आईवीएफ में फ्रोजन भ्रूण ज्यादा फायदेमंद

By  , ओन्‍ली माई हैल्‍थ सम्पादकीय विभाग
Jul 07, 2012
Comment

Subscribe for daily wellness inspiration

Like onlymyhealth on Facebook!

ivf me frozen bhroon jayda faydemand

आईवीएफ तकनीक से माता-पिता बनने की चाह रखने वाले दंपति के लिए यह खबर फायदेमंद हो सकती है। हाल ही में हुए एक रिसर्च में सामने आया है कि आईवीएफ तकनीक के दौरान अगर महिलाओं के गर्भ में ताजा भ्रूण की जगह फ्रोजन भ्रूण प्रत्यारोपित किया जाए तो इसके नतीजे बेहतर हो सकते हैं। वैज्ञानिकों का दावा है कि इससे संतान सुख पाने की संभावना ताजा भ्रूण के मुकाबले 30 फीसदी तक बढ़ जाती है।

बर्सिलोना स्थित हॉस्पिटल 'यूनिवर्सिटेरियो डेल मार' के इस शोध में कहा गया है कि फ्रोजन भ्रूण की मदद से संतान की इच्छा रखने वाले दंपति पर आईवीएफ तकनीक का कई बार इस्तेमाल संभव हो सकता है। महिलाओं को आईवीएफ के बाद सावधानी बरतने की सलाह दी जाती है।  वैज्ञानिकों मे बताया कि आईवीएफ तकनीक में अंडाशय से अधिक मात्रा में अंडाणु उत्पादित करने के लिए विभिन्न तरह की दवाएं दी जाती है। इसकी वजह से महिलाओं का गर्भाशय भी प्रभावित होता है। ऐसा स्थिति में तुरंत भ्रूण को प्रत्यारोपित करने से संतान सुख पाने की संभावना कम हो जाती है।

 

 

अंडाणु उत्पादित करने के लिए दवा से किए गए इलाज के बाद कुछ समय का अंतर रखने से संतान पाने की संभावना बढ़ जाती है। दरअसल इस प्रक्रिया में अंडाणु को कुछ समय के लिए फ्रिज में संरक्षित कर दिया जाता है और गर्भाशय के इलाज के दौरान इस्तेमाल की गई दवा के प्रभावों के समाप्त होने के बाद संरक्षित भ्रूण को गर्भ में आरोपित कर दिया जाता है।

Write Comment Read ReviewDisclaimer Feedback
Is it Helpful Article?YES9 Votes 17505 Views 0 Comment
संबंधित जानकारी
  • सभी
  • लेख
  • स्लाइडशो
  • वीडियो
  • प्रश्नोत्तर