क्या तेज पसीना आने पर वाकई कम हो जाता है बुखार

By  , ओन्‍ली माई हैल्‍थ सम्पादकीय विभाग
Dec 29, 2015
Comment

हेल्‍थ संबंधी जानकारी के लिए सब्‍सक्राइब करें

Like onlymyhealth on Facebook!

Quick Bites

  • मरीज को कंबल और अन्य गर्म कपड़ो से लाद देने सही नहीं है।
  • बुखार काबू करने के लिये शरीर का तापमान कम करना चाहिये।
  • बेहतर होगा कि आप बुखार में हल्का कम्बल ही मरीर को उढाएं।
  • पानी से स्पॉन्जिंग कर तापमान को नियंत्रित किया जा सकता है।

आमतौर पर देखा जात है कि लोगों की ऐसा मानना होता है कि अगर बुखार (fever) हो तो रोगी को पसीना लाना चाहिये। और इसके लिये लोग रोगी को कंबल और रजाई से लाद भी देते हैं। लेकिन क्या वाकई अगर कोई व्‍यक्ति बुखार से पीड़ित है, तो उसे पसीना लाने के लिए इस तरह से रज़ाई और कंबल से ढ़कना सही है? और अगर ऐसा है तो क्या शरीर का तापमान कम करने के इससे बेहतर तरीके भी हैं? चलिये इस मामले को एक्पर्ट्स से बात कर ठीक से समझने की कोशिश करते हैं -

 

क्या कहते हैं एक्सपर्ट

इस बारे में दिल्ली स्थित आईएलबीएस हॉस्पिटल्स में चिकित्‍सा विभाग के डॉ. रमन कुमार कहते हैं कि बुखार के रोगी पर कपड़े लाद देना सही नहीं है।
डॉ कुमार के मुताबिक, बुखार होने पर मरीज को कंबल और अन्य गर्म कपड़ो से लाद देने से बेहतर है कि पानी में भिगोकर स्पंज करें। बुखार को काबू में करने के लिये मुख्‍य उद्देश्‍य शरीर का तापमान कम करना होता है। वैसे सबसे बेहतर तो यही होता है कि बुखार होने पर डॉक्टर को दिखा कर उचित दवा लें और साथ में शरीर के तापमान को सामान्य करने के लिये पानी में भिगोकर शरीर पर स्पंज करें।

 

Sweating Reduces Fever in Hindi

 

पसीने से बुखार कम होने की बात मिथक है

ये केवल एक मिथक है कि ठंड की वजह से शरीर का तापमान बढ़ जाता है और कंपकपी होने लगती है। दरअसल वायरल होने पर शरीर वायरस या बैक्टीरिया से लड़ने के लिए तापमान को बढ़ाकर रक्त वाहिकाओं को सिकोड़ देता है। वास्तव में तो रक्त वाहिकाओं के सिकुड़ने की वजह से ही शरीर में  कारण ही कंपकपी होती है। ऐसे में लोग मरीज के नीचे और ऊपर कई सारे कंबल बिछा देते हैं, जबकि ऐसा करने से तो शरीर का तापमान और ज्‍यादा बढ़ जाता है। और शरीर का तापमान बहुत ज्यादा हो जाना घातक हो सकता है। तो बेहतर होगा कि आप हल्का कम्बल ही मरीर को उढाएं।


दरअसल ये एक मिथक मात्र ही है कि बुखार में मरीज को पसीना आने से वह ठीक हो जाएगा। कंबल और स्‍वेटर का इस्‍तेमाल सर्दियों में बाहरी पाले और शीत हवाओं से बचने के लिए किया जाता है। बुखार के मरीज को तो हल्का सा कंबल उढा देना ही काफी होता है। बल्कि पानी से स्पॉन्जिंग करने से तापमान को नियंत्रित किया जा सकता है। इसके अलावा कमरे का तापमान सही रखने और रोगी को हल्‍के गर्म पानी से नहलाना भी लाभदायक होता है।



Image Source - Getty

Read More Articles On Healthy Living in Hindi

Write a Review Feedback
Is it Helpful Article?YES8 Votes 3678 Views 0 Comment
प्रतिक्रिया दें
disclaimer

इस जानकारी की सटिकता, समयबद्धता और वास्‍तविकता सुनिश्‍चित करने का हर सम्‍भव प्रयास किया गया है । इसकी नैतिक जि़म्‍मेदारी ओन्‍लीमाईहैल्‍थ की नहीं है । डिस्‍क्‍लेमर:ओन्‍लीमाईहैल्‍थ पर उपलब्‍ध सभी साम्रगी केवल पाठकों की जानकारी और ज्ञानवर्धन के लिए दी गई है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्‍सक से अवश्‍य संपर्क करें। हमारा उद्देश्‍य आपको रोचक और ज्ञानवर्धक जानकारी मुहैया कराना मात्र है। आपका चिकित्‍सक आपकी सेहत के बारे में बेहतर जानता है और उसकी सलाह का कोई विकल्‍प नहीं है।

संबंधित जानकारी
  • सभी
  • लेख
  • स्लाइडशो
  • वीडियो
  • प्रश्नोत्तर