लैपटॉप-टैबलेट न बन जाएं दर्द का सामान

By  , ओन्‍ली माई हैल्‍थ सम्पादकीय विभाग
Oct 08, 2012
Comment

हेल्‍थ संबंधी जानकारी के लिए सब्‍सक्राइब करें

Like onlymyhealth on Facebook!

Quick Bites

  • आजकल लैपटॉप और टैबलेट की जरूरत सबसे ज्‍यादा है।
  • इन गैजेट्स का प्रयोग करने से दर्द की समस्‍या बढ़ रही है।
  • हार्वर्ड स्कूल ऑफ पब्लिक हेल्थ के शोध में यह साबित हुआ।  
  • दर्द से बचने के लिए काम के बीच में लीजिए हल्‍के ब्रेक।

आज का समय लैपटॉप और टैबलेट का समय है। अपने रोजमर्रा के कितने की कामों के लिए हम लैपटॉप पर निर्भर है, और दिन में कई घंटे लैपटॉप पर बिताते हैं। अगर आप भी ई-बुक पढ़ने या आई-पैड टैबलेट कंप्यूटर पर ई-मेल करने में घंटों बिताते है, तो आप भी गले और कंधे के दर्द का जोखिम मोल ले रहे हैं।

Negative Effects of Laptop & Tablets inहार्वर्ड स्कूल ऑफ पब्लिक हेल्थ, बर्मिंघम एंड वीमेंस हॉस्पिटल और माइक्रोसॉफ्ट किए गए शोध में यह बात सामने आयी है कि 'आप महज व्यूइंग एंगल को एडजस्ट करके राहत महसूस कर सकते है।' स्टडी के प्रिंसिपल इन्वेस्टिगेटर प्रोफेसर डॉ, जैक डेनरलीन कहते है, 'टेबलेट पर लंबे समय तो नजर गड़ाए रखने से आपकी गर्दन, सिर और कंधे प्रभावित होते है। जैसे-जैसे आपकी गर्दन नीचे झुकती जाती है, वैसे-वैसे तकलीफ़ बढ़ती जाती है।' आइए हम आपको बताते है लैपटॉप-टैबलेट से होने वाली समस्याएं और उनके समाधान।

 

समस्याएं

गर्दन, रीढ़ की हड्डी के ऊपरी सिरे पर स्थित होती है। जहां पर छोटी-छोटी कई हड्डियों होती है, जिन्हें सर्वाइकल वर्टिब्रा कहा जाता है। एक शोध में यह बात सामने आई है कि टैबलेट कंप्यूटर को अपनी गोद में बहुत नीचे रखने पर वर्टिब्रा और गर्दन की मांसपेशियां आगे की ओर बहुत ज्यादा झुक जाती हैं। इसकी वजह से न केवल मांसपेशियों, नसों, लिगामेंट्रस और स्पाइनल डिस्क पर बहुत जोर पड़ता है, बल्कि कई बार वे जख्मी, भी हो जाती हैं। हालांकि, एक और शोध के दौरान जब टैबलेट केस के सहारे एक टेबल पर रखा गया, गर्दन सीधी रही, तब गर्दन पर जोर भी कम पड़ा और दर्द का जोखिम भी कम रहा।

 

समाधान

  • सबसे पहले अपने टैबलेट को टैबलेट केस के सहारे खड़ा कीजिए, त‍ाकि आराम से उस पर नजरें जमा सकें। और जिससे आपकी गर्दन को ज्यादा झुकाने की जरूरत भी नही पड़ेगी।
  • दूसरी जरूरी बात यह है कि गर्दन को थोड़ा आराम दीजिए। 
  • हर 15 मिनट के बाद आप अपनी पॉजिशन बदल लेनी चाहिए। 
  • अपने हाथ को बदलिए, दाएं हाथ की जगह बाएं हाथ का इस्तेमाल क‍ीजिए, और अगर बाएं हाथ का इस्तेमाल कर रहे है तो दाएं का इस्तेमाल कीजिए।
  • वजन शिफ्ट कीजिए, खड़े होइए और बैठ जाइए।
  • डेस्कटॉप कंप्यूटर पर बैठने पर आपका बैठने का तरीका सही होना चाहिए। इस बात से ज्यादा फर्क नही पड़ता कि आप किस तरह की डिवाइस इस्तेमाल कर रहे है। 
  • डेस्कटॉप कंप्यूटर इस्तेमाल करने के लिए एक गाइडलांइस बताई गई है, उसके अनुसार सिर सीधा रख कर तनकर बैठें, आगे झुकें नही इस बात का भी ध्यान रखें। 
  • आपके मॉनिटर का टॉप आपकी आंखों के लेवल के बराबर होना चाहिए। कंधो को ढीला रखें और कोहनी को शरीर के पास रखें। 
  • डेस्कटॉप कंप्यूटर पर बैठते समय ऐसी कुर्सी पर बैठें जिसमें सपोर्ट बहुत अच्छा हो। अगर आपके पास स्पे‍शल कुर्सी न हो तो पीठ को तकिए का सहारा दें। 
  • अपने हाथ, कलाई और जांघों को फ्लोर के सामानातंर रखें।


लैपटॉप कंप्यूटर इस्तेमाल करते वक्त भी इन बातों पर ध्यान रखना जरूरी है, लेकिन उसमें थोड़ी अतिरिक्त सावधानी की जरूरत होती है। डॉ, डेनरलीन कहते है, 'अगर आप अपनी डेस्क पर इसे बहुत अधिक समय तक इस्तेमाल कर रहे है, तो इसे डेस्कटॉप की तरह इस्तेमाल करें। अलग की-बोर्ड का इस्तेमाल करें, न कि लैपटॉप के की-बोर्ड का, क्योंकि मॉनिटर नीचे होता है और की-बोर्ड ऊपर।'

 

 

Read More Article on Office-Health in hindi.

Write a Review Feedback
Is it Helpful Article?YES1 Vote 11526 Views 0 Comment
प्रतिक्रिया दें
disclaimer

इस जानकारी की सटिकता, समयबद्धता और वास्‍तविकता सुनिश्‍चित करने का हर सम्‍भव प्रयास किया गया है । इसकी नैतिक जि़म्‍मेदारी ओन्‍लीमाईहैल्‍थ की नहीं है । डिस्‍क्‍लेमर:ओन्‍लीमाईहैल्‍थ पर उपलब्‍ध सभी साम्रगी केवल पाठकों की जानकारी और ज्ञानवर्धन के लिए दी गई है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्‍सक से अवश्‍य संपर्क करें। हमारा उद्देश्‍य आपको रोचक और ज्ञानवर्धक जानकारी मुहैया कराना मात्र है। आपका चिकित्‍सक आपकी सेहत के बारे में बेहतर जानता है और उसकी सलाह का कोई विकल्‍प नहीं है।

संबंधित जानकारी
  • सभी
  • लेख
  • स्लाइडशो
  • वीडियो
  • प्रश्नोत्तर