हाइपरथाइराइडिज्म क्या है

By  , ओन्‍ली माई हैल्‍थ सम्पादकीय विभाग
Oct 20, 2012
Comment

हेल्‍थ संबंधी जानकारी के लिए सब्‍सक्राइब करें

Like onlymyhealth on Facebook!

hypothyroidism kya hai

हाइपरथाइराइडिज्म का अर्थ है कि आपकी थायराइड ग्रंथि कई थाइराइड हार्मोंन बना रही है। थायराइड एक तरह की ग्रंथि होती है जो गले में बिल्कुल सामने की ओर होती है। यह ग्रंथि आपके शरीर के मेटाबॉल्जिम को नियंत्रण करती है। यानी जो भोजन हम खाते हैं यह उसे उर्जा में बदलने का काम करती है। इसके अलावा यह आपके हृदय, मांसपेशियों, हड्डियों व कोलेस्ट्रोल को भी प्रभावित करती है।

 

इसे भी पढ़े- डायबीटीज व थायराइड में संबंध 

 

कैसे पहचानें हाइपरथाइराइडिज्म को

 

जब आपके शरीर में तेजी से थाइराइड हार्मोन बनने लगते हैं तो हो सकता है कि आपके शरीरे में कई बदलाव आने लगे जैसे तेजी से वजन कम या अधिक होना, हृदयगति तेज होना, ज्यादा पसीना आना या नर्वस महसूस करना व मूड में बदलाव आना। या फिर यह भी हो सकता है कि आपको कोई लक्षण ना दिखाई दे और जब आपका डॉक्टर किसी अन्य कारण की वजह से कुछ टेस्ट करवाए तो उसमें हाइपर थाइराइडिज्म का पता चले।

 

इसे भी पढ़े- तनाव से थायराइड

 

हाइपरथायराइडिज्‍म क्या है

 

हाइपरथाइराइडिज्म होने पर घबराने की जरूरत नहीं है इसका इलाज आसानी से किया जा सकता है। इसके लिए जरूरी है नियमित जांच व कुछ सावधानियां बरतने की। उसके बाद फिर से स्वस्थ जीवन जी सकते हैं। हाइपरथाइराइडज्मि की वजह से हृदय संबंधी व हड्डियों संबंधी गंभीर समस्या हो सकती है जिसे थाइराइड स्टॉर्म कहते हैं।

 

इसे भी पढ़े- थायराइड के लिए अश्वगंधा 

 

हाइपरथाइराइडिज्म के कारण

  • ग्रेव्स रोग हाइपरथाइराइडिज्म की बड़ी वजह है। इसमें थायरॉयड ग्रंथि से थायरॉयड हार्मोन का स्राव बहुत अधिक बढ़ जाता है। ग्रेव्स रोग ज्यादातर 20 और 40 की उम्र के बीच की महिलाओं को प्रभावित करता है हालांकि रोगियों में 12% पुरुष हैं। क्योंकि ग्रेव्स रोग आनुवंशिक कारकों से संबंधित वंशानुगत विकार है, इसलिए थाइराइड रोग एक ही परिवार में कई लोगों को प्रभावित कर सकता है।
  • विनाइन (नॉनकैन्सरस) थाइराइड ट्यूमर, जो कि अनियंत्रित ढंग से थाइराइड हार्मोन की बढ़ी हुई मात्रा को निकालता है।
  •  विषाक्त मल्टीनोडूलर गण्डमाला (गोईटर), ऐसी अवस्था जिसके कारण थायरॉयड ग्रंथि, कई विनाइन (नॉनकैन्सरस) थाइरोइड ट्यूमर की वजह से बड़ी हो जाती है और थायरॉयड हार्मोन के स्राव की मात्रा को बढ़ा देती है।

 

लक्षण

 

  • हो सकता है कि आपको इसके कोई लक्षण नहीं दिखाई दें
  • या हो सकता है कि नर्वस, मूडी, कमजोर या थका हुआ महसूस करना।
  • सांस लेने में समस्या, हृदय गति बढ़ना, हाथों का कांपना
  • ज्यादा पसीना आना, गर्मी लगना, त्वचा मे खुजली व लालिमा पैदा होना।
  • बाल झड़ने की समस्या होना।
  • पर्याप्त भोजन लेने के बाद भी तेजी से वजन कम होना।


 

अगर इनमें से कोई भी लक्षण दिखाई दे हैं तो तुरंत डॉक्टर से संपंर्क करें और उसे इन लक्षणों के बारे में बताएं।


Read More Article On- hypothyroidism in hindi

Write a Review
Is it Helpful Article?YES10 Votes 12573 Views 0 Comment
प्रतिक्रिया दें
disclaimer

इस जानकारी की सटिकता, समयबद्धता और वास्‍तविकता सुनिश्‍चित करने का हर सम्‍भव प्रयास किया गया है । इसकी नैतिक जि़म्‍मेदारी ओन्‍लीमाईहैल्‍थ की नहीं है । डिस्‍क्‍लेमर:ओन्‍लीमाईहैल्‍थ पर उपलब्‍ध सभी साम्रगी केवल पाठकों की जानकारी और ज्ञानवर्धन के लिए दी गई है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्‍सक से अवश्‍य संपर्क करें। हमारा उद्देश्‍य आपको रोचक और ज्ञानवर्धक जानकारी मुहैया कराना मात्र है। आपका चिकित्‍सक आपकी सेहत के बारे में बेहतर जानता है और उसकी सलाह का कोई विकल्‍प नहीं है।

संबंधित जानकारी
  • सभी
  • लेख
  • स्लाइडशो
  • वीडियो
  • प्रश्नोत्तर