बढ़ती उम्र के साथ ही क्‍यों बढ़ने लगता है घुटने में दर्द

By  , ओन्‍ली माई हैल्‍थ सम्पादकीय विभाग
Oct 22, 2014
Comment

हेल्‍थ संबंधी जानकारी के लिए सब्‍सक्राइब करें

Like onlymyhealth on Facebook!

Quick Bites

  • उम्र बढ़ने के साथ ही हमारे घुटनों में होने लगता है दर्द।
  • ऑस्‍टियोपोरोसिस के कारण पड़ता है घुटनों पर बुरा असर। 
  • मोटापे के कारण घुटने की हड्डियों पर पड़ता है अधिक दबाव। 
  • मांसपेशियों का सिकुड़ना भी हो सकता है घुटने में दर्द का कारण।

अकसर हम लोगों को घुटने में दर्द की शिकायत करते देखते हैं। इनमें बड़ी उम्र के लोगों के साथ-साथ सामान्‍य आयु के लोग भी शामिल होते हैं। लेकिन अधिक उम्र में ऐसे लोगों की तादाद ज्‍यादा हो जाती है। क्‍या घुटने में दर्द होना सामान्‍य है। या फिर इससे बच पाना संभव है। क्‍या वजह है कि उम्र के साथ-साथ हमारे घुटनों में दर्द होने लगता है। इन सब सवालों के जवाब जानने के लिए पढ़ें यह लेख।

ब्रिटेन में हुए एक शोध के मुताबिक 65 वर्ष से अधिक आयु के लोगों में घुटने का दर्द सामान्‍य है। 50 वर्ष की आयु से ऊपर की करीब दो तिहाई महिलाओं को किसी न किसी रूप से घुटने में दर्द की शिकायत होती है। यह शोध जर्नल अर्थराइटिस एंड रहेयूमेटिज्‍म में प्रकाशित हुआ है।

knee pain in old age in hindi

अधिक उम्र और घुटने में दर्द में संबंध

शरीर के किसी अन्‍य जोड़ की ही तरह हमारे घुटने भी लगातार गुरुत्‍वाकर्षण के विरुद्ध काम करते हैं। हर कदम के साथ हमारे जोड़ों पर कोई न कोई असर जरूर पड़ता है। उम्र अधिक होने तक हम काफी चल चुके होते हैं और इससे जोड़ों को अधिक नुकसान होने लगता है। इसके साथ ही इस बात का खयाल रखना भी जरूरी है कि उम्र के साथ-साथ कई अन्‍य चीजें भी घुटने में दर्द के लिए जिम्‍मेदार हो सकती हैं। जानते हैं कि अन्‍य संभावित कारण कौन से हैं:

ऑस्टियोपो‍रोसिस

ऑस्टियोपो‍रोसिस अब केवल अधिक उम्र के लोगों की बीमारी नहीं रह गयी है। अमेरिका में 24 वर्ष की आयु के करीब 14 प्रतिशत लोगों को ऑस्टियोपो‍रोसिस की शिकायत है। इस प्रकार के अर्थराइटिस में घुटने की हड्डियों की रक्षा करने वाली कार्टिलेज टूट जाती है। इससे आपके घुटने में दर्द होने की आशंका और बढ़ जाती है। 65 वर्ष की आयु के बाद ऑस्टियोपो‍रोसिस से पीडि़त लोगों की तादाद 34 फीसदी हो जाती है। विशेषज्ञों ने पता लगाया है कि अधिक उम्र के अधिकतर लोगों में घुटने में दर्द की बड़ी वजह ऑस्टियोपो‍रोसिस होता है।

मोटापा

मोटापा घुटने में दर्द की एक और बड़ी वजह है। शरीर का अधिक भार हमारे घुटनों को ही उठाना पड़ता है। अधिक वजन के कारण घुटनों पर जो अधिक भार पड़ता है उसके कारण जोड़ों को अधिक नुकसान होता है। अधिक उम्र के साथ यदि आपका वजन भी अधिक है तो इससे ऑस्टियोपो‍रोसिस
होने का खतरा और बढ़ जाता है।

मांसपेशियों में बदलाव

20 से 60 वर्ष की आयु के बीच हमारी मांसपेशियां 40 फीसदी तक सिकुड़ जाती हैं। इससे उनकी शक्ति में कमी आती है। जब हम चलते हैं या फिर अन्‍य शारीरिक गति‍विधियां करते हैं तो हमारे कूल्‍हों और टांगों की मांसपेशियों का कुछ भार उठा लेती हैं। लेकिन, उम्र के साथ उन मांसपेशियों में बदलाव हो जाता है। इसके कारण टांगों पर अधिक दबाव पड़ता है। और यही वजह है कि हमारे घुटनों में दर्द होने लगता है।

घुटनों को रखें सुरक्षित

ऐसा नहीं है कि बढ़ती उम्र के साथ घुटनों को किसी प्रकार की परेशानी से बचाया नहीं जा सकता है। कुछ बातों का खयाल रखकर आप अपने घुटनों में होने वाले संभावित दर्द को कम कर सकते हैं। शोधकर्ताओं ने ऐसे कुछ उपाय सुझायें हैं जिन्‍हे अपनाकर आप घुटनों की तकलीफ को कम कर सकते हैं।

knee pain with week muscle in hindi

वजन कम करें

शोधकताओं ने पता लगाया है कि शारीरिक असक्रियता मोटापे से ग्रस्‍त लोगों को घुटने के ऑस्टियोपो‍रोसिस का खतरा बढ़ा देती है। केवल पांच फीसदी वजन कम करके ही घुटने के दर्द को कम किया जाता है।

व्‍यायाम

व्‍यायाम भी आपके घुटनों को मजबूत रखने में मदद करता है। स्‍ट्रेंथ ट्रेनिंग या पैदल चलना घुटने के अर्थराइटिस से ग्रस्‍त मरीजों के लिए मददगार साबित हो सकता है। घुटने में दर्द कम होने से प्रतिभागी आसानी से घूम फिर सकते हैं। साथ ही उन्‍हें अपने रोजमर्रा के काम करने में भी आसानी होती है। इससे आपको दवाओं जितना ही फायदा होता है।

और आखिर में इस बात का खयाल रखें कि अगर आप उम्र संबंधी घुटने की समस्‍याओं से पीडि़त होने को आम मानते हैं और समझते हैं कि ऐसा तो होना ही है, तो इस बात को जान लें कि दुनिया में कई ऐसे लोग हैं जिन्‍हें यह समस्‍या नहीं है। तो आपको इससे बचने के प्रयास करने चाहिये। अपने आहार को सही रखें, व्‍यायाम करें और दिनचर्या को संतुलित रखें। इन सब बातों से आप घुटने में दर्द के संभावित खतरे को दूर रख सकते हैं।

Write a Review
Is it Helpful Article?YES42 Votes 2390 Views 1 Comment
प्रतिक्रिया दें
disclaimer

इस जानकारी की सटिकता, समयबद्धता और वास्‍तविकता सुनिश्‍चित करने का हर सम्‍भव प्रयास किया गया है । इसकी नैतिक जि़म्‍मेदारी ओन्‍लीमाईहैल्‍थ की नहीं है । डिस्‍क्‍लेमर:ओन्‍लीमाईहैल्‍थ पर उपलब्‍ध सभी साम्रगी केवल पाठकों की जानकारी और ज्ञानवर्धन के लिए दी गई है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्‍सक से अवश्‍य संपर्क करें। हमारा उद्देश्‍य आपको रोचक और ज्ञानवर्धक जानकारी मुहैया कराना मात्र है। आपका चिकित्‍सक आपकी सेहत के बारे में बेहतर जानता है और उसकी सलाह का कोई विकल्‍प नहीं है।

टिप्पणियाँ
  • Neeraj Singh 28 Oct 2014

    Badhati umra ke sath kayi prakar ki samsyaye hone lagti hai, ye baat sach hai, lekin log un samsyao ke bare me nahi jaan paate hain. Apka ye lekh un logo me jagrukta failane ke liye bahut prabhavi hai jo badhati umra ke karan hone wali samsyao ko nazarandaz karate hain.

संबंधित जानकारी
  • सभी
  • लेख
  • स्लाइडशो
  • वीडियो
  • प्रश्नोत्तर