लड़कियों के लिए सेक्स शिक्षा

By  , ओन्‍ली माई हैल्‍थ सम्पादकीय विभाग
Dec 04, 2012
Comment

हेल्‍थ संबंधी जानकारी के लिए सब्‍सक्राइब करें

Like onlymyhealth on Facebook!

ladkiyon ke liye sex shiksha

किशोरावस्था में लड़कियों को सेक्स शिक्षा देना बहुत जरुरी हो जाता है, क्योंकि इस समय लड़कियों के कई लड़के दोस्त होते हैं जिनके साथ वे स्कूल, ट्यूशन में ज्यादा समय बिताती हैं। ऐसे में अक्सर वे दोनों एक दूसरे की तरफ आकर्षित होने लगते हैं इसलिए उन्हें सेक्स शिक्षा देना बहुत ही जरूरी है। क्योंकि इसके बिना उनसे कई तरह की गलतियां हो सकती है। लड़कियों को  सेक्स शिक्षा देने में उनकी माताओं का अहम रोल होता है। अक्सर लड़कियां इस उम्र में अपनी मां से हर बात शेयर करती है जिससे मां को सेक्स शिक्षा देने का मौका मिल जाता है।

[इसे भी पढ़े : किशोरावस्था में सेक्स शिक्षा]

एक लड़की का शरीर किशोरावस्था में विकसित होना शुरु हो जाता है, लेकिन वह अपने अंदर होने वाले जैविक व भावनात्मक बदलावों को समझ नहीं पाती हैं। और वो इसका जिक्र अपनी सहेलियों से करती हैं लेकिन वे भी इसी दौर से गुजरती हैं इसलिए उनके द्वारा बताई गई बातें उसके समस्याओं को हल नहीं कर पाती हैं। इस उम्र में लड़कियों को सही गाइडलाइन की जरूरत होती है। जो उन्हें उनके स्कूल व अभिभावक से मिल सकती है।   

लड़कियों को सेक्स शिक्षा देने में उन्हें सबसे पहले मासिक धर्म के बारे में बताना चाहिए। कई बार माता-पिता के लिए यह काफी मुश्किल भरा होता है लेकिन यह जरूरी है कि लड़कियों को इसकी शिक्षा समय पर दी जाए। लड़कियों को सीधे व सरल ढ़ंग से सेक्स की शिक्षा दी जानी चाहिए। कठिन व भारी शब्दों के प्रयोग से वह समझ नहीं पाएगी कि आप उसे क्या समझाना चाहते हैं। आईए जाने कैसे दें लड़कियों को सेक्स शिक्षा। 

[इसे भी पढ़े : लड़कों के लिए सेक्स शिक्षा]

सही सूचना दें

लड़कियों को सेक्स की शिक्षा देते समय डरे नहीं उन्हें उनकी समझ के अनुसार समझाने की कोशिश करें। बच्चों को सही बातें बताएं क्योंकि गलत बातों से उनका तो नुकसान होगा ही साथ ही उनके साथियों का भी जिनसे वे ये बातें शेयर करेंगी।

 

मासिक धर्म के बारे में बताएं

लड़कियों को मासिक धर्म के बारे में पूरी जानकारी दें। यह क्या है, क्यों होता है, कब होता है आदि। आपके द्वारा बताई गई बातों से उन्हें इस दौरान होने वाली समस्याओं में मदद मिलती है। लड़कियां जब पहली बार इस समस्या से गुजरती हैं तो वे काफी परेशान हो जाती है ऐसे में उन्हें आपके प्यार व सहयोग की जरूरत होती है।

[इसे भी पढ़े : भारत में सेक्स शिक्षा]

भावनात्मक बदलाव

लड़कियों में किशोरावस्था के शारीरिक बदलाव के साथ भावनात्मक बदलाव भी होते हैं। यह बहुत ही सामान्य प्रक्रिया है क्योंकि शरीर में नए हार्मोन्स बनते हैं जिसका असर लड़कियों के मूड व स्वभाव पर होता है। ऐसे में अभिभावक को उनसे संभावित समस्याओं के बारे में बात करनी चाहिए जिसके कारण उनका मूड बदलता रहता है।

 

Read More Article on Sex-Education in hindi.

Write a Review
Is it Helpful Article?YES1293 Votes 93307 Views 1 Comment
प्रतिक्रिया दें
disclaimer

इस जानकारी की सटिकता, समयबद्धता और वास्‍तविकता सुनिश्‍चित करने का हर सम्‍भव प्रयास किया गया है । इसकी नैतिक जि़म्‍मेदारी ओन्‍लीमाईहैल्‍थ की नहीं है । डिस्‍क्‍लेमर:ओन्‍लीमाईहैल्‍थ पर उपलब्‍ध सभी साम्रगी केवल पाठकों की जानकारी और ज्ञानवर्धन के लिए दी गई है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्‍सक से अवश्‍य संपर्क करें। हमारा उद्देश्‍य आपको रोचक और ज्ञानवर्धक जानकारी मुहैया कराना मात्र है। आपका चिकित्‍सक आपकी सेहत के बारे में बेहतर जानता है और उसकी सलाह का कोई विकल्‍प नहीं है।

टिप्पणियाँ
  • harish18 Dec 2012

    right solution

संबंधित जानकारी
  • सभी
  • लेख
  • स्लाइडशो
  • वीडियो
  • प्रश्नोत्तर