आयरन युक्‍त इन सूखे मेवों का सेवन बढ़ाये रक्‍त में हीमोग्‍लोबिन

By  , ओन्‍ली माई हैल्‍थ सम्पादकीय विभाग
Feb 26, 2014
Comment

हेल्‍थ संबंधी जानकारी के लिए सब्‍सक्राइब करें

Like onlymyhealth on Facebook!

Quick Bites

  • हीमाग्लोबिन की कमी से शरीर की कार्यक्षमता पर पड़ता है असर।
  • काजू में पर्याप्‍त मात्रा में आयरन व अन्‍य पौष्टिक तत्‍व होते हैं।
  • महिलायें और बच्‍चे होते हैं अनीमिया से अधिक परेशान।
  • बादाम खाने से आयरन की कमी को किया जा सकता है दूर।

 

शरीर की कोशिकाओं को जिंदा रहने के लिए ऑक्‍सीजन की जरूरत होती है। ऑक्‍सीजन युक्‍त लाल रक्‍त कोशिकायें शरीर के अलग-अलग हिस्‍सों में हीमोग्‍लोबिन पहुंचाती हैं। आयरन की कमी और दूसरे कारणों से जब शरीर में लाल रक्‍त कोशिकाओं ओर हीमोग्‍लोबिन की मात्रा कम हो जाती है, तो उस परिस्थिति को अनीमिया कहा जाता है। लाल रक्‍त कोशिकाओं और हीमोग्लोबिन की कमी से कोशिकाओं को पर्याप्‍त मात्रा में ऑक्‍सीजन नहीं मिल पाती।  ऑक्सीजन की कमी से हमारे शरीर और दिमाग के काम करने की क्षमता पर असर पड़ता है।

अनीमिया क्‍या होता है

अनीमिया खून की सबसे सामान्य समस्या है। हमारे देश में आयरन की कमी से होने वाला अनीमिया सबसे ज्यादा पाया जाता है। अनीमिया के शिकार अधिकतर लोगों, करीब 90 फीसदी, में यही अनीमिया पाया जाता है। महिलाओं और बच्‍चों में अधिकतर यही अनीमिया होता है।


nuts benefits

क्‍या आपको मालूम है कि भारत में 56 फीसदी महिलायें अनीमिया से ग्रस्‍त हैं। राष्‍ट्रीय परिवार स्‍वास्‍थ्‍य सर्वे 2005-2006 के मुताबिक हर दूसरी महिला के शरीर में आयरन की कमी है। आयरन की कमी अनीमिया का सबसे बड़ा कारण होता है। केवल महिलायें ही नहीं पुरुष और यहां तक कि छोटे बच्‍चे भी अनीमिया से पीड़ित हैं। अनीमिया से त्‍वचा में पीलापन, भूख और घबराहट, चक्कर आना, उनींदापन, कमजोरी, थकान व अन्‍य कई प्रकार की स्‍वास्‍थ्‍य हानियां होती हैं। इतना ही नहीं अनीमिया का असर सेक्‍सुअल स्‍वास्‍थ्‍य पर भी पड़ता है। यहां यह बात भी ध्‍यान देने योग्‍य है कि पुरुषों को जहां रोजाना 8 मिलीग्राम आयरन की जरूरत होती है, वहीं महिलाओं को 18 मिलीग्राम आयरन की आवश्‍यकता होती है।



शरीर में आयरन की कमी होने पर सिरदर्द, नर्वस, यादादश्‍त पर असर और एकाग्रता में कमी देखी जाती है। इसके साथ ही व्‍यक्ति की कार्यक्षमता पर भी बुरा असर पड़ता है। लेकिन, इतना घबराने की जरूरत नहीं है। रक्‍त में आयरन की कमी अथवा अनीमिया कोई ऐसा रोग अथवा समस्‍या नहीं है जिसका समाधान न तलाशा जा सके। अपने आहार में छह मेवों को शामिल कर आप बढ़ा सकते हैं।


काजू

काजू न केवल खाने में स्‍वाद होता है, बल्कि इसमें कई पौष्टिक गुण भी होते हैं। दस ग्राम काजू में 0.3 ग्राम तक आयरन होता है। रोजाना दस ग्राम काजू का सेवन करने से आपको आयरन की पर्याप्‍त मात्रा मिल जाती है। काजू की तासीर गर्म होती है इसलिए भारत जैसे गर्म देश में इसका सेवन सीमित मात्रा में करने की ही सलाह दी जाती है। रक्त की कमी वाले रोगियों को सर्दी में रोजाना काजू खाना चाहिए। काजू पाचन शक्ति बढ़ाता है। इससे भूख अधिक लगती है। आंतों में भरी गैस बाहर निकलती है।

 

nuts for red blood cells

चिलगोजा

दस ग्राम चिलगोजा में 0.6 मिलीग्राम आयरन होता है। इस सूखे मेवे का सेवन कच्‍चा अथवा भूनकर किया जा सकता है। चिलगोजा रक्‍त में हीमोग्‍लोबिन की मात्रा बढ़ाने का काम करता है।

पिंगल फल

पिंगल फल को पहाड़ी बादाम भी कहा जाता है। पिंगल फल आयरन का उच्‍च स्रोत होता है। 14 ग्राम पिंगल फल में 0.7 मिलीग्राम आयरन होता है। इतना ही नहीं इसमें कैल्शियम, मैग्‍नीशियम और विटामिन बी भी काफी अधिक मात्रा में होता है। ये सब पोषक तत्‍व मिलकर हमारे शरीर को स्‍वस्‍थ बनाने में मदद करते हैं।


मूंगफली

दो चम्‍मच पीनट बटर में 0.6 मिलीग्राम आयरन होता है। पीनट बटर में वसा की मात्रा तो कम होती ही है साथ ही इसमें पोटेशियम, मैग्‍नीशियम और विटामिन बी भी प्रचुर मात्रा में पाया जाता है। इससे हमारी सेहत पर काफी सकारात्‍मक प्रभाव पड़ते हैं।

 

nuts for haemoglobin

पिस्‍ता

जब बात आयरन युक्‍त मेवों की होती है, तो पिस्‍ता इस सूची में जरूर शामिल होता है। 28 ग्राम पिस्‍ते में 1.1 मिलीग्राम आयरन होता है। भारत में पिस्‍ता आसानी से मिल जाता है। पिस्‍ते में आयरन के साथ-साथ मैग्‍नीशियम और विटामिन बी भी होता है।


बादाम

दस ग्राम भूने हुए बादाम में 0.5 मिलीग्राम आयरन होता है। बादाम में कैल्शियम, मैग्‍नीशियम तो होता ही है साथ ही इतनी मात्रा में बादाम का सेवन करने से आप केवल 163 ग्राम कैलोरी का उपभोग करते हैं।



इन सूखे मेवों का सेवन संतुलित मात्रा में ही करना चाहिए। अधिक मात्रा में इनका सेवन करने से मोटापे के साथ-साथ अन्‍य कुछ स्‍वास्‍थ्‍य समस्‍यायें भी हो सकती हैं।

Write a Review
Is it Helpful Article?YES17 Votes 2851 Views 0 Comment
प्रतिक्रिया दें
disclaimer

इस जानकारी की सटिकता, समयबद्धता और वास्‍तविकता सुनिश्‍चित करने का हर सम्‍भव प्रयास किया गया है । इसकी नैतिक जि़म्‍मेदारी ओन्‍लीमाईहैल्‍थ की नहीं है । डिस्‍क्‍लेमर:ओन्‍लीमाईहैल्‍थ पर उपलब्‍ध सभी साम्रगी केवल पाठकों की जानकारी और ज्ञानवर्धन के लिए दी गई है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्‍सक से अवश्‍य संपर्क करें। हमारा उद्देश्‍य आपको रोचक और ज्ञानवर्धक जानकारी मुहैया कराना मात्र है। आपका चिकित्‍सक आपकी सेहत के बारे में बेहतर जानता है और उसकी सलाह का कोई विकल्‍प नहीं है।

संबंधित जानकारी
  • सभी
  • लेख
  • स्लाइडशो
  • वीडियो
  • प्रश्नोत्तर