कई जगह बटा होता है हमारे दिमाग का सर्वर

By  , ओन्‍ली माई हैल्‍थ सम्पादकीय विभाग
May 16, 2017
Comment

Subscribe for daily wellness inspiration

Like onlymyhealth on Facebook!

हम रोज बहुत से बिना बहुत ज्यादा दिमाग लगाने वाले काम करते हैं, मसलन सुबह उठकर दांत साफ करना, चाय पीना, अखबार पढ़ना आदि। दरअसल नियमित इस कामों को करने से हमें इन्हें करने की आदत पड़ जाती है इनमें ज्यादा दिमाग नहीं लगना पड़ता। इस तरह इन कामों से जुड़ी बातें हमारे दिमाग के सर्वर में ठीक से फीड हो जाती हैं। कई बार कुछ काम तो ऐसे होते हैं जिन्हें हम बिना आंखें खोले भी कर सकते हैं, जैसे सांस लेना, पानी पीना, आदि। ये हमारे दिमाग में तंत्रिकाओं के सर्वर की वजह से होता है। चलिये विस्तार से जानें खबर -

 

Brain Power in Hindi

 

नए कामों को करने के लिए तथा नई आदतों को डालने में दिमाग को मेहनत करनी पड़ती है। रोज़ाना अभ्यास से दिमाग इन नई चीज़ों की आदत डाल लेता हैं। वैज्ञानिकों ने हमारे दिमाग के काम करने की क्रिया को दो हिस्सों में बांटा है, जागृत/चेतन दिमाग (कॉन्शस माइंड) और अवचेतन मन (सबकॉन्शस माइंड)। रोज़ाना किये जाने वाले काम हमारे अवचेतन मन में ठीक से बैठ जाते हैं। वहीं किसी भी नए काम को करने के लिए हमारे चेतन दिमाग को मशक्कत करनी पड़ती है। दुनिया भर में अनेक वैज्ञानिक ये जानने की कोशिश में लगे हैं कि अवचेतन दिमाग से काम करने की अहमियत हमारे लिए क्या है? और हम इसका ज्यादा से ज्यादा फायदा कैसे उठा सकते हैं?


मानव के दिमाग के संबंध में शोध और जांच आदि करने वाले विशेषज्ञ अब इस निष्कर्ष पर पहुंचे हैं कि हमारे दिमाग का एक बड़ा हिस्सा अवचेतन या सबकॉन्शस रहता है। मसलन हमारे दिमाग के इस सर्वर में वो चीज़ें रहती हैं जो हम बाआदत करते हैं। और कॉन्शस माइंड शेष बचा बहुत छोटा हिस्सा ही होता है।


Image Source - Getty

Read More Health News In Hindi.

Write Comment Read ReviewDisclaimer Feedback
Is it Helpful Article?YES1 Vote 602 Views 0 Comment
संबंधित जानकारी
  • सभी
  • लेख
  • स्लाइडशो
  • वीडियो
  • प्रश्नोत्तर