डेस्‍क पर खाने से बढ़ती है कार्यक्षमता

By  , ओन्‍ली माई हैल्‍थ सम्पादकीय विभाग
Aug 02, 2013
Comment

हेल्‍थ संबंधी जानकारी के लिए सब्‍सक्राइब करें

Like onlymyhealth on Facebook!

ऑफिस डेस्‍क पर खाना खाती लड़की

 

लंच टाइम को अक्‍सर लोग मौज मस्‍ती और काम के बीच से ब्रेक के तौर पर लेते हैं। इस वक्‍त अधिकतर लोग ऑफिस की कैंटीन में दोस्‍तों के साथ गप्‍पें मारते हुए भोजन करने को तरजीह देते हैं। लेकिन, एक ताजा शोध में यह बात सामने आयी है कि आपकी इस आदत का असर आपके काम पर पड़ता है। यह बात भले ही आपको हैरान करने वाली लगे, लेकिन शोधकर्ता इस बात को सही मानते हैं कि बाहर जाकर लंच करने से आपकी कार्यक्षमता पर बुरा असर पड़ता है।

 

शोधकर्ताओं की मानें तो अगर आप दिन में ऑफिस की कैंटीन में या कहीं बाहर जाकर खाना खाते हैं, तो आपको जल्‍दी ही अपनी इस आदत को बदल डालना चाहिए। उनका कहना है कि डेस्‍क पर खाना खाने से कर्मचारियों की कार्य क्षमता में इजाफा होता है।

 

बर्लिन स्थित 'हमबोल्‍ट यूनिवर्सिटी' के नए अध्‍ययन में शोधकर्ताओं ने दावा किया है कि डेस्‍क पर खाना खाने वाले कर्मचारियों की कार्य क्षमता अधिक होती है। उन्‍होंने बताया कि डेस्‍क पर खाना खाने वालों का ध्‍यान काम पर ही केंद्रित रहता है। उनका मस्तिष्‍क सक्रिय रहता है जिससे वे अच्‍छा प्रदर्शन करते हैं। इसके मुकाबले बाहर जाकर खाना खाने वालों का ध्‍यान काम से बंट जाता है।

 

इस दौरान उनके मस्तिष्‍क के कार्य करने की क्षमता भी घट जाती है जिससे वे दोबारा लौटकर उतना काम नहीं कर पाते। हालांकि इसका एक अन्‍य पहलू भी है। काम से ब्रेक लेकर बाहर जाकर खाने वाले लोग ज्‍यादा तरोताजा महसूस करते है जिससे उन्‍हें नई ऊर्जा मिलती है। ठोस निष्‍कर्ष प्राप्‍त करने के लिए शोधकर्ताओं ने ऑफिस कर्मियों पर परीक्षण किया।



शोधकर्ताओं ने पाया कि दोस्‍तों के साथ रेस्‍तरां में भोजन करने से संज्ञानात्‍मक नियंत्रण कम हो जाता है।



इस शोध में शामिल प्रतिभागियों ने एक तय वक्‍त में अपनी सीट पर बैठकर अकेले भोजन किया, या फिर अपने दोस्‍तों के साथ कुछ वक्‍त चलकर रेस्‍तरां तक गए और फिर एक घंटे का लंबा लंच ब्रेक लिया।



सभी आहार एक जैसे थे और उनकी मात्रा भी समान थी। भोजन के बाद जिन लोगों ने रेस्‍तरां में भोजन किया, वे उन लोगों के मुकाबले कम सजग और जोशीले नजर आए, जिन लोगों ने अपनी सीट पर बैठकर ही भोजन किया था।



संज्ञानात्‍मक नियंत्रण और न्‍यूरोफिजियॉलोजी स्‍तर पर भी उनका प्रदर्शन कम आंका गया। इसके साथ ही उनके काम में अधिक गलतियां भी पायीं गईं।



क्‍योंकि दोनो प्रकार के प्रतिभागियों के भोजन करने के तरीके में कई अंतर थे। दोनों का वातावरण अलग था, एक ओर समयबद्धता थी तो दूसरी ओर ऐसी कोई रोक नहीं थी। एक ओर दोस्‍त थे, तो दूसरी ओर व्‍यक्तियों ने अकेले ही भोजन किया। इन बातों के आधार पर शोधकर्ताओं का कहना था, '' इस समय हम यह नहीं बता सकते कि उपरोक्‍त कारणों में से कौन सी सबसे महत्‍वपूर्ण वजह है जिसके कारण यह नतीजे सामने आये हैं।'' यह शोध प्‍लॉस वन जनरल में प्रकाशित हुआ है।



Read More Health News In Hindi

Write a Review
Is it Helpful Article?YES946 Views 0 Comment
प्रतिक्रिया दें
disclaimer

इस जानकारी की सटिकता, समयबद्धता और वास्‍तविकता सुनिश्‍चित करने का हर सम्‍भव प्रयास किया गया है । इसकी नैतिक जि़म्‍मेदारी ओन्‍लीमाईहैल्‍थ की नहीं है । डिस्‍क्‍लेमर:ओन्‍लीमाईहैल्‍थ पर उपलब्‍ध सभी साम्रगी केवल पाठकों की जानकारी और ज्ञानवर्धन के लिए दी गई है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्‍सक से अवश्‍य संपर्क करें। हमारा उद्देश्‍य आपको रोचक और ज्ञानवर्धक जानकारी मुहैया कराना मात्र है। आपका चिकित्‍सक आपकी सेहत के बारे में बेहतर जानता है और उसकी सलाह का कोई विकल्‍प नहीं है।

संबंधित जानकारी
  • सभी
  • लेख
  • स्लाइडशो
  • वीडियो
  • प्रश्नोत्तर