महज 11 मिनट में अनिद्रा को दूर भगाए कुंडलिनी योग

By  , ओन्‍ली माई हैल्‍थ सम्पादकीय विभाग
Mar 01, 2014
Comment

Subscribe for daily wellness inspiration

Like onlymyhealth on Facebook!

Quick Bites

  • योग हमें मानसिक और भावनात्‍मक रूप से शांत बनाता है।
  • अच्‍छी नींद के लिए मानसिक शांति होना जरूरी होता है।
  • नींद को दूर करने वाले विचारों पर रोक लगाता है योग।
  • महज 11 मिनट का प्राणायाम दिलाता है सुकून भरी नींद।

नींद कुदरत के सबसे नायाब तोहफों में से एक। लेकिन, कितने ही लोगों की रातें बिस्‍तर पर करवट बदलते-बदलते गुजर जाती हैं। मौसम कोई भी हो, लेकिन तमाम कोशिशों के बाद भी उन्‍हें नींद नहीं आती। दवाओं के अपने साइड इफेक्‍ट हैं और लोग अकसर इनका सेवन करने से बचना ही चाहते हैं। तो, फिर आखिर क्‍या किया जाए, जिससे नींद भी आ जाए और आपको किसी प्रकार की दवा का सेवन भी न करना पड़े।

yoga for better sleep
लेकिन, इसके लिए आप योग का सहारा ले सकते हैं। उग्र और अति सक्रिय मानसिक स्थिति आपको नींद से दूर रखती है। ऐसे में योग आपकी काफी मदद कर सकता है। योग आपको मानसिक रूप से शांत करता है, जिससे आपको नींद आती है। अनिद्रा से परेशान अधिकतर लोग इस बात की शिकायत करते हैं कि उनका मन शांत नहीं होता। दिमाग में आने वाले विचार उन्‍हें जगाए रखते हैं। वे इतने शांत हो ही नहीं पाते कि आसानी से सो पाएं। यह स्‍लीप डिस्‍ऑर्डर नहीं है, यह वास्‍तव में हमारे विचारों की वह प्रक्रिया है जिसे नियंत्रित और नियमित कर हम अनिद्रा को दूर रख सकते हैं।


सांस हो बेहतर
प्राणायाम के जरिये हम अपने सांसों की लय को सुधारते हैं। इससे तनाव को दूर रखने में मदद मिलती है। लेकिन, नींद न आने के पीछे केवल तनाव ही नहीं, बल्कि कई मानसिक और भावनात्‍मक कारण भी होते हैं। अनिद्रा को दूर कर सामान्‍य नींद पाने के लिए इन पक्षों पर भी ध्‍यान दिया जाना चाहिए।

कुंडलिनी योग बेहतर नींद के लिए जरूरी माना जाता है। रात को सोने से एक घंटा पहले यदि कुंडलिनी योग किया जाए तो आपको अनिद्रा से राहत मिलती है। दो महीने तक यह रोग करना आपकी सांसों की गति को बेहतर बनाता है और साथ ही आपकी एकाग्रता भी बढ़ाता है। इसके साथ ही इससे हमारा मन भी शांत रहता है।


yoga for better sleep
महज 11 मिनट की यह ब्रीथिंग एक्‍सरसाइज आपकी नींद को बेहतर और आरामदेह बना सकती है।

पहले एक से तीन मिनट- पेट से लंबी और गहरी सांसें लें।
फिर तीन से पांच मितट- बाहें 60 डिग्री के कोण पर खालें, आपकी हथेलियां फैली हुई हों।
पांच से सात मिनट- बाहें पूरी तरह फैला दीजिए। आपकी कलाइयां भी सपाट हों।
सात से नौ मिनट - अपनी दोनों हथेलियों को मिलाइए।
नौ से ग्‍यारह मिनट - दोनों हथेलियों को अपनी गोद में रखिये। स्‍मरण रहे आपकी दोनों हथेलियां ऊपर की ओर हों। बायीं हथेली नीचे हो और दायीं हथेली उसके ऊपर। दोनों उंगूठे एक दूसरे को छू रहे हों।

इस व्‍यायाम से नींद के घंटे और गुणवत्‍ता में इजाफा होता है। साथ ही बिस्‍तर पर जाने के बाद आपको नींद के लिए काफी अधिक समय तक इंतजार नहीं करना पड़ता।

Write Comment Read ReviewDisclaimer Feedback
Is it Helpful Article?YES347 Votes 24270 Views 0 Comment
संबंधित जानकारी
  • सभी
  • लेख
  • स्लाइडशो
  • वीडियो
  • प्रश्नोत्तर