क्या मस्टेक्टॉमी के बाद दर्द होना सामान्य है?

By  , ओन्‍ली माई हैल्‍थ सम्पादकीय विभाग
Jul 23, 2015
Comment

Subscribe for daily wellness inspiration

Like onlymyhealth on Facebook!

Quick Bites

  • मस्टेक्टॉमी सर्जरी के ज़रिये स्तनों को निकाल दिया जाता है।
  • ब्रैस्ट कैंसर होने पर लिया जाता है मस्टेक्टॉमी सर्जरी का सहारा।
  • दर्द के प्रकार पर निर्भर करता है, इसका क्या होगा इलाज।
  • ब्रैस्ट सर्जरी अर्थात मस्टेक्टॉमी के बाद दर्द होना संभव है।

ब्रैस्ट की सर्जरी आजकल बेहद आम हो गई है। स्तन कैंसर के चलते इसे स्तन या दोनों स्तनों को निकालने के लिये किया जाता है, जिसे मस्टेक्टॉमी के नाम से भी जाना जाता है। 2013 में हॉलीवुड की मशहूर अदाकारा एंजेलिना जोली ने खुलासा किया है कि उन्होंने अपने शरीर में स्तन कैंसर का खतरा पैदा करने वाले बीआरसीए-1 जीन का पता चलने के बाद अपने दोनों स्तनों को मस्टेक्टॉमी सर्जरी के जरिये निकलवा दिया था। लेकिन क्या मस्टेक्टॉमी के बाद दर्द होना सामान्य है? चलिये विस्तार से जानें -

Pain After Mastectomy Surgery in Hindi

 

मस्टेक्टॉमी के बाद दर्द

मस्टेक्टॉमी अर्थात ब्रैस्ट सर्जरी के बाद दर्द होना कोई नई घटना नहीं है। ब्रैस्ट कैंसर के लिये कई ऑपरेश्नों से गुजर चुकी एक महिला पर शोध से पता चला कि 25 और 50 प्रतिशत रोगियों ने स्तनों की सर्जरी के दो से तीन साल बाद दर्द की सूचना दी।

ब्रैस्ट कैंसर सर्जरी जटिल हो सकती है, और इससे तंत्रिका क्षति हो सकती है। इसके कारण फैंटम ब्रैस्ट पेन सहित, सीने में दर्द हो सकता है। आम तौर पर दर्द रहित उत्तेजनाओं अब दर्द के रूप में माना जा सकता है। आमतौर पर पहले दर्द रहित उत्तेजनाएं अब दर्द के साथ देखी जाती हैं। कई बार सर्जरी की जगह जलने जैसी संवेदना और खिंचाव वाला दर्द भी हो सकता है।

 

Pain After Mastectomy Surgery in Hindi

 

मस्टेक्टॉमी के बाद दर्द का इलाज

सर्जरी के बाद स्तन में दर्द का इलाज, दर्द के प्रकार पर निर्भर करता है। चलिये जानें कि ऐसी स्थिति में किस प्रकार के दर्द का इलाज किस तरीके से किया जाता है। -

  • तंत्रिका संबंधी दर्द का इलाज ओवर-द-काउंटर या पर्चे पर लिख कर दी गई दर्द निवारक दवाएं देकर किया जा सकता है। स्थानीय निश्चेतक भी तंत्रिका क्षति की वजह से होने वाले दर्द को दूर करने में मदद कर सकते हैं।
  • त्वचा की सूजन का इलाज सामयिक दर्द की दवाएं जैसे कैप्ससिन (capsaicin) देकर किया जा सकता है। ये दवाएं इ स प्रकार के दर्द को ठीक करने में काफी असरदार होते हैं।
  • पेशियों में ऐंठन वाले दर्द को प्रभावी ढंग से 'onabotulinumtoxinA' का इंजेक्शन देकर ठीक किया जाता है।




एक्यूपंक्चर, एक्यूप्रेशर, रिलैक्शेशन ट्रैनिंग, बायोफीडबैक, सम्मोहन और योग सहित कई वैकल्पिक चिकित्साओं की मदद से दर्द को कम किया जा सकता है। लेकिन इसमें से किसी को भी अपनाने से पहले अपने डॉक्टर से बात करें।


Image Source - Getty


Read More Articles On Breast Cancer In Hindi.

Write Comment Read ReviewDisclaimer Feedback
Is it Helpful Article?YES4 Votes 1817 Views 0 Comment
संबंधित जानकारी
  • सभी
  • लेख
  • स्लाइडशो
  • वीडियो
  • प्रश्नोत्तर