हृदयाघात और कोरेनरी हार्ट डिजीज के उपचार के तरीके

By  , ओन्‍ली माई हैल्‍थ सम्पादकीय विभाग
May 08, 2015
Comment

हेल्‍थ संबंधी जानकारी के लिए सब्‍सक्राइब करें

Like onlymyhealth on Facebook!

Quick Bites

  • हार्ट अटैक आने पर मरीज को फौरन प्राथमिक उपचार दें।  
  • हृदयाघात आते ही पीड़ित को तत्काल एस्प्रिन की गोली दें।
  • पूरी जानकारी और सही समय पर उपचार बेहद जरूरी है।
  • चैस्ट कंप्रेशन्स के साथ सीपीआर शुरू करना चाहिए।

हृदयाघात और कोरेनरी हार्ट डिजीज का इलाज या इससे बचाव के लिये सबसे पहले हृदयाघात और कोरेनरी हार्ट डिजीज के बीच अन्तर समझना जरूरी है। जैसे हार्ट अटैक आने पर मरीज को फौरन प्राथमिक उपचार दिया जाना चाहिये और तत्काल अस्पताल ले जाकर इलाज शुरू कारना चाहिये। आराम भी इलाज का एक अहम हिस्सा होता है। अगर आइपॉक्सीमिया की शिकायत हो तो ऑक्सीजन थेरेपी देना फायदेमंद होता है। तो चलिये विस्तार से जानें हृदयाघात और कोरेनरी हार्ट डिजीज के उपचार से संबंधित जरूरी बाते क्या हैं।

 

हृदय को रक्त से ही पोषण व ऑक्सीजन मिलता है और यह काम कोरोनरी धमनियों की मदद से होता है। दरअसल हृदय दायें व बायें दो भागों में बटा होता है। हृदय के दाहिने व बाएं दोनों ओर दो चैम्बर क्रमशः एट्रिअल एवं वेंट्रिकल होते हैं। दाहिना भाग शरीर से दूषित रक्त को फेफडों में पम्प करता है और रक्त फेफडों में से साफ होकर ह्रदय के बायें भाग में वापस लौट आता है, जहां से वह शरीर में दोबारा पम्प कर दिया जाता है। यहां चार वॉल्व, दो बाईं ओर (मिट्रल एवं एओर्टिक) एवं दो दाईं ओर (पल्मोनरी एवं ट्राइक्यूस्पिड) रक्त के बहाव को दिशा देने के लिए एक दिशाद्वार के जैसे काम करते हैं।


जब एट्रिअल अर्थात अलिंद में ब्‍लॉकेज हो जाती है तो हृदय को पर्याप्‍त मात्रा में रक्‍त नहीं मिल पाता है और इस स्थिति को ही हार्ट अटैक कहा जाता है। यदि इस अलिंद को दोबारा खोल दिया जाए तो हृदयाघात से बचा जा सकता है। इसके लिए हृदयाघात के लक्षण नजर आते ही तत्काल एस्प्रिन की गोली लें। ऐसी स्थिति में चूसने वाली एस्प्रिन भी ली जा सकती है। अगर किसी व्‍यक्ति को अचानक बहुत तेज सीने में दर्द हो अथवा वह बेहोश होकर गिर जाए, तो भी यह हृदयाघात का ही लक्षण हो सकता है। ऐसे में व्‍यक्ति को तत्काल चिकित्‍सीय सहायता दी जानी चाहिये।

 

Coronary Heart Disease in Hindi

 

हृदयाघात की चिकित्सा

यदि किसी इंसान को हार्ट अटैक हो तो तत्काल आपातकालीन चिकित्सा सहायता को संपर्क करें। यदि आपने आपातकालीन प्रक्रियाओं के लिए प्रशिक्षण लिया हुआ है तो आप पीड़ित के सीने पर सीपीआर (कार्डियोपल्मोनरी रिसोसिटेशन) कर सकते हैं। यह शरीर और दिमाग को ऑक्सीजन देने में सहायता करता है।   

अमेरिकन हार्ट एसोसिएशन के दिशा निर्देशों के मुताबिक भले ही आपने सीपीआर का थोड़ा ही प्रशिक्षण लिया है, आपको ऐसी स्थिति में चैस्ट कंप्रेशन्स के साथ सीपीआर शुरू करना चाहिए। इसके लिए व्यक्ति की छाती पर 2 इंच (5 सेंटीमीटर) तक कंप्रेशन्स करना होता है। यदि आप सीपीआर के लिए प्रशिक्षित हैं तो रोगी की एयरवे की जांच करें और हर 30 कंप्रेशन्स के बाद उसे बचाव वाली सांस भी दें। यदि आप प्रशिक्षित नहीं हैं तो जब तक मदद नहीं आती कंप्रेशन्स करना चालू रखें।


Image Source - Getty
Read More Articles On Heart Health in Hindi.

Write a Review Feedback
Is it Helpful Article?YES15 Votes 3059 Views 0 Comment
प्रतिक्रिया दें
disclaimer

इस जानकारी की सटिकता, समयबद्धता और वास्‍तविकता सुनिश्‍चित करने का हर सम्‍भव प्रयास किया गया है । इसकी नैतिक जि़म्‍मेदारी ओन्‍लीमाईहैल्‍थ की नहीं है । डिस्‍क्‍लेमर:ओन्‍लीमाईहैल्‍थ पर उपलब्‍ध सभी साम्रगी केवल पाठकों की जानकारी और ज्ञानवर्धन के लिए दी गई है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्‍सक से अवश्‍य संपर्क करें। हमारा उद्देश्‍य आपको रोचक और ज्ञानवर्धक जानकारी मुहैया कराना मात्र है। आपका चिकित्‍सक आपकी सेहत के बारे में बेहतर जानता है और उसकी सलाह का कोई विकल्‍प नहीं है।

संबंधित जानकारी
  • सभी
  • लेख
  • स्लाइडशो
  • वीडियो
  • प्रश्नोत्तर