भारत और जापान मिलकर खोजेंगे सिकल सेल का इलाज

By  , ओन्‍ली माई हैल्‍थ सम्पादकीय विभाग
Sep 01, 2014
Comment

हेल्‍थ संबंधी जानकारी के लिए सब्‍सक्राइब करें

Like onlymyhealth on Facebook!

india and japan sickle cell in hindiजापान और भारत सिकल सेल अनीमिया के इलाज खोजने की दिशा में मिलकर काम करेंगे। रविवार को दोनों देशों ने इस पर फैसला लिया। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने इस जानलेवा बीमारी का ईलाज खोजने में जापान से मदद मांगी थी। गौरतलब है कि यह बीमारी भारतीय की जन‍जातियों में काफी फैली हुई है।

प्रधानमंत्री मोदी इस बीमारी का निदान खोजने की दिशा में काफी समय से प्रयास कर रहे हैं। 2012 में जब उन्‍होंने बतौर गुजरात के मुख्‍यमंत्री जापान की क्‍योटो यूनिवर्सिटी का दौरा किया था तब उन्‍होंने मेडिसन के क्षेत्र में नोबेल पुरस्‍कार जीत चुके एस यामानाका से बातचीत की थी।


यामानाका क्‍योटो यूनिवर्सिटी के निदेशक भी हैं। प्रधानमंत्री ने अपने दौरे के दूसरे दिन स्‍टेम सेल रिसर्च फेसिलिटी की यात्रा की और यह आग्रह किया कि जापान इस दिशा में भारत की मदद करे।



सिकल सेल एक गंभीर डिस्‍ऑर्डर है जिसमें शरीर की लाल रक्‍त कोशिकायें अर्धचंद्राकार आकार में बढ़ती हैं। सामान्‍य रक्‍त कोशिकायें थाली के आकार की होती हैं। ये रक्‍त कोशिकायें रक्‍त वाहिनियों में से आसानी से बहती हैं। लाल रक्‍त कोशिकाओं में आयरन से भरपूर प्रोटीन होता है जिसे हीमोग्‍लोबिन कहा जाता है। यह प्रोटीन फेफड़ों से शरीर के अन्‍य हिस्‍सों तक ऑक्‍सीजन लेकर जाता है।

 

Image Courtesy- Getty Images

Write a Review
Is it Helpful Article?YES4 Votes 610 Views 0 Comment
प्रतिक्रिया दें
disclaimer

इस जानकारी की सटिकता, समयबद्धता और वास्‍तविकता सुनिश्‍चित करने का हर सम्‍भव प्रयास किया गया है । इसकी नैतिक जि़म्‍मेदारी ओन्‍लीमाईहैल्‍थ की नहीं है । डिस्‍क्‍लेमर:ओन्‍लीमाईहैल्‍थ पर उपलब्‍ध सभी साम्रगी केवल पाठकों की जानकारी और ज्ञानवर्धन के लिए दी गई है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्‍सक से अवश्‍य संपर्क करें। हमारा उद्देश्‍य आपको रोचक और ज्ञानवर्धक जानकारी मुहैया कराना मात्र है। आपका चिकित्‍सक आपकी सेहत के बारे में बेहतर जानता है और उसकी सलाह का कोई विकल्‍प नहीं है।

संबंधित जानकारी
  • सभी
  • लेख
  • स्लाइडशो
  • वीडियो
  • प्रश्नोत्तर