कहीं आप ‘चिपकू’ गर्लफ्रेंड तो नहीं

By  , ओन्‍ली माई हैल्‍थ सम्पादकीय विभाग
Jan 24, 2013
Comment

हेल्‍थ संबंधी जानकारी के लिए सब्‍सक्राइब करें

Like onlymyhealth on Facebook!

kahin aap chipku girlfriend toh nahi

किसी को प्यार करना और हर पल उसके साथ रहना... यही तो होती है हर प्यार करने वाले की चाहत। लेकिन, करीबी इतनी भी न हो कि सामने वाले का दम घुटने लगे।

 

बेशक, आप अपने बॉयफ्रेंड से बहुत प्यार करती हैं। अपनी जिंदगी के हर लम्हा आप उनके साथ बिताना चाहती हैं, लेकिन रिश्तों में इतनी जगह हमेशा रहनी चाहिए कि वो सांस ले सके। तो बेहतर यही है कि आप ‘चिपकू’ न बनें और उनकी स्वतंत्रता का भी सम्मान करें।

 

[इसे भी पढ़ें: नए रिश्ते बनाने के टिप्स]

 

कौन हैं चिपकू गर्लफ्रेंड

आप उन पर निगाह रखती हैं। आप चाहती हैं कि उनकी हर हरकत, हर आदत और उनसे जुड़ी हर बात आपको पता हो। लेकिन, कई बार आपकी यह ख्वाहिश कब निजता की सीमा लांघ जाती है, पता ही नहीं चलता। नतीजतन, आपका व्यवहार, भले ही वह प्यार क्यों न हो, ‘चिपकूपन’ लगने लगता है। याद रखिए ज्यादा मीठा भी जहर हो जाता है। प्यार का अहसास कराने के और भी रास्ते हैं, जरा उनके बारे में भी सोचकर देखिए।
‘चिपकू’ गर्लफ्रेंड का यह कतई मतलब नहीं है कि आप बुरी गर्लफ्रेंड हैं। आपसी रिश्ते में जब प्यार और समझ का अभाव आता है, चाहे इसके पीछे कारण कुछ भी रहे हों, उनमें कहीं न कहीं असुरक्षा की भावना घर करने लगती है। उन्हें अपने साथी को खोने या उससे दूर होने का डर लगने लगता है। वे किसी भी कीमत पर उसे खोना नहीं चाहते, लिहाजा वे आपने साथी का प्यार व ध्यान आकर्षित करने के लिए ये रास्ता अपनाते हैं।

 

[इसे भी पढ़ें: जानें क्या सोचता है आपका बॉयफ्रेंड]

 

‘चिपकू’ गर्लफ्रेंड के लक्षणों को जानें

 

नीचे दिए गए चिपकू गर्लफ्रेंड के लक्षणों को जानें

 

रिश्तों में जरूरी है स्पेस

यह ‘चिपकू’ गर्लफ्रेंड का सबसे बड़ा लक्षण है जिसकी वजह से बॉयफ्रेंड उससे दूर भागता हैं। क्या आप अपने बॉययफ्रेंड को उसके चीजों के लिए पर्याप्त समय देती हैं? लड़कों को अपनी आजादी या कहें निजता बहुत प्यारी होती हैं, उन्हें अपने लिए समय की जरूरत होती हैं।

 

घंटो बात करने की चाहत

हो सकता है कि आपको हर रात बेड पर आराम से लेटकर उनसे घंटो फोन पर बात करना अच्छा लगता हो और आपका बॉयफ्रेंड भी रिश्ते की शुरुआत में इसे पसंद करता था, लेकिन बाद में इसमें कमी आ गई।  इसका मतलब यह बिल्कुल नहीं है कि अब वो आपको प्यार नहीं करते हैं। जब आपका बॉयफ्रेंड यह संकेत दे रहा है कि वो फोन पर कम बात करना चाहता है तो उस पर बात करने के लिए जोर डालने की जगह कुछ दिनों तक आप भी उसे कम फोन करें। इससे वे आपको और आपके फोन को मिस करेंगे।

[इसे भी पढ़ें:  क्या आपका प्रेमी स्वार्थी है]

 

बॉयफ्रेंड पर निर्भर

अपने दोस्तो के साथ बाहर जाएं। बाहर घूमने व मस्ती करने के लिए हमेशा बॉयफ्रेंड का इंतजार ना करें। अगर आप ‘चिपकू’ गर्लफ्रेंड का तमगा हटाना चाहती हैं तो खुद की इज्जत करें और उनके फोन व इशारों पर निर्भर ना रहें। अपने बॉयफ्रेंड को अपनी लाइफ का हिस्सा बनाएं, ना कि उन्हें अपनी जिंदगी समझें।  

दोस्तों से मिलने पर रोक

अक्सर लड़कियों को यह शिकायत होती है कि लड़के अपने दोस्तों  को ज्यादा तरजीह देते हैं। लेकिन, आपको यह समझने की जरूरत है कि दोस्तो भी उनकी जिंदगी का अहम हिस्सा है। अगर आप बार-बार उन्हें दोस्तों  से दूर होने को कहने लगेंगी तो इसका असर आपके रिश्ते पर भी पड़ेगा। हां, हो सकता है कि आपके बॉयफ्रेंड के कुछ ऐसे दोस्त हों जो बुरी प्रवृति के हों लेकिन आप उनसे मिलने पर गुस्सा करने की जगह बॉयफ्रेंड को अपनी गलतियों से सीखने में मदद करें। उन्हें समझाने की कोशिश करें उन दोस्तों की संगति में रहकर वे भी ऐसे ही हो जाएंगे।

[इसे भी पढ़ें: फर्स्ट डेट पर क्या करें]

 

मदद की उम्मीद

हमेशा लड़को से मदद की उम्मीद रखना गलत है। उन्हें भी कभी मदद की जरूरत हो सकती है ऐसे में अगर आप अपने बॉयफ्रेंड को सुरक्षात्मक एहसास दिलाती हैं तो यह आपके रिश्ते के लिए अच्छा होगा। लड़कों को यह चीज काफी पसंद आती है। उनसे मदद के बारे में पूछने पर उन्हें अच्छा लगता है लेकिन ध्यान रहें बार-बार पूछना उन्हें नाराज भी कर सकता है। तो इस मामले में सही संतुलन होना जरूरी है। मदद के लिए सही तरीके से पूछें इससे वो आपको और प्यार करेंगे।

 

असुरक्षा की भावना

क्या आप असुरक्षित महसूस करती हैं जब आपका बॉयफ्रेंड किसी लड़की से मिलता है? क्या आपको डर लगता है कि वो उसके लिए आपको छोड़ देगा? आपका ऐसा सोचना गलत है क्योंकि आपने कभी अपने ब्वॉयफ्रेंड के अलावा किसी और लड़के से बात नहीं की। अपने दोस्तों के साथ बाहर जाएं लोगों से मिले जुलें और अन्य लड़कों से बात करें। उसके बाद आपको पता चलेगा कि सिर्फ बात करने का मतलब यह नहीं है कि आपको उससे प्यार हो गया है। तभी आप अपने ब्वॉयफ्रेंड पर भरोसा कर पाएंगी।

 

[इसे भी पढ़ें: जानें लड़कियों को कैसे लड़के पसंद हैं]

 

शक करने की आदत

सिर्फ इसलिए कि वह देर रात तक अपनी दोस्त के साथ बाहर है या काम कर रहा है इसका मतलब यह नहीं है कि उनके बीच कुछ चल रहा है। क्या आपको सच में ऐसा लगता है कि आप अपने बॉयफ्रेंड को अफेयर करने से रोक पाएंगी अगर वो सच में ऐसा करना चाहता है। एक पुरुष व महिला तभी अफेयर होता है क्योंकि वे ऐसा चाहते हैं। आपका ब्वॉयफ्रेंड आपसे प्यार करता है लेकिन अगर आप बार-बार उस पर शक करेंगी तो वो आपसे दूर हो सकता है।

 

Read More Articles On Sex And Realtionship In Hindi

Write a Review
Is it Helpful Article?YES18 Votes 6376 Views 0 Comment
प्रतिक्रिया दें
disclaimer

इस जानकारी की सटिकता, समयबद्धता और वास्‍तविकता सुनिश्‍चित करने का हर सम्‍भव प्रयास किया गया है । इसकी नैतिक जि़म्‍मेदारी ओन्‍लीमाईहैल्‍थ की नहीं है । डिस्‍क्‍लेमर:ओन्‍लीमाईहैल्‍थ पर उपलब्‍ध सभी साम्रगी केवल पाठकों की जानकारी और ज्ञानवर्धन के लिए दी गई है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्‍सक से अवश्‍य संपर्क करें। हमारा उद्देश्‍य आपको रोचक और ज्ञानवर्धक जानकारी मुहैया कराना मात्र है। आपका चिकित्‍सक आपकी सेहत के बारे में बेहतर जानता है और उसकी सलाह का कोई विकल्‍प नहीं है।

संबंधित जानकारी
  • सभी
  • लेख
  • स्लाइडशो
  • वीडियो
  • प्रश्नोत्तर