निकट दृष्टि दोष के कारणों को जानें

By  , ओन्‍ली माई हैल्‍थ सम्पादकीय विभाग
Aug 13, 2014
Comment

Subscribe for daily wellness inspiration

Like onlymyhealth on Facebook!

Quick Bites

  • निकट दृष्टिदोष को मायोपिया के नाम से भी जानते हैं।
  • मायोपिया होने पर पास की चीजें धुंधली दिखायी देती हैं।
  • बहुत देर तक कंप्यूटर पर काम करने से यह समस्या हो सकती है।
  • समय-समय पर आंखों की जांच करवाते रहनी चाहिए।

दृष्टिदोष दो तरह के होते हैं। निकट दृष्टिदोष(मायोपिया) और दूरदृष्टि दोष (हायपरोपिया)। जब आपको दूर की चीज साफ दिखायी ना दे या धुंधली नजर आए तो यह निकट दृष्टि दोष का लक्षण हो सकता है। जैसे अगर कोई व्यक्ति निकट दृष्टिदोष से ग्रस्त हैं तो वो हाइवे के साइन को नहीं देख पाएगा भले ही वो कुछ दूरी पर ही क्यों ना हो।    
myopia causes

निकट दृष्टिदोष क्या है

जब कभी चीज की इमेज रेटिना पर न बनकर, उससे पहले ही बन जाती है तो चीज धुंधला दिखाई देने लगती हैं। इस स्थिति को मायोपिया कहा जाता है। इसमें आमतौर पर दूर की चीजें धुंधली दिखाई देती हैं। चश्मा या कॉन्टैक्ट लेंस लगाकर इस स्थिति में सुधार किया जाता है। मायोपिया कई मामलों में शुरुआती छोटी उम्र में भी हो सकता है। यानी 6 साल के आसपास भी मायोपिया आ सकता है।

कारण

डॉक्टरो की मानें तो सबसे ज्यादा लोग मायोपिया से प्रभावित हैं। बचपन में देखने की क्षमता का विकास होता और किशोरावस्था में आंख की लंबाई बढ़ती है लेकिन निकट दृष्टि दोष होने की वजह से यह कुछ ज्यादा ही बढ़ जाती है। ऐसी स्थिति में आंख में जानेवाला प्रकाश रेटिना पर केंद्रित नहीं होता। इसी वजह से तस्वीर धुंधली दिखाई देती है लेकिन इस दोष को कांटैक्ट लेंस या सर्जरी से ठीक कराया जा सकता है। गौरतलब है कि जिन लोगों को दो मीटर या ६.६ फीट की दूरी के बाद चीजें धुंधली दिखती है उन्हें मायोपिया का शिकार माना जाता है।

पारिवारिक इतिहास

अगर माता-पिता में से किसी एक को भी यह समस्या होती हैं तो बच्चे में इस बीमारी की आशंका बढ़ जाती है।

आंखों का प्रयोग

मायोपिया इस बात पर भी निर्भर करता है कि व्यक्ति अपनी आंखों का प्रयोग कैसे करता है। जैसे अगर वो बहुत ज्यादा देर तक कंप्यूटर पर काम करता है या किताब को बहुत पास से या लंबे समय तक टेलीविजन देखता है तो मायोपिया का खतरा बढ़ जाता है।

causes of myopia in hindi

निकट दृष्टिदोष के लक्षण

जो लोग निकट दृष्टिदोष से ग्रस्त होते हैं उन्हें ड्राइविंग, खेल या कुछ फीट नीचे देखने के दौरान सिरदर्द, आंखों पर दबाव, चक्कर जैसी समस्याओं का सामना करना पड़ता है। बच्चों में जब यह समस्या होती है तो वो अक्सर यह शिकायत करते हैं कि उन्हें स्कूल में ब्लैकबोर्ड साफ नहीं दिखता है।

निकट दृष्टि दोष का इलाज

मायोपिया अगर गंभीर ना हो तो चश्मा लगाकर या कांटैक्ट लेंस लगाकर इस समस्या से निजात पा सकते हैं। इसके अलावा अगर स्थिति गंभीर हो तो ऐसी स्थिति में रिफ्रैक्टिव सर्जरी लैसिक ही इसका उपचार है। लासिक या कार्निया में एक पतला सा गोल फ्लैप तैयार किया जाता है। इसके बाद एक्समायर लेजर से फ्लैप को हटाकर उसके नीचे के कुछ टिश्यूज निकाले जाते हैं और पुन: उस भाग को फ्लैप से ढक दिया जाता है।

Write Comment Read ReviewDisclaimer Feedback
Is it Helpful Article?YES25 Votes 6155 Views 0 Comment
संबंधित जानकारी
  • सभी
  • लेख
  • स्लाइडशो
  • वीडियो
  • प्रश्नोत्तर