ब्लीच करते हुए ध्यान रखें ये बातें

By  , ओन्‍ली माई हैल्‍थ सम्पादकीय विभाग
Jun 07, 2013
Comment

हेल्‍थ संबंधी जानकारी के लिए सब्‍सक्राइब करें

Like onlymyhealth on Facebook!

चेहरे को साफ-सुथरा व कांतिमय बनाने के लिए 'ब्लीच' एक बेहतर विकल्प है। ब्लीच त्वचा के अनचाहे बालों का रंग इतना हल्‍का कर देता है, कि उनका दिखना कम हो जाता है। साथ ही इससे त्‍वचा में निखार भी आ जाता है। ब्लीच त्वचा कोमल बनाने के साथ-साथ उसका पोषण भी करती है।

ब्‍लीच से पहले और बाद में फर्क

 

यह अनचाहे बालों को छुपाने की अच्‍छी तकनीक है। ब्लीचिंग एक ऐसा तरीका है, जिससे बिना खींचतान और चेहरे को नुकसान पहुचाएं अनचाहे बालों को छुपाया जा सकता हैं। इसके अलावा टैनिन को रिमूव करने के लिए भी ब्लीच बहुत हद तक कारगर है।

[इसे भी पढ़ें : सौंदर्य निखार के उपाय]


ब्लीच से चेहरे के अनचाहे बालों से तो छुटकारा मिलता ही है, साथ ही चेहरे का आकर्षण भी बढ़ जाता है। अगर आप भी अनचाहे बालों को ब्‍लीच से छिपाना चाहती है तो आपको थोड़ी सावधानी बरतनी होगी, नहीं तो ब्‍लीच आपको नुकसान पहुंचा देगी। आइए हम आपको बताते है वह बातें जिनको ध्‍यान में रखकर आप बिना किसी नुकसान के अपनी त्‍वचा पर ब्‍लीच कर सकती हैं।

 

 त्वचा पर ब्लीच करते हुए ध्यान रखें ये बातें


  • ब्लीच चेहरे के अनचाहे बालों को छुपाने का काम करती है, लेकिन हर किसी की स्किन अलग होती है इसलिए पहली बार ब्‍लीच लगने पर इसके मिश्रण को पहले कान, कोहनी या अन्य जगह पर लगाकर देखें।

 

[इसे भी पढ़ें : त्वचा की देखभाल कैसे की जाए]


  • त्वचा में तेज जलन होने पर मिश्रण में क्रीम की मात्रा बढ़ाएं नही तो जहां पर भी ब्‍लीच लगाई है उस हिस्‍से को ठन्‍डे पानी से धो लें।
  • ब्लीच को कभी आंखों, आई ब्रो, होठों व सिर के बालों पर न लगने दें। फिर भी अगर गलती से लग जाये तो तुरंत पानी से धो देना चाहिए।
  • हमेशा ब्रांडेड कंपनी का ही ब्लीच इस्तेमाल करें।
  • ब्लीच का अधिक इस्तेमाल आपकी त्वचा के लिए नुकसानदेह हो सकता है। इसलिए ब्‍लीच का यूज जल्‍दी-जल्‍दी नही करना चाहिए।
  • ब्लीच से अगर एलर्जी होकर लाल रंग के दाने आ जाये तो तुरंत ब्लीच हटाकर उस स्‍थान को ठन्‍डे पानी से धोना या बर्फ का टुकड़ा मलना चाहिए।    
  • ब्लीच करने के बाद साबुन या फेसवास का यूज नहीं करना चाहिए। इसके स्‍थान पर ब्लीच के बाद क्रीम से हल्‍की मसाज करनी चाहिए।

 

[इसे भी पढ़ें : ब्लीचिंग क्‍या है]

 

  • आंखों में जलन होने पर आंखों पर गुलाब जल की पट्टी रखनी चाहिए। चेहरे पर चोट हो तो ब्लीच नही करनी चाहिए।
  • नाजुक व संवेदनशील त्‍वचा वाली महिलाओं को ब्‍लीच नहीं कराना चाहिए।
  • चेहरे या शरीर के किसी हिस्‍से में कट, निशान या जख्‍म हो तो वहां भूलकर भी ब्‍लीच न कराएं। जिन्‍हें अस्‍थमा की शिकायत हो, उन्हें भी ब्लीच नहीं करवानी चाहिए।
  • ब्लीच आपकी स्किन के टेक्सचर को ध्यान में रखकर की जाती है, इसलिए बेहतर होगा कि आप किसी अच्छे ब्यूटी क्लीनिक में जाकर ही ब्लीच करवाएं, क्योंकि वहां आपकी स्किन की जांच करके ब्लीच की जाएगी।
  • ब्लीच शुरू करने के पहले चेहरे को क्लींजिंग मिल्क या बर्फ के पानी से साफ कर लेना चाहिए। इससे ब्लीच अच्छी तरह से होती है।
  • सूर्य की रोशनी से आने के तुरंत बाद ब्लीच नहीं करवानी चाहिए। ऑफ्टर ब्लीच सनगार्ड लगाकर ही धूप में बाहर निकलें।




Read More Articles on Beauty Tips in Hindi

Write a Review
Is it Helpful Article?YES63 Votes 15092 Views 0 Comment
प्रतिक्रिया दें
disclaimer

इस जानकारी की सटिकता, समयबद्धता और वास्‍तविकता सुनिश्‍चित करने का हर सम्‍भव प्रयास किया गया है । इसकी नैतिक जि़म्‍मेदारी ओन्‍लीमाईहैल्‍थ की नहीं है । डिस्‍क्‍लेमर:ओन्‍लीमाईहैल्‍थ पर उपलब्‍ध सभी साम्रगी केवल पाठकों की जानकारी और ज्ञानवर्धन के लिए दी गई है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्‍सक से अवश्‍य संपर्क करें। हमारा उद्देश्‍य आपको रोचक और ज्ञानवर्धक जानकारी मुहैया कराना मात्र है। आपका चिकित्‍सक आपकी सेहत के बारे में बेहतर जानता है और उसकी सलाह का कोई विकल्‍प नहीं है।

संबंधित जानकारी
  • सभी
  • लेख
  • स्लाइडशो
  • वीडियो
  • प्रश्नोत्तर