मच्‍छरों से छुटकारा पाने के कुदरती तरीके

By  , ओन्‍ली माई हैल्‍थ सम्पादकीय विभाग
Mar 27, 2014
Comment

हेल्‍थ संबंधी जानकारी के लिए सब्‍सक्राइब करें

Like onlymyhealth on Facebook!

Quick Bites

  • मच्‍छरों और कीटों से बीमारियां और संक्रमण होते हैं।
  • कटनीप, नीम और सिट्रोनेला के तेल से कीजिए बचाव।
  • लहसुन, लैवेंडर, सोया का तेल भी त्‍वचा पर लगाइये।
  • इन सबका घोल मिलाकर बनायें नैचुरल माइश्‍चरॉइजर।

मच्‍छरों और कीट पतंगों से बचाने के लिए लोग बाजार में मौजूद निरोधक का इस्‍तेमाल करते हैं, लेकिन इसकी वजह से त्‍वचा को नुकसान हो सकता है। जबकि इसकी जगह पर यदि आप प्राकृतिक निरोधक का प्रयोग करेंगे तो यह सुरक्षित भी है और कीटाणुओं से बचाव भी हो सकता है।

मच्‍छरों और अन्‍य कीटों से त्‍वचा को बहुत नुकसान होता है। मच्‍छरों के काटने से जानलेवा बीमारी हो सकती है वहीं दूसरी तरफ कुछ कीटाणु और पतंगे ऐसे हैं जो त्‍वचा में जलन और संक्रमण फैला सकते हैं।

इसके अलावा यदि आप प्राकृतिक निरोधकों का प्रयोग करते हैं तो यह आपके स्‍वास्‍थ्‍य के लिहाज से भी अच्‍छा है। इस लेख में जानिए कैसे बनायें कुदरती निरोधक।

Make Natural Repellants

कटनीप का प्रयोग

कटनीप को नेपेटा नाम से भी जाना जाता है, यह ऐसा हर्ब्‍स है जो बाजार में मिलने वाले निरोधकों से लगभग 8 गुना अधिक प्रभावशाली है। आयोवा स्‍टेट यूनिवर्सिटी ने इस पर शोध भी किया है। बाहर निकलने से पहले इसे त्‍वचा पर लगाकर निकलें।

 

सिट्रोनेला तेल

यह भी त्‍वचा को मच्‍छरों और अन्‍य कीटों से बचाता है। हालांकि यह कटनीप की तुलना में अधिक प्रभावशाली नहीं है लेकिन यह भी एक अच्‍छा विकल्‍प है।

लहसुन का प्रयोग

लहसुन न केवल स्‍वास्‍थ्‍य के लिए फायदेमंद है बल्कि इसका प्रयोग त्‍वचा पर करने से कीट और पतंगे भी दूर रहते हैं। लहसुन की खुश्‍बू मच्‍छर बर्दाश्‍त नहीं कर पाते, इसलिए यह भी एक अच्‍छा प्राकृतिक निरोधक है।
How to Make Natural Repellants

लैवेंडर का तेल

यह बहुत ही सुगंधित होता है, आमतौर पर मच्‍छरों और कीटों से बचाने वाला बहुत ही अच्‍छा निरोधक है। बादाम और नारियल तेल की तुलना में यह बहुत पतला है। इसे त्‍वचा पर लगाने से कीट त्‍वचा से दूर रहते हैं।

नीम का तेल

नीम बहुत ही गुणों वाला पौधा है और इसका तेल मच्‍छरों और कीटों के लिए अभिशाप की तरह है, नीम के बीजों से तेल निकाला जाता है। यूएस नेशनल रिसर्च काउंसिल ने इसे बहुत प्रभावशाली माना है। भारत में मलेरिया संस्‍थान के वैज्ञानिकों ने भी मलेरिया से बचाव के लिए नीम के तेल को लगाने की सलाह ही है।

सोया तेल

न्‍यू इंग्‍लैंड जर्नल में प्रकाशित एक शोध में सोया तेल को मच्‍छरों और संक्रमण फैलाने वाले कीटों से बचाने के लिए एक उपयोगी औ‍षधि माना है। सोया तेल बहुत ही आसानी से उपलब्‍ध हो जाता है, यह त्‍वचा के लिए बहुत ही अच्‍छा माइश्‍चरॉइजर है। इसलिए त्‍वचा को संक्रमण से बचाने के लिए सोया तेल का प्रयोग करें।

एक घोल बनायें

कटनीप, लेवेंडर, नीम, सिट्रोनेला, काली मिर्च की 6-6 बूंदे लेकर मिला लें, इनसे लगभग 30 मिली का कुदरती निरोधक माइश्‍चरॉइजर बन जायेगा। इन घोल को सीसे के जार में रखें और घर से बाहर निकलने से पहले इसका प्रयोग करें।

 

ये उपाय काफी कारगर है। मच्‍छरों से बचाने में ये उपाय काफी मदद करते हैं। इतना ही नहीं इनका उपयोग कर आप मच्‍छरों से होने वाली बीमारियों जैसे मलेरिया और डेंगू से भी बचे रह सकते हैं।

 

Read More Articles On Home Remedies in Hindi

Write a Review
Is it Helpful Article?YES219 Votes 19934 Views 0 Comment
प्रतिक्रिया दें
disclaimer

इस जानकारी की सटिकता, समयबद्धता और वास्‍तविकता सुनिश्‍चित करने का हर सम्‍भव प्रयास किया गया है । इसकी नैतिक जि़म्‍मेदारी ओन्‍लीमाईहैल्‍थ की नहीं है । डिस्‍क्‍लेमर:ओन्‍लीमाईहैल्‍थ पर उपलब्‍ध सभी साम्रगी केवल पाठकों की जानकारी और ज्ञानवर्धन के लिए दी गई है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्‍सक से अवश्‍य संपर्क करें। हमारा उद्देश्‍य आपको रोचक और ज्ञानवर्धक जानकारी मुहैया कराना मात्र है। आपका चिकित्‍सक आपकी सेहत के बारे में बेहतर जानता है और उसकी सलाह का कोई विकल्‍प नहीं है।

संबंधित जानकारी
  • सभी
  • लेख
  • स्लाइडशो
  • वीडियो
  • प्रश्नोत्तर