लीफाइड म्‍यूजिक सुनना जिम्मेदार हैं।



मेडिकल रिसर्च काउंसिल चाहती है कि इस सवाल का जवाब देने के लिए युवा और बुजुर्ग आगे आएं। संबंधित वेबसाइट पर जाने पर वॉलंटियर से सवाल किए जाएंगे, ये सवाल उनकी सुनने की आदतों से जुड़े होंगे।



इनकी मदद से शोरगुल के बीच आवाज सुनने की हर वॉलंटियर की क्षमता का पता लगाया जाएगा। कहा जाता है कि इंसान अगर ज्‍यादा समय तक ऊंचा संगीत सुने, तो बहरा भी हो सकता है।



वैज्ञानिक यह देखना चाहते हैं कि प्रतिभागियों के सुनने की पुरानी आदत और सुनने की मौजूदा ताकत के बीच क्या कोई संबंध है, अगर हां, तो यह संबंध कैसा है?



डिस्को और क्लब में लोग बेहद तेज़ संगीत सुनने के आदी होते जा रहे हैं, विशेषज्ञों को पता है कि संगीत का ऊंचा सुर सुनने की क्षमता पर असर डालता है।  


आजकल लोग संगीत सुनने के लिए इयरफोन का नियमित इस्तेमाल करने लगे हैं, इयरफोन पर संगीत तो धीमा होता है, मगर लगातार सुनने की आदत चिंताजनक है। हियरिंग रिसर्च इंस्टीट्यूट के डॉ माइकल अकेरोड इस प्रोजेक्ट के मुख्य संचालक हैं।



उन्होंने बताया, "संगीत और सुनने की क्षमता से जुड़ा अध्ययन ज्यादातर उन संगीतकारों पर केंद्रित रहा, जो रोज ऊंचा संगीत सुनने को मजबूर होते हैं, मगर ऊंचे संगीत का आम लोगों पर क्या असर होता है, इसके बारे में अभी ज्‍यादा पता नहीं है। इस प्रोजेक्ट का मुख्य उद्देश्य यह पता लगाना है कि क्या दोनों के बीच कोई संबंध है?"



एक ताजा आंकलन के अनुसार 10 करोड़ लोगों में किसी न किसी रूप में कम सुनने की बीमारी पाई गई है। साल 2031 तक यह आंकड़ा 14.5 करोड़ तक पहुंचने की आशंका है।

 

Source-bbc.com

 

Read More Health News In Hindi

Write a Review
Is it Helpful Article?YES1 Vote 1083 Views 0 Comment
प्रतिक्रिया दें
disclaimer

इस जानकारी की सटिकता, समयबद्धता और वास्‍तविकता सुनिश्‍चित करने का हर सम्‍भव प्रयास किया गया है । इसकी नैतिक जि़म्‍मेदारी ओन्‍लीमाईहैल्‍थ की नहीं है । डिस्‍क्‍लेमर:ओन्‍लीमाईहैल्‍थ पर उपलब्‍ध सभी साम्रगी केवल पाठकों की जानकारी और ज्ञानवर्धन के लिए दी गई है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्‍सक से अवश्‍य संपर्क करें। हमारा उद्देश्‍य आपको रोचक और ज्ञानवर्धक जानकारी मुहैया कराना मात्र है। आपका चिकित्‍सक आपकी सेहत के बारे में बेहतर जानता है और उसकी सलाह का कोई विकल्‍प नहीं है।

संबंधित जानकारी
  • सभी
  • लेख
  • स्लाइडशो
  • वीडियो
  • प्रश्नोत्तर