क्या ओवरी का कैंसर अनुवांशिक है

By  , ओन्‍ली माई हैल्‍थ सम्पादकीय विभाग
Dec 05, 2011
Comment

हेल्‍थ संबंधी जानकारी के लिए सब्‍सक्राइब करें

Like onlymyhealth on Facebook!

kya ovary ka cancer anuvanshik hai

कैंसर आज देश में एक बहुत बड़ी समस्या है। कैंसर के कई कारण होते हैं। लेकिन कुछ कैंसर ऐसे हैं जिनका एक ही कारण होता है, और वह है वंशानुगत। जी हां कुछ कैंसर ऐसे होते हैं जो वंशानुगत होते है। जैसे कैंसर पीडि़त व्यक्ति के घर में या उसके माता-पिता में से पहले कोई उस कैंसर से पीडि़त हो चुका हो। आमतौर पर वंशानुगत कैंसर महिलाओं में या उनकी बेटियों में अधिक पाए जाते है। इनमें से ब्रेस्ट कैंसर और ओवरी का कैंसर मुख्य हैं। ओवरी का कैंसर वह कैंसर है जिसमें ओवरी में किसी तरह का विकार होने या घाव होने से कैंसर हो जाता है। जिन महिलाओं को ओवरी का कैंसर हो चुका हो उनकी बेटी को खासतौर पर इसका ध्यान रखना जरूरी होता है। आइए जानें इस बात में वाकई कितनी सच्चाई है कि क्या ओवरी का कैंसर आनुवांशिक है या यह सिर्फ एक मिथ है।

 

  • शोधों मे यह बात साबित हो चुकी है कि ओवरी का कैंसर वंशानुगत है। यदि किसी महिला की मां या फिर घर की बड़ी महिला को ओवरी का कैंसर हो चुका है तो उस महिला को ओवरी का कैंसर होने की आशंका सामान्य महिला से दोगुनी बढ़ जाती है।
  • हालांकि आमतौर पर देखा गया है कि ओवरी का कैंसर जैसी समस्या महिलाओं में मीनोपोज या फिर 40 की उम्र पार करने के बाद होती है लेकिन महिलाओं में उनके पूर्वजों के जीन आने से ओवरियन कैंसर समय से पहले भी हो सकता है।
  • ओवरी का कैंसर आनुवांशिक होने के कारण इसे वंशानुगत ओवरियन कैंसर के नाम से जाना जाता है। ये कैंसर परिवार के जीन्स में से ही होता है, इसीलिए इसकी पहचान भी वंशानुगत ओवरियन कैंसर से की जाती है।
  • महिलाओं में होने वाला ओवरी का कैंसर आमतौर पर वंशानुगत ही होता है। शोधों के मुताबिक, ओवरियन कैंसर से पीडि़त 10 फीसदी महिलाएं ऐसी हैं जिनको वंशानुगत कैंसर है।
  • वंशानुगत ओवरी का कैंसर कम उम्र की महिलाओं को ही अपनी चपेट में ले लेता है।
  • यदि एक पीढ़ी से दूसरी पीढ़ी में वंशानुगत ओवरी कैंसर होता है तो इसके आने वाली पीढि़यों में भी होने की आशंका लगभग50 फीसदी होती है।
  • कुछ ऐसे वंशानुगत सिंड्रोम या जींन्स होते हैं जो कि ओवरी के कैंसर को बढ़ाने में या पनपने में मदद करते हैं।
  • बीआरसीए 1 और बीआरसीए 2 ऐसे जीन हैं जिनसे ओवरी कैंसर के पनपने में मदद मिलती है। जिन महिलाओं में ये जीन पाए जाते हैं उनमें लाइफटाइम ओवरियन कैंसर होने का जोखिम बढ़ 10 से 60 फीसदी बढ़ जाता है और आने वाली पीढ़ी को भी इसका खतरा रहता है।

    अब तो आप समझ ही गए होंगे कि ओवरी को कैंसर होने का एक प्रमुख कारण वंशानुगत है। यदि किसी महिला के घर में किसी को ओवरी कैंसर हुआ हो तो शुरूआत में ही उसके लक्षणों को पहचान कर सही उपचार करना शुरू कर देना चाहिए। जिससे समय रहते ओवरिन कैंसर के खतरे को टाला जा सकें।
Write a Review
Is it Helpful Article?YES24 Votes 14912 Views 1 Comment
प्रतिक्रिया दें
disclaimer

इस जानकारी की सटिकता, समयबद्धता और वास्‍तविकता सुनिश्‍चित करने का हर सम्‍भव प्रयास किया गया है । इसकी नैतिक जि़म्‍मेदारी ओन्‍लीमाईहैल्‍थ की नहीं है । डिस्‍क्‍लेमर:ओन्‍लीमाईहैल्‍थ पर उपलब्‍ध सभी साम्रगी केवल पाठकों की जानकारी और ज्ञानवर्धन के लिए दी गई है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्‍सक से अवश्‍य संपर्क करें। हमारा उद्देश्‍य आपको रोचक और ज्ञानवर्धक जानकारी मुहैया कराना मात्र है। आपका चिकित्‍सक आपकी सेहत के बारे में बेहतर जानता है और उसकी सलाह का कोई विकल्‍प नहीं है।

टिप्पणियाँ
  • reeta04 May 2012

    good information

संबंधित जानकारी
  • सभी
  • लेख
  • स्लाइडशो
  • वीडियो
  • प्रश्नोत्तर