जानें क्या करें जब अनिद्रा सताएं

By  , ओन्‍ली माई हैल्‍थ सम्पादकीय विभाग
Mar 04, 2015
Comment

हेल्‍थ संबंधी जानकारी के लिए सब्‍सक्राइब करें

Like onlymyhealth on Facebook!

Quick Bites

  • नींद एक प्राकृतिक उपहार होता है
  • तनाव से बढ़ती है अनिद्रा की शिकायत।
  • शरीर की थकावट से आती है अच्छी नींद।
  • अनिद्रा से हो सकती है कई बीमारियां।

आजकल की भागदौड़ भरी जिंदगी में हर इंसान को किसी ना किसी बात की चिंता रहती है। और वह चैन की नींद नहीं सो पाता। नींद न आना आज-कल सभी के लिए एक आम समस्या हो गई है। कई बार गलत दिनचर्या और खानपान के कारण भी नींद नहीं आती है। दिमाग की एक्टिविटीज से भी काफी हद तक नींद प्रभावित होती है। तनावग्रस्त व्यक्ति ही ज्यादातर नींद नहीं आने की समस्या से ग्रसित रहते हैं। अधिक थकान या जरूरत से ज्यादा आराम भी नींद नहीं आने का एक कारण है।

Sleepless

नींद ना आने के कारण

वैसे, ऐसे कई लोग हैं, जो चाहकर भी अच्छी नींद नहीं ले पाते। ऐसे लोग सुबह उठकर भी फ्रेश फील नहीं करते, पूरा दिन थके-थके से रहते हैं और छोटी-छोटी बातों पर गुस्सा करते रहते हैं। यही नहीं, वे तनाव में भी जल्दी आते हैं। शरीर के आराम के लिए सोना उतना ही जरूरी है जितना कि खाना। इससे दिनभर की थकान उतर जाती है। इसके साथ ही भरपूर नींद न केवल अच्छी त्वचा के लिए जरूरी है, बल्कि इसका असर पूरे शरीर पर भी पड़ता है। नींद ना आने से व्यक्ति की कार्यक्षमता और दिमाग पर भी विपरीत प्रभाव पड़ता है। इसलिए कुछ खास बातों का ध्यान रखें और ले मीठी नींद के मजे।

थोड़ा थक जाइए

थकान नींद के लिए बेस्ट होती है।अगर आप खुद को काम-काज में व्यस्त रखेंगे तो आपको दिन के अंत तक थकान का अहसास होगा। जो आपको चैन की नींद लेने में मदद करेंगा। हांलाकि भावनात्मक थकान के लिए नींद की कमी भी उतनी ही जिम्मेदार होती है, जितना जिम्मेदार तनाव होता है।इसलिए ध्यान रहें कि जबदस्ती का बोझ ना हो।

शांत जगह पर सोएं

सोते वक्त आपके आस-पास का वातावरण बिल्कुल शांत रहे, ताकि आप चैन से सो पाएं। अपने आस-पास होने वाले तेज शोर को बंद कर दें और आराम से सोने की कोशिश करें। इससे आपके मन को भी शांति मिलेगी।

Sleepless

कैफीन और एल्कोहल का इस्तेमाल कम करें

सोने के कम से कम दो घंटे पहले से ही कैफीन युक्त पदार्थ पीने से परहेज करना चाहिए क्योंकि कैफीन आपकी नींद उड़ा देता है। ज्यादा कैफीन अनिद्रा के लेवल को बढ़ाता है। साथ ही एल्कोहल भी ना लें। इससे भी नींद ना आने की समस्या हो जाती है।

नींद का हमारे पास कोई दूसरा विकल्प नहीं है। प्रकृति ने हमें नींद का अनमोल उपहार प्रदान किया है। अतः अनिद्रा को गंभीरता से लें तथा उसका कारण जानकर उसको दूर करने का प्रयास करें।

ImageCourtesy@GettyIamges

Read More Articles On- Sports Fitness in hindi

Write a Review
Is it Helpful Article?YES65 Votes 22229 Views 0 Comment
प्रतिक्रिया दें
disclaimer

इस जानकारी की सटिकता, समयबद्धता और वास्‍तविकता सुनिश्‍चित करने का हर सम्‍भव प्रयास किया गया है । इसकी नैतिक जि़म्‍मेदारी ओन्‍लीमाईहैल्‍थ की नहीं है । डिस्‍क्‍लेमर:ओन्‍लीमाईहैल्‍थ पर उपलब्‍ध सभी साम्रगी केवल पाठकों की जानकारी और ज्ञानवर्धन के लिए दी गई है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्‍सक से अवश्‍य संपर्क करें। हमारा उद्देश्‍य आपको रोचक और ज्ञानवर्धक जानकारी मुहैया कराना मात्र है। आपका चिकित्‍सक आपकी सेहत के बारे में बेहतर जानता है और उसकी सलाह का कोई विकल्‍प नहीं है।

संबंधित जानकारी
  • सभी
  • लेख
  • स्लाइडशो
  • वीडियो
  • प्रश्नोत्तर