कैसे बनायें डाइट चार्ट

By  , ओन्‍ली माई हैल्‍थ सम्पादकीय विभाग
May 06, 2013
Comment

हेल्‍थ संबंधी जानकारी के लिए सब्‍सक्राइब करें

Like onlymyhealth on Facebook!

फिट रखने के लिए सबसे जरूरी है डायट चार्ट का पालन करना। क्‍या आपने कभी यह सोचा है कि आपको खाने के साथ कितनी कैलोरी और विटामिन, कार्बोहाड्रेट जैसे पोषणयुक्‍त आहार की कितनी जरूरत है।

kaise banaye diet chartबदलती लाइफस्‍टाइल और व्‍यस्‍त दिनचर्या के कारण डाइट चार्ट को फालो करना मुश्किल है। लेकिन आपको बीमारियों से दूर रखने में डाइट चार्ट बहुत मदद करता है। डाइट चार्ट के अनुसार खाने से मोटापा, डायबिटीज, एसिडिटी, ब्‍लड प्रेशर, कैंसर जैसी घातक बीमारियां नही होती हैं।

यदि आप डाइट चार्ट बना रहे हैं तो उसे मौसम के हिसाब से ही बनायें। जैसे कि गर्मी के मौसम में पानी और अन्‍य लिक्विड पदार्थ ज्‍यादा होने चाहिए। सर्दी में मीट और डेयरी उत्‍पादों को भी शामिल कर सकते हैं। इसके अलावा सीजनल और हरी सब्जियों को जरूर डाइट चार्ट में शामिल कीजिए। आइए हम आपको कुछ टिप्‍स दे रहे हैं जो आपका डाइट चार्ट बनाने में मददगार होंगे।

 

[इसे भी पढ़ें : बच्‍चों के लिए डाइट चार्ट]

 

डाइट चार्ट -

सुबह-सुबह - सुबह की शुरूआत ज्‍यादा भारी खाने से बचें। आप एक गिलास दूध मलाई रहित लीजिए, इसके अलावा 3-4 बादाम भी दूध के साथ ख सकते हैं।


सुबह नौ बजे - यह समय ब्रेकफास्‍ट का है, ज्‍यादातर लोग इस समय अपने काम की शुरूआत करते हैं। नाश्‍ते में अंकुरित अनाज एक प्लेट मिक्स या वेजीटेबल उपमा ले सकते हैं। इसके साथ ग्रीन टी या एक गिलास जूस भी फायदेमंद होगा।


दोपहर यानी लंच -  दोपहर 12 बजे लंच का समय होता है। इस समय खाना खा सकते हैं। दो चपाती चौकर सहित, छिलके वाली दाल एक कटोरी, चावल आधा कटोरी, हरी सब्जी एक कटोरी, दही एक कटोरी, सलाद एक प्लेट शामिल करना आपके स्‍वास्‍थ्‍य के लिए फायदेमंद होगा साथ ही इनमें भरपूर मात्रा में पोषण होता है जो शरीर को हेल्‍दी रखता है।

 

[इसे भी पढ़ें : डाइट चार्ट से वजन कम करने के टिप्‍स]

 

तीन या चार बजे के बीच - लंच करने के लगभग तीन घंटे बाद हल्‍का सा नाश्‍ता करना चाहिए। इसके लिए चाय एक कप, भेल एक प्लेट या दो बिस्किट, कोई भी सीजनल एक फल (इसमें सेव, संतरा, कच्चा जाम, अनार, नाशपती आदि) ले सकते हैं।


रात यानी डिनर - डिनर में दोपहर जैसा खाना ले सकते हैं। रात के खाने में चावल ज्‍यादा मात्रा में शामिल न करें। इसमें दाल, दो चपाती, हल्‍का चावल, एक कप दही और एक प्‍लेट सलाद लीजिए। सोने से करीब तीन घंटे पहले डिनर करना चाहिए, इससे खाना अच्‍छे से डाइजेस्‍ट हो जाता है और पेट की समस्‍या (कब्‍ज और एसिडिटी) नही होती है।


सोने से पहले - डिनर करने के करीब एक घंटे बाद एक फल या दूध आधा गिलास लीजिए, जूस भी ले सकते हैं।


डाइट चार्ट बनाने के बाद उसका नियमित पालन कीजिए, पानी ज्‍यादा पीजिए। हल्के-फुल्के व्यायाम तथा सुबह की सैर को अपनी दिनचर्या में अवश्य शामिल करना चाहिए।

 

 

Read More Articles on Diet and Nutrition in Hindi

Write a Review
Is it Helpful Article?YES23 Votes 9867 Views 0 Comment
प्रतिक्रिया दें
disclaimer

इस जानकारी की सटिकता, समयबद्धता और वास्‍तविकता सुनिश्‍चित करने का हर सम्‍भव प्रयास किया गया है । इसकी नैतिक जि़म्‍मेदारी ओन्‍लीमाईहैल्‍थ की नहीं है । डिस्‍क्‍लेमर:ओन्‍लीमाईहैल्‍थ पर उपलब्‍ध सभी साम्रगी केवल पाठकों की जानकारी और ज्ञानवर्धन के लिए दी गई है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्‍सक से अवश्‍य संपर्क करें। हमारा उद्देश्‍य आपको रोचक और ज्ञानवर्धक जानकारी मुहैया कराना मात्र है। आपका चिकित्‍सक आपकी सेहत के बारे में बेहतर जानता है और उसकी सलाह का कोई विकल्‍प नहीं है।

संबंधित जानकारी
  • सभी
  • लेख
  • स्लाइडशो
  • वीडियो
  • प्रश्नोत्तर