शादी के बाद के सालों में ज्यादा खुश रहते हैं जोड़े

By  , ओन्‍ली माई हैल्‍थ सम्पादकीय विभाग
Mar 22, 2016
Comment

हेल्‍थ संबंधी जानकारी के लिए सब्‍सक्राइब करें

Like onlymyhealth on Facebook!

ऑस्ट्रेलिया के शोधकर्ताओं के एक शोध से आए परिणामों के मुताबिक सबसे खुशहाल दंपति वे होते हैं जिनकी शादी को 40 साल से ज्यादा वक्त साथ पूरा हो गया हो। ऑस्ट्रेलिया स्थित देकिन विश्वविद्यालय में हुए इस अध्ययन में 2000 लोगों से विवाह को लेकर उनकी खुशी के बारे में सवाल किये गए और फिर उनके जवाबों के आधार पर उन्हें 0 से 100 के बीच अंक दिए गए।
    
अधिकांश लोगों को इसमें औसतन 75 अंक मिले और जिन लोगों की नयी-नयी शादी हुई थी, या फिर शादी के पहले साल वाले लोगों को औसतन 73.9 अंक मिले। जबकि वे दंपति जिनकी शादी को चार दशक से अधिक समय साथ हो गया था, उन्हें औसतन 79.8 अंक मिले।

 

Happy Life  After Wedding in Hindi

    

मुख्य अध्ययनकर्ता मेलिसा विनबर्ग के अनुसार, यह थोड़ा अप्रत्याशित है क्योंकि आम धारणा होती है कि नवविवाहित जोड़े सबसे अधिक खुश रहते हैं जबकि वास्तविकता इससे उलट होती है। बकौल विनबर्ग, लोग कल्पना करते हैं कि उनकी शादी का दिन उनकी जिंदगी का सबसे खुशनुमा दिल होगा। और जब वह दिन आता है तो लोग बेहद खुश रहते हैं, लेकिन धीरे-धीरे यह खुशी कम होती जाती है। हालांकि अध्ययन के परिणाम थोड़े अलग हैं।
    
एक दूसरे अध्ययन में भी इस शोध के परिणामों का समर्थन किया है, और कहा गया कि शादी के दूसरे या तीसरे साल में दंपति की खुशी में इज़ाफा होने लगता है।
    
शोधकर्ताओं ने बताया कि विवाहित लोग अवविवाहित, तलाकशुदा आदि लोगों से ज्यादा खुश रहते हैं। वहीं विवाहित महिलाएं विवाहित पुरुषों की तुलना में अधिक खुश रहती हैं।


Image Source - Getty

Read More Health News In Hindi

Write a Review
Is it Helpful Article?YES1124 Views 0 Comment
प्रतिक्रिया दें
disclaimer

इस जानकारी की सटिकता, समयबद्धता और वास्‍तविकता सुनिश्‍चित करने का हर सम्‍भव प्रयास किया गया है । इसकी नैतिक जि़म्‍मेदारी ओन्‍लीमाईहैल्‍थ की नहीं है । डिस्‍क्‍लेमर:ओन्‍लीमाईहैल्‍थ पर उपलब्‍ध सभी साम्रगी केवल पाठकों की जानकारी और ज्ञानवर्धन के लिए दी गई है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्‍सक से अवश्‍य संपर्क करें। हमारा उद्देश्‍य आपको रोचक और ज्ञानवर्धक जानकारी मुहैया कराना मात्र है। आपका चिकित्‍सक आपकी सेहत के बारे में बेहतर जानता है और उसकी सलाह का कोई विकल्‍प नहीं है।

संबंधित जानकारी
  • सभी
  • लेख
  • स्लाइडशो
  • वीडियो
  • प्रश्नोत्तर