क्या है क्षय रोग

By  , ओन्‍ली माई हैल्‍थ सम्पादकीय विभाग
Feb 24, 2012
Comment

हेल्‍थ संबंधी जानकारी के लिए सब्‍सक्राइब करें

Like onlymyhealth on Facebook!

क्षय रोग से हमारे देश में हर साल लगभग 1.5 मिलियन लोग मौत का शिकार हो जाते हैं। इसकी वजह है क्षय रोग के बारे में लोगों की जानकारी का अभाव। क्षय रोग एक संक्रामक बिमारी है, रोगियों से संपर्क में रहने से यह बिमारी फैलाती है। क्षय रोग रोग विशेषकर फेंफडों का इनफेक्शन है इसके अलावा जैसे मस्तिष्कै,  आंतें,  गुर्दे,  हड्डी व जोड इत्याहदि भी इस रोग से ग्रसित होते हैं।

लक्षण

  • लगातार हल्का बुखार तथा हरारत रहना।
  • भूख न लगाना या कम लगना तथा अचानक वजन कम हो जाना।
  • कमर की हड्डी में सूजन, घुटने में दर्द, घुटने मोड़ने में कठिनाई तथा गहरी सांस लेने में सीने में दर्द होना।
  • गर्दन में लिम्फ ग्रांथियों में सूजन, या फोड़ा होना।
  • पेट की क्षय रोगमें पेट दर्द, अतिसार या पेट फूलने जैसे लक्षण दिखाई देते हैं ।
  • थकावट होना तथा रात में पसीने आना
  • क्षय रोग न्यूमोनिया के लक्षण में तेज बुखार, खांसी व सीने में दर्द।

पहचान

क्षय रोग की पहचान का सबसे कारगर तरीका है बलगम की जांच करवाना। इससे रोग के जीवाणु सूक्ष्मषदर्शी द्वारा आसानी से देखे जा सकते हैं। क्षय रोग रोग के उपचार के लिये एक्स‍-रे करवाना, बलगम की जांच की अपेक्षा मंहगा तथा कम भरोसेमन्दउ उपाय है, फिर भी कुछ रोगियों के लिये एक्स -रे व अन्यर जांचों की आवश्यकता होती है।

बचाव

  • बच्चों को जन्मू के एक माह के अन्दर बीसीजी का टीका लगवायें।
  • रोगी खांसते व छींकतें वक्ता मुंह पर रूमाल रखें।
  • रोगी जगह-जगह नहीं थूंके।
  • क्षय रोग का पूर्ण इलाज ही सबसे बड़ा बचाव का साधन है।
  • अगर आप किसी क्षय रोगी से मिलने जा रहें हो तो मुंह पर मास्क लगाएं।
  • बाहर से आने पर अपने हाथों व पैरों को एंटीस्पेटिक साबुन से धोना चाहिए।
  • दो हफ्तों से अधिक समय तक खांसी रहती है, तो चिकित्सक को दिखायें।

इलाज के दैरान

घर पर ही रहें

अगर आपका क्षय रोगका इलाज चल रहा है तो आप पहले कुछ हफ्ते आफिस या स्कूल न जाएं।

हवादार कमरे में रहें

क्षय रोग के बैक्टेरीया छोटे कमरे में आसानी से फैलते हैं जहां हवा पास नहीं होती है।अगर ज्यादा ठंड नहीं हो तो खिड़कियों को खोल के रखें जिसे कमरे में हवा आ सके।

मुंह ढक कर रखें

टिश्यू पेपर से अपना मुंह हंसते या छींकते हुए ढ़क लें, उसके बाद गंदे टिश्यू को किसी थैली में बांध कर दूर फेंक दें।

मास्क पहनकर रहें

इलाज के पहले कुछ हफ्तें तक मुंह पर मास्क पहन कर रखें। इससे आसपास के लोगों में क्षय रोग के बैकटेरिया नहीं फैलेंगे।

Write a Review
Is it Helpful Article?YES61 Votes 20546 Views 2 Comments
प्रतिक्रिया दें
disclaimer

इस जानकारी की सटिकता, समयबद्धता और वास्‍तविकता सुनिश्‍चित करने का हर सम्‍भव प्रयास किया गया है । इसकी नैतिक जि़म्‍मेदारी ओन्‍लीमाईहैल्‍थ की नहीं है । डिस्‍क्‍लेमर:ओन्‍लीमाईहैल्‍थ पर उपलब्‍ध सभी साम्रगी केवल पाठकों की जानकारी और ज्ञानवर्धन के लिए दी गई है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्‍सक से अवश्‍य संपर्क करें। हमारा उद्देश्‍य आपको रोचक और ज्ञानवर्धक जानकारी मुहैया कराना मात्र है। आपका चिकित्‍सक आपकी सेहत के बारे में बेहतर जानता है और उसकी सलाह का कोई विकल्‍प नहीं है।

टिप्पणियाँ
  • Rakesh10 Jul 2012

    thanx 4 your detail about Tuberclosis.

  • bha13 Apr 2012

    ihave no cogh but my ESR is 98 give homeopathy treatment . i have also bladdar infection

संबंधित जानकारी
  • सभी
  • लेख
  • स्लाइडशो
  • वीडियो
  • प्रश्नोत्तर